Corona_UpdatesGarhwaJharkhandLead News

गुड न्यूज : गढ़वा में जिला स्तर पर बनेगा आक्सीजन, प्लांट लगाने के लिए के लिए लायी गयी मशीन

Garhwa : कोरोना महामारी के दौरान सबसे बड़ा संकट ऑक्सीजन उपलब्धता का है. सरकार अन्य राज्यों के प्लांटों से अस्पतालों की मांग को पूरा कर रही है. अब सरकार ने फैसला किया है कि जिलों में ऑक्सीजन निर्माण के प्लांट लगेंगे.

गढ़वा जिले में इसकी शुरूआत हो गयी है प्लांट में लगाने के लिए मशीन पहुंच गयी है. सबकुछ ठीक ठाक रहा तो जल्द गढ़वा आक्सीजन के मामले में आत्मनिर्भर हो जाएगा.

इससे पहले कोरोना की पहली लहर के दौरान सरकार ने प्रदेश के जिलों में मेडिकल ऑक्सीजन प्लांट लगाने के लिए टेंडर जारी किए थे. लेकिन लहर कमजोर होते ही सरकारी तंत्र ने ध्यान देना बंद कर दिया था, जबकि कोरोना से लड़ने के लिए गढ़वा सहित पूरे झारखंड में आत्मनिर्भर बनने की दिशा में बढ़ाया गया बड़ा कदम है.

इसे भी पढ़ेःरिम्स में बचा मात्र 11 यूनिट खून, निगेटिव ग्रुप का एक भी नहीं

झामुमो के प्रवक्ता धीरज दुबे ने बताया कि गढवा सदर अस्पताल में ऑक्सीजन आपूर्ति की समस्या बनी रहती थी. पूर्व में आपूर्ति ऑक्सीजन सिलेंडर के माध्यम से की थी. आज यहां ऑक्सीजन आपूर्ति के लिए प्लांट अधिस्थापन किया गया है जिसके माध्यम से ऑक्सिजन यही बनेगा और आपूर्ति की जाएगी. ऑक्सीजन के मामले में सदर अस्पताल गढ़वा आत्मनिर्भर हो गया है.

इस पहल के लिए मंत्री मिथिलेश ठाकुर को जिले की समस्त जनता की ओर से आभार है. मंत्री का इसमें सबसे बड़ा योगदान रहा. मंत्री मिथलेश ठाकुर की यही विशेषता है कि वह गढ़वा की जरूरत को स्वतः भांप लेते हैं और बिना देर किए संसाधनों को उपलब्ध कराने में सहभागिता देते हैं. विकास कार्यों में उनकी तरफ से कोई कमी नहीं रहती.

वही गढवा सिविल सर्जन कमलेश कुमार ने बताया कि अभी मशीन यहां आयी ही है. इसकी क्या प्रकिया है. कैसे बनेगा? कितना बनेगा ये सारी बात चीफ इंजीनियर से पता की जा रही है. ऐसे गढ़वा में प्रतिदिन आक्सीजन सिलेंडर की खपत सदर अस्पताल में बड़ा वाला जम्बू 3 सिलेंडर और 8 सिलेंडर छोटा वाला होता है.

इसे भी पढ़ेःकोरोना इफेक्ट: छुट्टी से लौटने वाले पुलिसकर्मियों को किया जायेगा क्वारेंटाइन, खैनी-गुटखा खाने पर पाबंदी

Related Articles

Back to top button