न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

ग्लोबल एग्रीकल्चर समिट : बाबा रामदेव ने कहा- झारखंड न ले कोई टेंशन, मैं हूं न… वादा किया है, निभाना पड़ेगा

289

Akshay/Gaurav

Ranchi :  ग्लोबल एग्रीकल्चर एंड फूड समिट के समापन समारोह में शुक्रवार को बाबा रामदेव की एंट्री झारखंड के लिए मानो तारणहार की तरह हुई. बाबा ने जिन बातों का भरोसा भरे मंच से वहां मौजूद किसानों, प्रशासनिक अधिकारियों और मीडिया को दिलाया, उससे यह साफ होता है कि बाबा का कहना था कि कृषि सेक्टर के लिए झारखंड को टेंशन लेने की कोई जरूरत नहीं है, वह सारी समस्याओं को हर लेंगे. बाबा ने कहा, “मैं जब खाना खा रहा था, तो उसी वक्त कृषि विभाग की सचिव पूजा सिंघल ने मुझे हनी खिलायी. पूजा ने कहा कि यह हनी सखी मंडल की महिलाओं ने बनायी है. इस हनी को जीभ पर रखते ही मैं इसके स्वाद से समझ गया कि यह एक उम्दा किस्म की हनी है. मैं कहना चाहता हूं कि झारखंड चाहे जितना भी हनी उत्पादन करे, पतंजलि सारी हनी को खरीदेगी. बस इस हनी को एक प्लांट लगाकर इसमें मौजूद पानी को जरा कम करना है. मैं झारखंड सरकार से एमओयू कर यहां एक प्लांट लगाऊंगा, जहां हनी को बिकने के काबिल बनाया जायेगा.”

बाबा बोले- किसानों को मैं दूंगा बाजार, जितना भी उत्पादन करेंगे, सब पतंजलि खरीदेगी

बाबा ने आगे किसानों से बात करते हुए कहा कि झारखंड के किसानों को घबराने की जरूरत नहीं है. कृषि के क्षेत्र में जो जितना मर्जी उत्पादन करें. उन्हें बाजार दिलाने का काम मैं करूंगा. बाबा ने वहां मौजूद मुख्यमंत्री रघुवर दास से कहा कि आप राज्य में ऑर्गेनिक क्लस्टर बनाकर दलहन, गेहूं, चावल जैसे अनाजों को पैदा करें. आप जितना उत्पादन करेंगे, सभी को खरीदने का काम पतंजलि करेगी.” बाबा रामदेव ने कहा कि ऑर्गेनिक खेती करने के लिए किसानों को ट्रेनिंग देने की जरूरत है. पतंजलि झारखंड सराकर से एमओयू कर यहां के किसानों को ट्रेनिंग देने का काम करेगी. बाबा रामदेव ने कहा कि पतंजलि 2020 तक पूरे भारत की सबसे बड़ी एफएमसीजी कंपनी हो जायेगी. उन्होंने कहा कि उनका लक्ष्य पतंजलि को 2025 तक विश्व का सबसे बड़ा ब्रांड बनाना है.

गेतलसूद स्थित मेगा फूड पार्क का होगा कायाकल्प

बाबा ने गेतलसूद स्थित मेगा फूड पार्क का भी कायाकल्प करने की बात कही. पत्रकारों से बात करते हुए उन्होंने कहा कि इस साल के दिसंबर से वह मेगा फूड पार्क को शुरू करने का काम करेंगे. उन्होंने कहा कि बीच में कुछ दिक्कतें आ गयी थीं, लेकिन 2019 तक फूड पार्क को फुल फ्लेज्ड शुरू करने का काम किया जायेगा. उन्होंने कहा, “मैं भले ही संन्यासी हूं, लेकिन काम से किसान हूं. मैं भारत की कृषि संस्कृति और ऋषि संस्कृति को फॉलो करता हूं. पतंजलि का लक्ष्य है कि किसानों की आय दोगुनी-चौगुनी हो जाये.”

2022 तक दोगुनी नहीं, किसानों की आय होगी चौगुनी : सीएम

समापन समारोह के बाद पत्रकारों से बात करते हुए मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि 2022 तक झारखंड के किसान पीएम मोदी को यह बताने का काम करेंगे कि उन्होंने अपनी आय दोगुनी नहीं, बल्कि चौगुनी कर ली है. कहा कि यह किसानों की मेहनत का फल है कि हम चार सालों में कृषि के ग्रोथ रेट में 19 फीसदी की बढ़ोतरी कर लेते हैं. उन्होंने कहा कि देश का पहला राज्य झारखंड होगा, जिसके किसान 2022 तक अपनी आय चौगुनी कर लेंगे. कहा कि इस समिट से किसनों ने सीखा कि वे कैसे नयी तकनीक का इस्तेमाल कर खेती सुधार सकते हैं. कैसे कम पानी में भी पैदावार अच्छी कर सकते हैं. मुख्यमंत्री ने कहा कि इस समिट के जरिये 50 फूड प्रोसेसिंग कंपनियों से एमओयू हुआ है. चीन से भिंडी को लेकर एमओयू होने की बात हो रही है. चीन की एक टीम झारखंड में आकर अध्ययन करेगी और फूड प्रोसेसिंग प्लांट लगायेगी. रघुवर ने कहा कि मोरक्को की आबादी और झारखंड रकी आबादी एक जैसी ही है. उनसे बेहतर संबंध बनाकर हमारे किसान उस देश के किसान से मदद ले सकते हैं. किसानी के गुर सीख सकते हैं. इजरायल के साथ एमओयू होनेवाला है. ऐसा होने से किसानों को इजरायल जाने की जरूरत नहीं होगी. उन्हें यहीं प्रशिक्षण मिल जायेगा. कहा कि बाबा रामदेव झारखंड के किसानों की आय में सुधार लाने के लिए पूरी मदद करेंगे. पतंजलि के साथ ऑर्गेनिक खेती के लिए एमओयू होगा. शहद और कई दूसरी चीजों के लिए भी पतंजलि के साथ करार होगा.

इसे भी पढ़ें- सीवरेज-ड्रेनेज सिस्टम : मंत्री, सांसद के बाद अब मेयर ने जतायी नाराजगी, 15 दिसंबर तक का दिया…

इसे भी पढ़ें- ग्लोबल एग्रीकल्चर एंड फूड समिट : गंदगी छिपाने के लिए लिया गया होर्डिंग का सहारा

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: