DumkaJharkhand

#Dumka में प्रशिक्षण देनेवाला ग्लाइडर क्रैश, इंजीनियर की मौत, पायलट की हालत गंभीर

Dumka: दुमका एयरपोर्ट पर सोमवार की शाम प्रशिक्षण देनेवाला दो सीटर ग्लाइडर क्रैश कर गया. ग्लाइडर क्रैश होने से उसमें सवार इंजीनियर धर्मेंद्र कुमार की मौत हो जाने सूचना है. पायलट जेपी सिंह गंभीर रूप से घायल हुए हैं.

पायलट को इलाज के लिए दुर्गापुर रेफर किया गया है. इस मामले में दुमका एसपी से बात करने पर उन्होंने बताया कि ग्लाइडर क्रैश होने की जानकारी मिली है और 2 लोग घायल हुए हैं, लेकिन किसी की मौत हुई है या नहीं इसकी अभी तक आधिकारिक पुष्टि नहीं हो पायी है. हमें भी पत्रकार के माध्यम से ही एक की मौत होने की सूचना मिली है.

इसे भी पढ़ें – ऐसा झारखंड में ही संभव: सत्तापक्ष के 4 विधायकों ने MNREGA की सोशल ऑडिट रोकने की मांग की

दुर्घटनाग्रस्त होकर जमीन पर गिरा पैराग्लाइडर

मिली जानकारी के अनुसार सोमवार की शाम दुमका एयरपोर्ट पर आसमान में ग्लाइडर उड़ रहा था. इसी दौरान अचानक ग्लाइडर दुर्घटनाग्रस्त हो गया और सीधे जमीन पर गिर पड़ा.

बताया जा रहा है मौके पर ही ग्लाइडर में सवार इंजीनियर धर्मेंद्र कुमार की मौत हो गयी, जबकि पायलट जेपी सिंह गंभीर रूप से घायल हो गये. उन्हें प्राथमिक इलाज के बाद दुर्गापुर मिशन अस्पताल में भेजा गया है.

दोपहर में सीएम हेमंत सोरेन ने किया था निरीक्षण

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने सोमवार को अपने दुमका प्रवास के दौरान दोपहर में ग्लाइडर का निरीक्षण किया था. उन्होंने अधिकारियों से इसके संबंध में जानकारी भी ली थी.

इसे भी पढ़ें – जनहित के मुद्दों की फाइलों को अब रघुवर सरकार की तरह अटकाया नहीं जायेगाः शिक्षा मंत्री

पैराग्लाइडर से दुमका में विमान उड़ाने का प्रशिक्षण दिया जाता है

दुमका हवाई अड्डा स्थित फ्लाइंग एकेडमी में ग्लाइडर पायलट ट्रेनिंग शुरू हो गयी है. ग्लाइडर पायलट लाइसेंस के लिए प्रशिक्षुओं को ट्रेनिंग दी जा रही है.

दुमका में आधारभूत संरचना के अभाव में ग्लाइडर पायलट ट्रेनिंग की यह यूनिट देवघर में चल रही थी. देवघर हवाई अड्डा को अन्तरराष्ट्रीय हवाई अड्डा के रूप में विकसित किया जाना है.

इधर दुमका हवाई अड्डा पर हैंगर एवं फ्लाइंग एकेडमी की अन्य आधारभूत संरचनाएं उपलब्ध हो चुकी हैं. इसलिए ग्लाइडर पायलट ट्रेनिंग की यह यूनिट अब स्थायी रूप से दुमका में शिफ्ट हो गयी है.

इस प्रशिक्षण केंद्र के लिए 12 करोड़ रुपये की लागत से हैंगर भवन, प्रशासनिक भवन और छात्रावास का निर्माण कराया गया है. रनवे के जीर्णोद्धार पर 4.10 करोड़ रुपये खर्च किये गये हैं.

इसे भी पढ़ें – #Kolkata: रोजवैली चिटफंड घोटाला मामले में कई की संपत्ति कुर्क

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: