BokaroJharkhand

#Gomia: जिस पंचायत सचिव पर करनी थी कार्रवाई, उसे बनाया प्रखंड पंचायती राज पदाधिकारी

Gomia: बोकारो जिला के गोमिया प्रखंड में ऐसा मामला सामने आया है, जिससे बातें हो रही हैं कि क्या प्रशासन सिर्फ जनप्रतिनिधियों के खिलाफ कार्रवाई कर सकता है.

मामला गोमिया के होसिर पश्चिमी पंचायत का है. विभिन्न योजनाओं में अनियमितता के आरोपी होसिर पंचायत के पंचायत सचिव मदन रजक पर कार्रवाई करनी थी. लेकिन उसे एक तरह का प्रमोशन देकर प्रखंड पंचायती राज पदाधिकारी बना दिया गया है.

इसे भी पढ़ें – भारत-अमेरिका ने 3 अरब डालर के रक्षा सौदे को अंतिम रूप दिया, तीन सहमति पत्र पर हस्ताक्षर किये

advt

पीएम आवास योजना का मामला

इसे लेकर गोमिया प्रखंड की उपप्रमुख मीना देवी ने उपायुक्त को पत्र लिख कर जानकारी दी है. मामला प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत गलत लाभुक को आवास देने का था.

जांच में पाया गया कि पश्चिमी होसिर में मुखिया रामवृक्ष रविदास ने गलत लाभुक को आवास दे दिया. किसी भी लाभुक को आवास देने का काम भले ही पंचायत का मुखिया करता है. लेकिन लाभुक के चयन के अलावा तमाम तरह की कागजी कार्यवाही पंचायत सचिव की तरफ से की जाती है.

इसलिए अगर किसी गलत लाभुक को प्रधानमंत्री आवास आवंटित होता है, तो उसमें मुखिया के साथ-साथ सचिव की मुखिया से ज्यादा भागीदारी मानी जाती है.

पश्चिमी होसिर में ऐसा ही हुआ. मुखिया के द्वारा अनुशंसा करने के बाद पंचायत सचिव ने लाभुक की पहचान कर कागजात तैयार किया. सारे कागजात बीडीओ को सौंपे. जिसके बाद लाभुक को आवास के लिए किस्त मिलनी शुरू हुई.

adv

इसे भी पढ़ें – भारत-अमेरिका के बीच तीन समझौतों पर हुए हस्ताक्षर

मुखिया पर की गयी कार्रवाई पर पंचायत सचिव को छोड़ा

डीसी को लिखे अपने पत्र में उपप्रमुख मीना देवी ने लिखा है कि प्रधानमंत्री आवास योजना में गलत आवास के चयन में पंचायत के मुखिया पर तो कार्रवाई की गयी, लेकिन पंचायत सचिव को छोड़ दिया गया.

कहा जा रहा है कि पंचायत सचिव मदन रजक गोमिया बीडीओ कार्यालय के काफी दुलारे हैं. क्योंकि बिना टेंडर किये बड़की पुन्नु पंचायत में 4.5 लाख से 4.98 लाख रुपये तक का काम भी इसी पंचायत सचिव ने अपनी देखरेख में कराया.

इसके बाद भी उनपर किसी तरह की कोई कार्रवाई नहीं हुई. उपप्रमुख मीना देवी ने अपनी चिट्ठी में कहा है कि इस तरह के गंभीर आरोप लगने के बाद भी पंचायत सचिव पर कार्रवाई न किया जाना पंचायती राज अधिनियम का उल्लंघन है. उन्होंने इस पर तत्काल कार्रवाई की मांग की है.

इसे भी पढ़ें – #DelhiRiots : उत्तरपूर्वी दिल्ली में फिर भड़की हिंसा, मृतकों की संख्या बढ़कर हुई 9

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button