न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

राजधानी में सुरक्षित नहीं लड़कियां, छह महीने में दुष्कर्म के 25 से ज्यादा मामले हुए दर्ज

पुलिस ने महिलाओं और लड़कियों की सुरक्षा के मद्देनजर हेल्पलाइन नंबर शुरू तो किया है. लेकिन इसके बावजूद भी लड़कियां खुद को सुरक्षित महसूस नहीं कर रही हैं.

374

Ranchi: राजधानी रांची में लड़कियां सुरक्षित नहीं हैं. उनके साथ छेड़खानी और दुष्कर्म की घटनायें थमने का नाम नहीं ले रही हैं. रांची के बेड़ो, सिल्ली, अरगोड़ा, तुपुदाना,कोतवाली, सुखदेव नगर पंडरा, रातू, बरियातू, गोंदा, कांके, जगन्नाथपुर के अलावा लगभग सभी थाना क्षेत्रों में इस तरह की घटना हो रही है. पुलिस की तमाम कोशिश के बावजूद ऐसे मामले बढ़ ही रहे हैं. पुलिस ने महिलाओं और लड़कियों की सुरक्षा के मद्देनजर हेल्पलाइन नंबर शुरू तो किया है. लेकिन इसके बावजूद भी लड़कियां खुद को सुरक्षित महसूस नहीं कर रही हैं.

इसे भी पढ़ें : बोकारो के तुपकाडीह में 11 साल की मासूम के साथ दुष्कर्म, आरोपी फरार

नाबालिग हैं निशाने पर

दुष्कर्म जैसे मामले ज्यादातर नाबालिग के साथ हो रही है. हाल ही में पंडरा इलाके में नाबालिग से दुष्कर्म का मामला सामने आया, वहीं तुपुदाना में भी दो सगी बहनों के साथ रेप का मामला सामने आया था. जबकि कोतवाली थाना क्षेत्र में भी एक युवक ने नाबालिग युवती का यौन शोषण किया और नाबालिग गर्भवती हो गयी थी. इसके अलावा जितने भी इस तरह के मामले सामने आये, इसमें सभी लड़कियां नाबालिग थी.

रांची पुलिस के मुताबिक, पिछले छह महीने में 25 से ज्यादा दुष्कर्म के मामले रांची के विभिन्न थानों में दर्ज हुए हैं और 40 से ज्यादा छेड़खानी के मामले शहर के विभिन्न थानों में दर्ज हुए हैं.

hotlips top

इसे भी पढ़ें : महिला ने करमाटांड़ सीओ पर लगाया घर में घुसकर छेड़खानी करने का आरोप

रांची के प्रमुख चौक-चौराहों पर भी होती है छेड़खानी

शहर के प्रमुख चौक-चौराहों पर भी लड़कियां खुद को सुरक्षित महसूस नहीं करती हैं. लालपुर, पुरुलिया रोड, मेन रोड , पीस रोड में लड़कियां और महिलाओं के साथ छेड़खानी होना सामान्य सी बात हो गई है .प्रशासन ने महिलाओं और कॉलेज में पढ़ने वाली छात्राओं की सुरक्षा को लेकर कई प्रयास किए, लेकिन सभी प्रयास नाकामयाब साबित हुए.

30 may to 1 june

इसे भी पढ़ें- राशन की कालाबाजारी रोकने गये मानवाधिकार कार्यकर्ता को मिली जान से मारने की धमकी

क्या कहते हैं सिटी एसपी

इस बारे में सिटी एसपी अमन कुमार कहते हैं कि लड़कियों और महिलाओं की सुरक्षा के लिए रांची पुलिस तत्पर है. इसके लिए विभिन्न थानों में महिला पुलिसकर्मी पीसीआर वैन की तैनाती की गई है .समय-समय पर स्कूल कॉलेज के पास पुलिस बल की तैनाती की जाती है. यदि महिलाएं और लड़कियां शिकायत करें तो तुरंत कार्रवाई होगी.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

o1
You might also like