न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

धनबाद में शुरू हुआ ग्लाइडर जॉय राइड, आसमान से देख सकेंगे शहर

1,039

Dhanbad: सोमवार को परिवहन और नागर विमानन विभाग ने ग्लाइडर से जॉय राइड शुरू की. अब लोग आसमान से शहर का सुंदर नजारा देख सकेंगे. बरवाअड्डा हवाई पट्टी पर इसका उद्घाटन करते हुए उपायुक्त ने बताया कि परिवहन एवं नागर विमानन विभाग ने धनबाद में सोमवार से ग्लाइडिंग प्रशिक्षण कार्यक्रम और नागरिकों के लिए जॉय राइड आरंभ किया है. यह अगले 45 दिनों के लिए धनबाद के बरवाअड्डा हवाई पट्टी से संचालित की जाएगी.उन्होंने बताया कि जॉय राइड के लिए प्रति व्यक्ति 800 रुपये का शुल्क लिया जाएगा. इच्छुक व्यक्ति शुल्क देकर और आवेदन पत्र भरकर जॉय राइड का आनंद उठा सकेंगे. उपायुक्त ने शहर के लोगों से जॉय राइड का आनंद उठाने की अपील की.

ग्लाइडर के पायलट कैप्टन बी नारायण और कैप्टन जेपी सिंह ने बताया कि झारखंड के रांची, दुमका के बाद धनबाद में भी ग्लाइडर से जॉय राइड शुरू किया गया है. 800 रुपये शुल्क देकर 8 से 10 मिनट के लिए नागरिकों को जॉय राइड करायी जाएगी. इसके लिए धनबाद में दो मोटर ग्लाइडर उपलब्ध है. जॉय राइड सुबह 8 बजे से शाम 5 बजे तक की जा सकेगी. मौसम के अनुसार समय में परिवर्तन किया जा सकता है. जॉय राइड बॉक्स पैटर्न में बरवाअड्डा हवाई पट्टी से 5 नॉटिकल माइल की परिधि में की जायेगी.

13 ट्रेनी पायलटों को दिया जा रहा है प्रशिक्षण

जॉय राइड के साथ यहां पर नागरिक उड्डयन निदेशालय (डीजीसीए) के दिशा निर्देश के अनुसार 13 ट्रेनी पायलटों को प्रशिक्षण दिया जा रहा है. प्रशिक्षण प्राप्त करने के पश्चात नागरिक उड्डयन निदेशालय के परीक्षक कैप्टन एसपी सिन्हा ट्रेनी पायलटों के लिए सर्टिफिकेट जारी करेंगे. सर्टिफिकेट जारी करने से पूर्व ट्रेनी पायलट को एक साल में 20 से 25 घंटे की उड़ान का अनुभव होना अनिवार्य है.

दुनिया का सर्वश्रेष्ठ ग्लाइडर है साइनस

ग्लाइडर के तकनीशियन जितेंद्र कुमार ने बताया कि यहां दोनों ग्लाइडर यूरोप की स्लोवेनिया की पिपिस्ट्रेल कंपनी से निर्मित साइनस श्रेणी के हैं. इस श्रेणी के ग्लाइडर ने अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के आयोजित विश्व प्रतियोगिता में वर्ल्ड टूर कर एक कीर्तिमान स्थापित किया है. इस श्रेणी के ग्लाइडर ने विश्व की 6-7 दुर्गम चोटी पर सफल लैंडिंग की और उड़ान भरी है.

यह ग्लाइडर 10 हजार फीट की ऊंचाई तक उड़ान भर सकता है और यह डीजीसीए के विजुअल फ्लाइट रूल्स (वीएफआर) से मान्यता प्राप्त है. इस कारण यह रात्रि में उड़ान नहीं भर सकता. यह 50 से 100 मीटर की हवाई पट्टी से आसानी से उड़ान भर सकता है. इसे बॉक्स प्लेटफार्म पर निर्मित किया गया है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

%d bloggers like this: