न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

गिरिडीह : डॉक्टर साहब गायब, इंतजार में बैठे रहते हैं एचआईवी मरीज

ड्यूटी से गायब रहते हैं मेडिकल अफसर, सदर अस्पताल का एआरटी सेंटर बदहाल

309

Giridih : राज्य सरकार ने राष्ट्रीय एड्स नियंत्रण संगठन(नाको) के सहयोग से एचआईवी मरीजों की चिकित्सा के लिए राज्य के कई सदर अस्पतालों में एआरटी सेंटर भले ही खोल दिया है, मगर इनमें कार्यरत चिकित्सकों की लापरवाही से एचआईवी मरीजों की तकलीफ और बढ़ गई है. ऐसा ही दर्द गिरिडीह के एचआईवी मरीजों को भी झेलना पड़ रहा है. उनका आरोप है कि गिरिडीह सदर अस्पताल स्थित एआरटी सेंटर में कार्यरत मेडिकल ऑफसर डॉ अमित गोंड हमेशा अपनी ड्यूटी से गायब रहते हैं. जिससे उन्हें चिकित्सा कराने में काफी परेशानी होती है. न्यूजविंग ने जब पता किया तो इन आरोपों को सही पाया. शनिवार को भी सेंटर में जिले के सुदूर गांवों से आए मरीज डॉक्टर के इंतजार में सुबह से ही बैठे मिले.

इसे भी पढ़ें- डीसी साहब! इस वीडियो को देखने के बाद भी कहेंगे कि पाकुड़ में नहीं हो रहा है अवैध बालू उठाव

hosp1

 झूठ बोलकर गायब रहते हैं डॉक्टर

जब न्यूजविंग के संवाददाता ने एआरटी सेंटर के कर्मचारी से डॉक्टर के बारे में पूछा तो जवाब मिला कि डॉक्टर साहब ऑपरेशन कर रहे हैं. जानकारी लेने पर पता चला कि डॉक्टर अमित सदर अस्पताल के किसी भी ओटी में नहीं थे, बल्कि अपने निजी क्लीनिक में मौजूद थे. साफ है कि इसी तरह झूठ बोलकर मरीजों को निपटाया जाता है.

इसे भी पढ़ें: जिस दिन पीएम झारखंड आये थे, उसी दिन सीएस सुधीर त्रिपाठी का एक्सटेंशन हो गया था कंफर्म

हजारों एचआईवी मरीजों को होती है परेशानी

सेंटर में उपस्थित कई एचआईवी मरीजों और पीएलएचए नेटवर्क (पीपल लिविंग विद एचआईवी एड्स नेटवर्क) के जिला सदस्यों ने न्यूजविंग को नाम न बताने की शर्त पर बताया कि गिरिडीह जिले में एचआईवी पीड़ितों की संख्या में बेतहाशा बढ़ोतरी हुई है. जिले भर के एचआईवी पॉजिटिव मरीज हर माह दवा और चिकित्सा लेने एआरटी सेंटर आते हैं. मगर सेंटर में कार्यरत एसएमओ डॉ अमित गोंड कभी समय पर नहीं आते और अपने निजी क्लीनिक में व्यस्त रहते हैं. जबकि उन्हें सरकार से इस पद के लिए मोटी तनख्वाह मिलती है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: