न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

श्रीलंकाई जेल में बंद गिरिडीह का युवक, पिता ने लगायी वतन वापसी की गुहार

एजेंट की लापरवाही से फंसा युवक

156

Giridih: गिरिडीह के बगोदर प्रखंड का एक युवक पिछले माह से श्रीलंका के जेल में बंद है. इसके कारण उसके परिजनों पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा है. जानकारी के मुताबिक, बगोदर के मुंडरो गांव निवासी खुशलाल महतो के पुत्र मुकेश कुमार महतो पिछले पिछले 22 अगस्त से श्रीलंका जेल में बंद हैं. तबसे उनके परिजन काफी चिंतित और परेशान हैं. कई प्रयासों के बावजूद अभी तक मुकेश की वतन वापसी नहीं हो पा रही है. चारों तरफ से निराशा हाथ लगने के बाद मुकेश के पिता ने प्रशासन और सरकार से मदद की गुहार लगाई है.

इसे भी पढ़ेंःहैं CS रैंक के अफसर, काम कर रहे स्पेशल सेक्रेट्री का, कम ग्रेड पे पर भी काम करने को तैयार IFS अफसर

खत्म हुई वीजा की अवधि

hosp3

जानकारी के मुताबिक, पिछले 11 जून को रोजगार की तलाश में एक एजेंट के माध्यम से मुकेश अपने आठ साथियों के साथ विज़िट वीजा में श्रीलंका गया था. वहां काम नहीं मिलने की वजह से उसके साथ गए सभी आठ साथी 22 अगस्त को वापस भारत अपने घर लौट गए, लेकिन मुकेश की वीजा की अवधि समाप्त होने से श्रीलंका पुलिस ने उसे पकड़ लिया. तभी से मुकेश श्रीलंका पुलिस की गिरफ्त में है. मुकेश के पिता ने अपने बेटे की सुरक्षित वतन वतन वापसी के लिए कई जगह गुहार लगाई, लेकिन हर तरफ उन्हें निराशा ही हाथ लगी है.

इसे भी पढ़ेंःरिम्‍स: डिस्‍पोजेबल बेडशीट की योजना ही हो गयी डिस्‍पोज

श्रीलंका गए बाकी मजदूर लौटे

इधर मुकेश के साथ श्रीलंका गए बगोदर मुंडरो के रहनेवाले राजीव कुमार चौधरी, लोकनाथ कुमार, अयोध्या महतो, त्रिभुवन महतो, कृष्णा कुमार, वकील महतो, नावाडीह के रहनेवाले अनिल महतो व तिरला के रहनेवाले प्रदीप महतो नामक सभी साथी मजदूर वापस भारत अपने गांव सकुशल लौट गए. मगर मुकेश वहां फंस गया. इस मामले में इन मजदूरों को ले जाने वाले एजेंट की भूमिका संदेह के घेरे में है. जांच होने पर पूरा मामला साफ हो सकेगा.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: