Corona_UpdatesHEALTHLead NewsNational

Good News : अब भारत में भी आने की तैयारी में जॉनसन एंड जॉनसन की सिंगल डोज वैक्सीन

प्रोडक्शन की क्षमता बढ़ाने के लिए बायोलॉजिकल ई से किया है करार

New Delhi : देश में कोविड वैक्सीन की किल्लत से जुड़ी खबरों के बीच बड़ी दवा कंपनी जॉनसन एंड जॉनसन की सिंगल डोज वाली वैक्सीन के बारे में बड़ी ही अच्छी खबर आई है. बता दें कि यह अमेरिकी कंपनी दुनिया की एक मात्र दवा बनाने वाली कंपनी है, जो सिर्फ एक डोज वाली कोरोना वैक्सीन बना चुकी है.

जॉनसन एंड जॉनसन ने भारतीय रेगुलेटर को बताया है कि वह यहां पर जल्द ही इसकी ब्रिजिंग क्लिनिकल ट्रायल शुरू करेगी. सरकारी सूत्रों के मुताबिक सेंट्रल ड्रग्स स्टैंडर्ड कंट्रोल ऑर्गेनाइजेशन (सीडीएससीओ) को लिखे खत में उसने इस संबंध में जल्द ही आवेदन देने की बात लिखी है.

advt

गौरतलब है कि देश में कोरोना की दूसरी लहर को देखते हुए वैक्सीन का उत्पादन बढ़ाए जाने की आवश्यकता महसूस की जा रही है, क्योंकि कई राज्य अपने यहां वैक्सीन का स्टॉक खत्म होने की शिकायत कर रहे हैं.

इसे भी पढ़ें :झारखंड सचिवालय में भी कोरोना ब्लास्ट, 49 अफसर और कर्मचारी आये चपेट में

बहुत ही जल्द पूरा हो सकता है ब्रिजिंग ट्रायल

बता दें कि ब्रिजिंग ट्रायल एक क्लिनिकल ट्रायल ही है, जिसमें रेगुलेटर कंपनी से कुछ सीमित संख्या (करीब 1,000)में भागीदारों को ही रजिस्टर करने के लिए कहता है. यह ट्रायल सिर्फ यह देखने के लिए होतe है कि वैक्सीन कितनी सुरक्षित है.

इससे उसकी इम्युनोजनिसिटी का अंदाजा लग जाता है. वैक्सीन कितनी प्रभावी है इसकी जांच ब्रिजिंग ट्रायल में नहीं की जाती, क्योंकि यह पहले किए गए क्लिनिकल ट्रायल में पूरी हो चुकी होती है. भारत में जॉनसन एंड जॉनसन ने अपनी वैक्सीन के प्रोडक्शन की क्षमता बढ़ाने के लिए बायोलॉजिकल ई से पहले ही करार कर रखा है.

इसे भी पढ़ें :रांची, पलामू, गढ़वा, बोकारो और रामगढ़ में बारिश की संभावना, विभाग ने जारी की चेतावनी

अमेरिका में मार्च के अंत से सप्लाई शुरू

अमेरिकी रेगुलेटर ने इस कंपनी में विकसित की गई वैक्सीन की इमरजेंसी इस्तेमाल की मंजूरी बीते फरवरी में ही दी थी. यह मंजूरी इस आधार पर दी गई थी कि फेज-3 ट्रायल में गंभीर बीमारी को रोकने में टीकाकरण के 28 दिन बाद इसे 85 फीसदी तक प्रभावी पाया गया था.

जबकि कोरोना से सामान्य से लेकर गंभीर संक्रमण को रोकने में इसे 66 से 72 फीसदी तक कारगर पाया गया था. अमेरिका में इस सिंगल-शॉट वैक्सीन की डिलिवरी मार्च के अंत से शुरू की जा है, जिसके बाद वहां सभी वयस्क नागरिकों के टीकाकरण के रोडमैप की घोषणा की गई है.

इसे भी पढ़ें :कोरोना वैक्सीन का 90 हजार डोज शुक्रवार को पहुंचेगा धनबाद, अफवाहों पर न दें ध्यानः नोडल पदाधिकारी

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: