GiridihJharkhand

Giridih :  प्रसाद क्लिनिक में इलाज के क्रम में महिला की मौत, परिजनों व ग्रामीणों ने किया जमकर हंगामा

Giridih : शहर के शास्त्री नगर स्थित प्रसाद क्लिनिक में सोमवार को इलाजरत महिला रींकू वर्मा की मौत होने के बाद  परिजनों ने चिकित्सक पर लापरवाही का आरोप लगाया.इस दौरान परिजनों ने क्लिनिक में जमकर हंगामा किया.  स्थिति यह हो गयी कि महिला के परिजन मौके पर क्लिनिक के कर्मियों की पिटाई करने पर उतारु हो गये,  लेकिन वक्त रहते जानकारी मिलने पर  नगर थाना के एसआई प्रदीप कुमार ने स्थिति संभाली और परिजनों को शांत कराया.

इसे भी पढ़ें : आखिर क्यों मंत्री लुईस मरांडी को कहना पड़ा, ‘दे दीजिए तीर-धनुष को अपना वोट?’

ग्रामीणों की भीड़ क्लिनिक में जुटती गयी

रींकू के मौत की जानकारी  मिलते ही  ग्रामीणों की भीड़  क्लिनिक में जुटती गयी.   ग्रामीण क्लिनिक में मारपीट के साथ तोड़फोड़ पर उतारु हो गये. लेकिन पुलिस ने मामले को संभाला. देर शाम तक क्लिनिक में हंगामा जारी रहा.  जानकारी मिलने के बाद डॉ विद्या भूषण घटनास्थल पहुंचे और  मामले को शांत कराने का प्रयास किया. इधर पति समेत अन्य परिजनों ने कहा कि डेक्सोना और टैक्सोल इंजेक्शन चिकित्सक ने रींकू को लगाया.  इस दौरान चिकित्सक डॉ गोंविद प्रसाद ने पति शंकर वर्मा को बताया कि ब्लड जांच भी की जायेगी.

advt

इसे भी पढ़ें :  पढ़ें और सुनें कैसे चुनावी सभाओं में झूठ बोल गये पीएम मोदी और केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी

उल्टी की शिकायत करते हुए रींकू बेहोश हो गयी

इसके बाद  कंपाउंडर ने रींकू का ब्लड सैंपल लेकर जांच शुरू की. इधर इंजेक्शन लगते ही रींकू की स्थिति बेहतर होने के बजाय और बिगड़ती चली गयी.  उल्टी की शिकायत करते हुए रींकू बेहोश हो गयी. कुछ देर में रींकू की मौत क्लिनिक में  हो गया.  चिकित्सक डॉ प्रसाद पर रींकू के पति शंकर वर्मा समेत परिजनों ने लापरवाही के साथ इलाज करने का आरोप लगाया.

बताया गया कि रींकू ने बीते रविवार को  सिर दर्द और बुखार आने की शिकायत की  थी.  सोमवार को मुफ्फसिल थाना क्षेत्र के लेदा के लालपुर गांव निवासी शंकर वर्मा अपनी पत्नी रींकू को लेकर प्रसाद क्लिनिक पहुंचे और दोपहर 12 बजे भर्ती कराया.  जहां चिकित्सक ने रींकू को दो इंजेक्शन लगाये. इंजेक्शन लगते ही रींकू वर्मा की स्थिति और बिगड़ने लगी.

डॉ प्रसाद ने परिजनों के आरोपों को गलत बताया

चिकित्सक डॉ प्रसाद ने परिजनों के आरोपों को गलत बताते हुए कहा कि वह हर मरीज को इंजेक्शन लगाने से पहले जांच करते है, फिर इंजेक्शन लगाते है. लेकिन रींकू को जब  इंजेक्शन लगाया गया , तो उसकी स्थिति बिगड़ने लगी. वह रींकू की स्थिति सामान्य करने के प्रयास में जुट गये.  स्थिति बिगड़ते देख  चिकित्सक ने परिजनों को रींकू को तुंरत धनबाद ले जाने का सुझाव दिया.  लेकिन इलाज के क्रम में उसकी मौत हो गयी.

adv

इसे भी पढ़ें : #SaryuRoy का सीएम पर फिर निशाना, बोले- ब्लैकलिस्टेड कंपनी को दिया गया अंडरग्राउंड केबलिंग का ठेका

 

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button