न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

भगवान, अश्चिनी चौबे को सद्बुद्धि दे: कांग्रेस

विपक्ष के साथ ही राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन के सहयोगी जद(यू) ने कड़ी निंदा की है.

146

Delhi: केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे द्वारा राहुल गांधी के बारे में विवादित टिप्पणी किए जाने को लेकर कांग्रेस ने शनिवार को भाजपा पर निशाना साधा और कहा कि भगवान चौबे को सद्बुद्धि दे.

मंत्री की टिप्पणी के बारे में पूछे जाने पर कांग्रेस नेता गौरव वल्लभ ने कहा कि ऐसी चीजों का मैं जवाब नहीं दे सकता. मैं भगवान से सिर्फ यह प्रार्थना करूंगा कि उनको सद्बबुद्धि दे. कोई व्यक्ति अपनी धार्मिक यात्रा पर है तो उनके बारे में ऐसी टिप्पणी नहीं करना चाहिए. आगे उन्होंने कहा, जिस तरह से रुपया गिर रहा है उसी तरह भाजपा की राजनीति का स्तर गिर रहा है. भगवान दोनों को बचाए.

इसे भी पढ़ेंः 15 दिनों में 372 ताबड़तोड़ तबादलों पर जनता के खर्च हुए लगभग डेढ़ करोड़

जद(यू )ने भी की कड़ी निंदा

दरअसल, चौबे ने शनिवार 1 सितम्बर को एक बयान में कथित रूप से कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी सीजोफ्रेनिया जैसी दिमागी बीमारी से पीड़ित हैं और प्रधानमंत्री के सामने वह नाली के कीड़े से ज्यादा कुछ नहीं हैं. उनके इस बयान की विपक्ष के साथ ही राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन के सहयोगी जद(यू) ने कड़ी निंदा की है.

कई वामपंथी विचारकों की गिरफ्तारी के संदर्भ में वल्लभ ने कहा,  कांग्रेस का शुरू से मत है कि हम न तो अतिवामपंथी विचारधारा के समर्थक हैं और न ही अतिदक्षिणपंथी विचारधारा के समर्थक हैं. लेकिन किसी के बोलने के अधिकार को छीना जाता है उसके हम खिलाफ हैं.

इसे भी पढ़ें: भाजपा कार्यकर्ता अपनी ही सरकार से हैं नाराज, Facebook पर कर रहे आलोचना   

तस्वीर की पहली पंक्ति में फादर स्टेन स्वानी हैं. जिनकी गिरफ्तारी नहीं हुई थी. बस उनके घर पर छापा पड़ा था.
palamu_12

सरकार का विरोधी नक्सली करार

गौरव वल्लभ ने कहा, जिन पांच लोगों को गिरफ्तार किया गया उनके बारे में पहले कहा गया कि वे प्रधानमंत्री की हत्या के षडयंत्र में शामिल हैं. बाद में पुणे पुलिस ने कहा कि इन गिरफ्तारियों का संबंध भीमाकोरेगांव से है. पूरी तरह से असमंजस की स्थिति पैदा की गई.

वल्लभ ने कहा कि जब इस सरकार का कोई विरोध करता है तो उसे नक्सली करार देते हैं. जब इन गिरफ्तारियों के मामले में उच्चतम न्यायालय ने कागजात मांगा तो कहा गया है कि मराठी से अंग्रेजी में अनुवाद करने के लिए समय चाहिए. पुणे पुलिस की ओर से बार बार गोलपोस्ट बदला जा रहा है.

इसे भी पढ़ें: विधायक सुखदेव के इलाके में न पेंशन, न रोजगार और न राशन, कैसे होगी किस्को प्रखंड के ग्रामीणों की गुजर-बसर

उन्होंने कहा, कांग्रेस का स्पष्ट मत है कि अगर कोई व्यक्ति हिंसा या देश के खिलाफ साजिश में शामिल हो तो उसे कड़ी से कड़ी सजा मिलनी चाहिए.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

%d bloggers like this: