न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

या खुदा तेरे भरोसे को क्या हुआ

हर बार भरोसा रखा मैंने.

180

माना कि हालात बेकाबू हो गए कई बार

जब भी वक्त नासाज हुआ

हर बार भरोसा रखा मैंने

या खुदा तेरे भरोसे को क्या हुआ

 

कभी लगता है संभल गया

कभी यों ही बिगड़ गया

वक्त ऐसा

जैसे रेत का बुत मुठ्ठी से फिसल गया

रोकना तो चाहा हमेशा पर

लम्हा इतना अजीब है

 

क्यों न समझ सका वो तड़प दिल की

साथ रहकर भी

छोड़कर तुम जहां से गए थे

मैं आज भी वहीं खड़ा हूँ

यूं तुम तो संभल गए होंगे

मैं आज भी बिखरा पड़ा हूँ

 

इस दिल में रहोगे ता-उम्र

फिर क्यूँ डरते हो

पाक है मोहब्बत मेरी

यूँ नजरे चुरा के ना निकलो

इंतिज़ार है तेरे इक इशारे का

आगे खूबसूरत जहाँ पड़ा है

 

तेरे बिना वर्ना

दर्द का दरिया ‘राहत’ आँखों से बहता है

 

डॉ. रूपेश जैन ‘राहत’

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: