DhanbadJharkhandLead News

धनबाद में युवती ने काटी नस, बाघमारा विधायक ढुल्लू महतो पर जमीन कब्जा करने का आरोप लगाकर 7 दिनों से अनशन पर थीं मां-बेटी

Dhanbad : धनबाद जिला के बाघमारा के विधायक ढुल्लू महतो पर जमीन कब्जा करने का आरोप लगाकर बीते 7 दिन से रणधीर वर्मा चौक पर परिवार के साथ कुंती देवी अनशन कर रही थीं. मंगलवार को अनशन पर प्रशासन ने कार्रवाई की और अनशनकारियों को अस्पताल ले जाया जाने लगा. इसके विरोध में कुंती देवी की पुत्री ने अपनी कलाई की नस काट ली है.

बताया जा रहा है कि मंगलवार को अनशनकारियों की तबीयत बिगड़ने के बाद डॉक्टर की टीम स्थल पर पहुंची. जहां सभी 4 लोगों की जांच की गई. जांच के बाद अस्पताल में भर्ती कराने की बात कही. अनशनकारी अस्पताल में भर्ती नहीं होना चाह रहे थे.

इसे भी पढ़ें:पूजा सिंघल मामले में हाइकोर्ट में हस्तक्षेप याचिका दाखिल, सीबीआइ जांच की मांग

इस पर पुलिस ने जबरदस्ती की. अनशन पर बैठे लोगों को पुलिस दोपहर में जबरन उठाकर एसएनएमएमसीएच, धनबाद ले गई. पुलिस की इस कार्रवाई के खिलाफ अशोक महतो और अनशनकारी कुंती देवी की बेटी सुनीति ने अपनी कलाई की नस काट ली. यह देख वहां मौजूद लोग आवाक रह गए. पुलिस भी कुछ देर के लिए सकते में आ गई.

सुनीति‍ कुमारी ने कहा कि पुलिस ने ‍ढुल्लू महतो के इशारे पर यह कार्रवाई की है. उनका अनशन तोड़वाने के लिए जबरन अस्पकताल ले जाया जा रहा है.

पुलिस इससे पहले अशोक महतो की पत्नीक कुंती देवी को उठाकर एसएनएमएमसीएच ले गई थी. पुलिस आधा घंटा बाद दोबारा अनशन स्थ ल रणधीर वर्मा चौक पहुंची और अशोक महतो, उनकी बेटी सुनीति‍ कुमारी व बेटे को भी जबर्दस्तीउ गाड़ी में बैठाया और एसएनएमएमसीएच ले जाकर भर्ती कराया.

इसे भी पढ़ें:Qutub Minar को हिंदू संगठनों ने बताया विष्णु स्तंभ, परिसर के बाहर पढ़ी हनुमान चालीसा, हिरासत में लिया

क्या है मामला

विधायक ढुल्लू महतो पर जमीन कब्जा करने का आरोप लगाते हुए बाघमारा के चि‍टाही धाम निवासी अशोक महतो अपने परिवार के साथ 4 मई से धनबाद के रणधीर वर्मा चौक पर अनशन पर बैठे थे.

न्याय मांगने वाले लोगों ने इससे पहले भी की है जान देने की कोशिश

जानकारी हो कि इससे पहले भी धनबाद में न्याय मांगने वाले लोगों ने अपनी जान देने की कोशिश की है. 2019 में कांड्रा निवासी व्यवसायी एवं आयुष फॉउंडेशन के अध्यक्ष जय कुमार सचदेवा ने सरकारी तंत्र से तंग आकर बलियापुर प्रखंड में सीओ मो० असलम के सामने आत्मदाह का प्रयास किया था. जय कुमार सचदेवा 14 महीनों से अपनी निजी जमीनी कागजात के सत्यापन के लिए कई बार प्रखंड कार्यालय का चक्कर लगा चुके थे.

लाखों रुपये वहां के कर्मचारी रमेश (अमीन)के माध्यम से सी०ओ०को दिये पर काम नहीं हो पाया. बदले में सिर्फ आश्वासन मिला कि हो जाएगा औऱ फिर औऱ रुपये की मांग की गई. इसी से तंग आकर व्यवसायी जय कुमार सचदेवा ने सी०ओ० मो असलम के सामने आत्मदाह का प्रयास किया.

वहीं बाघमारा की पीड़ित कमला देवी ने भी आत्मदाह का प्रयास किया था. जिप अध्यक्ष रहते हुए रोबिन गोराई ने डीसी कार्यालय के सामने आत्मदाह का प्रयास किया.

इसे भी पढ़ें:श्रीलंका में गृह युद्ध का खतरा, पूर्व PM महिंदा ने नेवल बेस में शरण ली, अब तक 8 की मौत, 12 से ज्यादा मंत्रियों के घर जलाये

Related Articles

Back to top button