National

गोवाः देर रात प्रमोद सावंत ने ली सीएम पद की शपथ, सुदीन धावलीकार और विजय सरदेसाई होंगे डिप्टी सीएम

Panaji: मनोहर पर्रिकर के निधन के बाद गोवा को उसका नया मुख्यमंत्री मिला है. सोमवार देर रात करीब 2 बजे बीजेपी के प्रमोद सावंत ने गोवा के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली. गोवा की राज्यपाल मृदुला सिन्हा ने 46 वर्षीय सावंत को पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई. साथ ही दस विधायकों ने भी मंत्रियों के रूप में शपथ ली.

Jharkhand Rai

इसे भी पढ़ेंःखूंटी सांसद के गोद लिये गये गांव का हालः कहने को आर्दश गांव, सड़क, बिजली, पेयजल सुविधा से महरूम हैं…

नाम को लेकर घंटों हुआ मंथन

गोवा में बीजेपी को खड़ा करनेवाले मनोहर पर्रिकर के निधन के बाद से पार्टी के सामने नेतृत्व का लेकर बड़ा सवाल खड़ा हो गया है. गठबंधन की पार्टियों को साथ लेकर चलने को लेकर मंथन का दौर चला. एक ओर पर्रिकर के देहांत के बाद गोवा बीजेपी के नेतृत्व को लेकर सवाल उठे, वहीं 14 विधायकों वाली कांग्रेस ने एक ओर राज्यपाल को खत लिख कर सरकार बनाने का दावा पेश किया था. लेकिन बीजेपी की ओर से नितिन गडकरी गोवा में ही थे और उन्होंने लगातार बीजेपी विधायकों और गठबंधन के अन्य नेताओं के साथ बैठक की. पार्टी अध्यक्ष अमित शाह से लेकर वरिष्ठ मंत्री नितिन गडकरी ने कई बैठकें की.

हालांकि, मुख्यमंत्री पद के लिए पहले प्रदेश अध्यक्ष विनय तेंदुलकर का नाम सामने आया. लेकिन शाम तक प्रमोद सावंत के नाम पर मुहर लग गई थी और तब जाकर रात दो बजे बीजेपी के युवा नेता प्रमोद सावंत ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली.

Samford

इसे भी पढ़ेंःपलामू: सांसद वीडी राम के खिलाफ बीजेपी नेताओं की चिट्ठी सार्वजनिक, अंदरूनी कलह आया सामने

पार्टी ने बड़ी जिम्मेदारी दी है: सावंत

गोवा के नये मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने सोमवार की रात को कहा कि उनकी पार्टी भाजपा ने उन्हें एक बड़ी जिम्मेदारी दी है. उन्होंने दिवंगत सीएम पर्रिकर को श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि मुझे राजनीति में लाने वाले पर्रिकर थे. सावंत ने पत्रकारों से इस बात की पुष्टि की कि नई सरकार में दो उपमुख्यमंत्री होंगे. सहयोगी दलों महाराष्ट्रवादी गोमंतक पार्टी के सुदीन धावलीकार और गोवा फॉरवर्ड पार्टी के विजय सरदेसाई को उपमुख्यमंत्री बनाया जाएगा.

40 सीटों वाली विधानसभा में मनोहर पर्रिकर के निधन के बाद बीजेपी पर आया संकट तो फिलहाल टला हुआ नजर आ रहा है. लेकिन सदन में बहुमत पारित करने की परीक्षा पार्टी और गठबंधन के लिए अभी बाकी है.

इसे भी पढ़ेंःमुख्यमंत्री जनसंवाद आचार संहिता का उल्लंघन, बंद हो ड्रामा, चुनाव आयोग ले संज्ञान : हेमंत सोरेन

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: