JharkhandLead NewsNEWSRanchi

Good News: विश्वविद्यालय स्तर पर सुधरेगी जनजातीय और क्षेत्रीय भाषा की पढाई,  चार विवि में नियुक्त होंगे 267 शिक्षक

Ranchi : परीक्षा संचालन नियमावली में संसोधन के बाद राज्य में होने वाली नियुक्ति परीक्षाओं में क्षेत्रीय और जनजातीय भाषा का महत्व बढ़ गया है. राज्य में नौकरी करने की इच्छा रखने वालों को क्षेत्रीय और जनजातीय भाषा का ज्ञान होना जरुरी है. पर राज्य में इसकी पढाई की जो स्थिति है वो स्कूल स्तर से लेकर विश्वविद्यालय तक शिथिल है. पढाई जैसे तैसे करायी जा रही है. विश्वविद्यालय स्तर पर क्षेत्रीय और जनजातीय भाषा की पढाई की स्थिति को लेकर विधायक सीता सोरेन की ओर से उठाये गये सवाल के जवाब में सरकार ने  सात विश्वविद्यालयों में क्षेत्रीय और जनजातीय भाषा की पढाई की स्थिति स्पष्ट की है.

 

advt

स्थायी शिक्षकों की नियुक्ति को लेकर चल रही प्रक्रिया

राज्य के विश्वविद्यालयों में क्षेत्रीय और जनजातीय भाषा की पढाई कराने वाले शिक्षकों की भरी कमी है. इस कमी को दूर करने के लिए राज्य सरकार प्रयास कर रही है. सात में से चार विश्वविद्यालय में 267 शिक्षकों की नियुक्ति की प्रक्रिया चल रही है. जिन विवि में क्षेत्रीय और जनजातीय भाषा के शिक्षकों की नियुक्ति होनी है वो कोल्हान विवि, विभावि विवि, बीबीकेएमयू और सिदो-कान्हू मुर्मू विश्वविद्यालय दुमका हैं. इसके अतिरिक्त डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी विवि, रांची विवि और नीलाम्बर पीताम्बर विवि से नियुक्ति के लिए प्रस्ताव मांगा गया है.

विश्वविद्यालयों में टीआरएल की पढाई और कार्यरत शिक्षक

  • रांची विश्वविद्यालय के विभाग और कॉलेजों में जनजातीय और क्षेत्रीय भाषा के कुल 165 पद स्वीकृत हैं. इसमें 32 स्थायी शिक्षक हैं. वहीं 120 घंटी आधारित शिक्षक हैं.
  • कोल्हान विश्वविद्यालय में 5 क्षेत्रीय भाषा की पढाई होती है. यहां शिक्षकों के 8 स्वीकृत पद हैं. जिसमें कार्यरत शिक्षकों की संख्या केवल तीन हैं. यहां 159 शिक्षकों के पद सृजन की प्रक्रिया चल रही है.
  • विनोबा भावे विश्वविद्यालय में क्षेत्रीय और जनजातीय भाषा के तहत सात भाषाओँ की पढाई करायी जाती है. इसके लिए यहां क्षेत्रीय और जनजातीय भाषा का एक छह महीने का भी कोर्स चल रहा है. यहां 49 शिक्षकों के नियुक्ति की प्रक्रिया चल रही है.
  • सिदो-कान्हू मुर्मू विश्वविद्यालय दुमका में क्षेत्रीय भाषा के 18 स्वीकृत पद हैं. जिसमें छह शिक्षक हैं जो घंटी आधारित हैं. इस विवि में तीन क्षेत्रीय और जनजातीय भाषा के 35 शिक्षकों की नियुक्ति की प्रक्रिया जारी है.
  •  डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी विवि में 20 स्वीकृत पदों के विरुद्ध 05 शिक्षक कार्यरत हैं. यहां अभी पद सृजन की प्रक्रिया ही चल रही है.
  • नीलाम्बर पीताम्बर विश्वविद्यालय में क्षेत्रीय भाषा के 08 पद स्वीकृत हैं. जिनमें केवल दो शिक्षक काम कर रहे हैं. यहां नियुक्ति के लिए प्रस्ताव मांगा गया है.
  • विनोद बिहारी महतो कोयलांचल विश्वविद्यालय में खोरठा, कुरमाली एवं संथाली विषय की छह माह का कोर्स कराया जाता है. यहां 24 शिक्षकों की नियुक्ति की प्रक्रिया चल रही है.

इधर, स्कूलों में पूरा हो रहा कोरम

सरकार की ओर से विधानसभा में जो जानकारी दी गयी है उसके मुताबिक प्राथमिक और प्लस टू स्कूलों में जनजातीय और क्षेत्रीय भाषा की पढाई का केवल कोरम पूरा किया जा रह है. जबकि माध्यमिक स्तर पर नियुक्त 466 शिक्षक पढाई कराते हैं. प्रत्येक माध्यमिक स्कूलों में जनजातीय और क्षेत्रीय भाषा के चार शिक्षक नियुक्त किये गये हैं. प्राथमिक स्कूलों में पारा शिक्षकों के भरोसे  जनजातीय और क्षेत्रीय भाषा की पढ़ाई करायी जा रही है.

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: