Dhanbad

ग्लोबल इन्वेस्टर समिट के नाम पर हाथी नहीं रुपये उड़ा रही थी सरकार- कांग्रेस

Dhanbad: साल 2017 में हुए ग्लोबल इंवेस्टर्स समिट के दौरान हुए खर्च का विरोध करते हुए धनबाद कांग्रेस ने आज पदयात्रा निकाली.

इस दौरान हुए खर्च की जांच एंटी करप्शन ब्यूरो से कराने की मांग को लेकर धनबाद जिला महिला कांग्रेस की तरफ से आज रणधीर वर्मा चौक से एक पदयात्रा निकाली गयी. विपक्ष का आरोप है कि दो दिनों के कार्यक्रम के लिए विज्ञापन में पानी की तरह पैसा बहाया गया.

इसे भी पढ़ेंःधनबादः सांकेतिक हड़ताल पर PMCH के डॉक्टर, प. बंगाल में हुई घटना को लेकर देशव्यापी विरोध 

Catalyst IAS
ram janam hospital

‘हाथी उड़ा रही थी सरकार’  

The Royal’s
Pitambara
Sanjeevani
Pushpanjali

ज्ञात हो कि 2017 में 16-17 फरवरी को रांची के खेल गांव में मोमेंटम झारखंड का आयोजन किया गया था. इस दौरान पूरे शहर में साफ-सुथरी सड़कें, दीवारों पर कलात्मक पेंटिंग्स, सुचारू ट्रैफिक व्यवस्था दिखाकर निवेशकों का न्योता दिया गया था. लेकिन पूरी रांची पर ये मेहरबानी नहीं बरसी थी.

शहर के कुछ खास हिस्सों को ही सजाया गया था. वहीं विपक्ष लगातार इस आयोजन में सरकारी खजाने के दुरुपयोग का आरोप लगाती रही है. विपक्ष का आरोप है कि दो दिनों के कार्यक्रम के लिए विज्ञापनों में खर्च के मामले में रघुवर सरकार ने दिल्ली की केजरीवाल सरकार को भी पीछे छोड़ दिया.

पूरे मामले को लेकर निष्पक्ष जांच की मांग के साथ धनबाद महिला कांग्रेस ने पदयात्रा की. साथ ही कहा कि सरकार कॉरपोरेट घरानों के हाथ बिक चुकी है. और आयोजन में सरकार हाथी नहीं बल्कि सरकारी खजाना उड़ा रही थी.

इसे भी पढ़ेंःदवा बिन मर रहे मरीज, पानी-बिजली की समस्या से लोग त्रस्त और सिस्टम योगा कार्यक्रम में व्यस्त

सरकार के आयोजन पर सवाल उठाते हुए विपक्ष ने जबरन विकास दिखाने की बात करते हुए सरकार को घेरा. साथ ही कहा कि झारखण्ड में विकास तो होना चाहिए लेकिन आदिवासियों और मूलवासियों की कीमत पर नहीं.

वही इस मामले में झारखण्ड सरकार दावा कर रही है कि कार्यक्रम से राज्य में निवेश बढ़ा हैं और अबतक बदहाली में गुजर बसर कर रहे झारखंडवासियों के अच्छे दिनों का सपना साकार हुआ है.

इसे भी पढ़ेंःपलामू : सारे चापाकल हैं खराब, एक कुएं पर बुझती है पूरे बलिया गांव की प्यास 

Related Articles

Back to top button