HEALTHJharkhandRanchi

Good News : RIMS में अब बेड पर ले लिया जाएगा मरीजों का ब्लड सैंपल कलेक्शन

रिम्स में अब इंडोर के मरीजों को नहीं झेलनी होगी परेशानी

Ranchi : राज्य के सबसे बड़े हॉस्पिटल रिम्स में इलाज करा रहे मरीजों को बड़ी राहत मिलने वाली है. इस सुविधा के तहत मरीजों को ब्लड सैंपल टेस्ट कराने के लिए अलग-अलग विभागों के चक्कर नहीं लगाने होंगे. वही इंडोर में बेड पर ही उन्हें टेस्ट की सभी रिपोर्ट भी मिल जायेंगी. इसे लेकर रिम्स प्रबंधन ने तैयारी शुरू कर दी है और प्रस्ताव बनाकर फाइल विभाग को भेजी है. मंजूरी मिलते ही इसे रिम्स में लागू कर दिया जाएगा.

बताते चलें कि रिम्स में इंडोर में मरीजों को टेस्ट कराने के लिए सोचना पड़ता है चूंकि सैंपल निकालने का काम इंडोर में नर्स करती है. मरीजों को दवा और इंजेक्शन देने का जिम्मा भी उनका ही है. इस वजह से मरीजों को इंतज़ार करना पड़ता है.

इसे भी पढ़ें :Ranchi news: कर्ज तले दबे व्यवसायी ने थाने में आत्मदाह की कोशिश की, पुलिसकर्मियों ने बचाया

ram janam hospital
Catalyst IAS

सेंट्रलाइज्ड होगा इंडोर कलेक्शन

The Royal’s
Sanjeevani

ओपीडी के सेंट्रल कलेक्शन सेंटर की तरह ही इंडोर में भी सेंट्रल कलेक्शन की सुविधा देने की तैयारी है. ऐसे में कलेक्शन के लिए एजेंसी को काम दिया जाएगा. एजेंसी के स्टाफ इंडोर में जाकर मरीजों का सैंपल कलेक्ट कर लेंगे. अलग-अलग विभागों में सैंपल एक जगह से भेज दिया जाएगा. सभी विभागों से रिपोर्ट कलेक्ट कर उन्हें एक ही काउंटर से उपलब्ध करा दी जाएगी.

इसे भी पढ़ें :तीरंदाजी सेंटर दुमका के बच्चे हुए कोरोना संक्रमित, सेंटर को बंद करने का आदेश

इंडोर में एडमिट रहते है 1500 मरीज

हॉस्पिटल के ओपीडी में हर दिन पंद्रह सौ से ज्यादा मरीज इलाज के लिए आते हैं. वही इंडोर में इलाज कराने वाले मरीजों की संख्या भी 15 सौ से ज्यादा है. ऐसे में मरीजों को जब टेस्ट के लिए लिखा जाता है तो सैंपल निकालने से लेकर विभाग तक पहुंचाने और फिर रिपोर्ट लाने में परिजनो की हालत खराब हो जाती है. कई बार तो सैंपल टेस्ट कराने के चक्कर में परिजनों का पूरा दिन भी निकल जाता. अब एक जगह से सैंपल कलेक्शन होने पर जहां मरीजों को राहत होगी वही परिजन भी भागदौड़ से मुक्त हो जाएंगे.

इसे भी पढ़ें :कार्रवाईः रात आठ बजे के बाद भी खुली थी दुकानें, प्रशासन ने किया सील

सेंट्रल लैब को किया जाएगा अपग्रेड

हेल्थ मिनिस्टर ने पिछले दिनों रिम्स अधिकारियों के साथ हुई बैठक में निर्देश दिया था कि अपने हॉस्पिटल के सेंट्रल लैब को दुरुस्त करें. जिससे कि प्राइवेट और पीपीपी मोड पर रिम्स में काम कर रही एजेंसियों पर निर्भरता खत्म हो जाए. वही रिम्स में पढ़ने वाले मेडिकोज को परेशानी न झेलनी पड़े. अब नई व्यवस्था लागू होने से पहले सेंट्रल लैब को भी अपग्रेड किया जाएगा ताकि मरीजों को लिखे जाने वाले सभी टेस्ट हॉस्पिटल में ही हो जाए. ऐसे में मरीजों को राहत मिल जाएगी और उनकी जेब पर बोझ भी कम हो जाएगा.

इसे भी पढ़ें :PALAMU में रात भर धरने पर बैठी रही चार महिला पार्षद, तड़के एक की तबीयत बिगड़ी, जानें क्या है इनकी मांग

Related Articles

Back to top button