JharkhandJharkhand StoryNationalRanchiSimdegaSportsTop StoryTRENDING

कॉमनवेल्थ गेम्स में झारखंडी खिलाड़ियों का गोल्डेन प्रदर्शन

8 खिलाड़ियों में 2 खिलाड़ियों को गोल्ड, 3 को सिल्वर और 3 खिलाड़ियों ने जीता ब्रॉन्ज

Ranchi. कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 में भारतीय खिलाड़ी अपनी धाक जमाए हुए हैं. अब तक 16 स्वर्ण सहित 45 पदक भारत के खाते में आ चुके हैं. इनमें झारखंड के 8 प्लेयर्स भी शामिल हैं. पहली दफा इस स्तर के टूर्नामेंट में एक साथ दो खेलों लॉन बॉल और हॉकी (महिला) में झारखंड के खिलाड़ी भारतीय टीम से शामिल हुए. हालांकि दोनों खेलों में पूर्व में भी यहां से खिलाड़ी खेल चुके हैं. अबकी दोनों खेलों में झारखंडी खिलाड़ियों ने खुद की काबिलियत दर्शायी. पहले तो लॉन बॉल में महिलाओं ने विमेंस-4 इवेंट में पहली दफा देश को कोई मेडल दिलाया, वह भी स्वर्ण पदक. इसके बाद मेंस-4 में भारतीय टीम में शामिल सुनील बहादुर, चंदन कुमार सिंह और दिनेश कुमार ने रजत पदक जीता. यह भी कॉमनवेल्थ गेम में इस खेल में पहली बार देश को मेडल दिलाया. महिला हॉकी टीम में न्यूजीलैंड को हराकर टीम इंडिया ने ब्रॉन्ज जीता. टीम में सलीमा टेटे, निक्की प्रधान और संगीता कुमारी ने भी अहम रोल निभाया.

इसे भी पढ़े: कॉमनवेल्थ गेम्स: दसवें दिन भारत की जोरदार शुरूआत,अमित व नीतू को स्वर्ण पदक,महिला ह़ॉकी में कांस्य

लॉन बॉल में पहली बार सुनहरी कामयाबी

Sanjeevani

भारतीय लॉन बॉल की टीम में 10 सदस्य थे. इनमें से आधे खिलाड़ी तो झारखंड से ही थे. इनमें रूपा रानी तिर्की, लवली चौबे (दोनों विमेंस टीम में) के अलावे सुनील बहादुर, चंदन कुमार सिंह और दिनेश कुमार कुमार शामिल थे. लवली और रूपा रानी पूर्व में भी इस स्तर पर खेल चुकी थीं पर इस स्तर की प्रतियोगिता में पहली बार देश को गोल्ड मेडल (विमेंस-4 में) दिलाया. इससे पहले एक भी पदक देश को नहीं मिला था. लड़कों की टीम में शामिल तीनों खिलाड़ियों को भी अपनी भारतीय टीम को पदक दिलाने की बेचैनी थी जो उन्होंने सिल्वर जीत कर दिखाया.


खत्म हुआ हॉकी में पदकों का सूखा

कॉमनवेल्थ हॉकी में 16 सालों बाद भारतीय महिला टीम ने मेडल जीता है. बर्मिंघम में आज तीसरे स्थान के लिये खेले गये मैच सलीमा, निक्की और संगीता का खेल लाजवाब रहा. 2006 के बाद यह पदक (ब्रॉन्ज) महिला टीम के हाथ आया है. उस दौरान फाइनल में ऑस्ट्रेलिया से हारने के बाद भारतीय टीम को सिल्वर मिला था. 2002 के कॉमनवेल्थ गेम (मैनचेस्टर, इंग्लैंड) में इंग्लैंड को हराकर भारतीय टीम ने स्वर्ण पदक जीता था.

 

Related Articles

Back to top button