न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें
bharat_electronics

गिरिडीहः पानी की समस्या को लेकर ग्रामीणों ने घंटों किया चैताडीह रोड जाम  

दोनों तरफ मालवाहक और सवारी वाहन घंटों जाम में फंसे रहे, प्रदर्शन कर रहे ग्रामीणों ने ट्रीटमेंट प्लांट के कर्मियों पर लगाया पानी बेचने का आरोप

32

Giridih : भीषण गर्मी में पानी की समस्या से हर क्षेत्र में हाहाकार मचा हुआ है. सोमवार को पानी की समस्या से गुस्साए ग्रामीणों ने चैताडीह-गिरिडीह रोड जाम कर दिया. हैरानी की बात यह है कि ग्रामीणों ने जिस इलाके में रोड जाम किया,, उसी इलाके में नगर निगम का वाटर ट्रीटमेंट प्लांट होने के साथ सीसीएल के दो चानक भी हैं. जिससे शहर के आधे हिस्से में पानी की सप्लाई की जाती है. जान लें कि चैताडीह, कमरसाली, छह नंबर पेसराबहियार समेत इलाके में करीब दो-ढाई माह से पानी को लेकर हाहाकार मचा हुआ है.

eidbanner

इसी कारण ग्रामीणों और महिलाओं ने सोमवार को रोड जाम कर दिया. तीन घंटे रोड जाम होने के बाद गिरिडीह-चैताडीह में दोनों और मालवाहक और सवारी वाहनों की लंबी कतार लग गयी. कई ऐसे बाईक सवार भी फंस गये, जो बच्चों और पत्नी के साथ वहां से गुजर रहे थे. लिहाजा, तीन घंटे रोड जाम होने के कारण सबसे अधिक परेशानी ऐसे बाईक सवारों को ही उठानी पड़ी.

सुबह-शाम पानी ढोकर लाना पड़ता है

जिस वक्त ग्रामीणों ने चैताडीह रोड  बांस-बल्ली और बर्तन लगाकर जाम किया, उस वक्त जो तस्वीरें दिखी, वह भी दिलचस्प थी, क्योंकि एक तरफ रोड जाम था, दूसरी तरफ महिलाएं और छोटी बच्चियां कड़ी धूप में पानी ढो कर लाती नजर आयीं. पूछने पर महिलाओं ने बताया कि रमजान के महीने में पानी की समस्या ने उनकी परेशानी बढ़ा दी है. घर से करीब डेढ़ किमी दूर नित्यदिन सुबह-शाम पानी ढोकर लाना पड़ता है.

ट्रीटमेंट प्लांट के कर्मियों के खिलाफ नारेबाजी

रोड जाम कर रही महिलाएं नगर निगम और ट्रीटमेंट प्लांट के कर्मियों के खिलाफ नारेबाजी  कर रही थी. चैताडीह वाटर ट्रीटमेंट प्लांट के कर्मियों पर आरोप लगाते हुए कहा कि जिस इलाके में प्लांट है, वहां पानी आपूर्ति नहीं हो रही है, जबकि प्लांट के कर्मी कई दिनों से नित्यदिन वाटर टैंकर से पानी को चोरी-छिपे बेच रहे है.

रोडजाम कर रही महिलाओं व ग्रामीणों में मो आरिफ अंसारी, शंकर दास के अलावे प्रभा देवी, सुशीला देवी, जुलेखा खातून, लीलावती देवी, शंकुतला देवी, आभा देवी समेत अन्य शामिल थे. ग्रामीणों का यह भी आरोप था कि नगर निगम में शामिल होने के बाद सबसे अधिक परेशानी पानी को लेकर हुई है.

रोड जाम की जानकारी मिलने के बाद पचंबा थाना प्रभारी शर्मानंद सिंह पुलिस जवानों के साथ वहां पहुंचे और समझा-बुझाकर रोड जाम को हटाया. इसके बाद थाना प्रभारी के साथ ग्रामीण और महिलाएं ट्रीटमेंट प्लांट पहुंचे, जहां मशीनें चालू थी, और हर मशीन से पानी निकल रहा था, लेकिन दूसरे इलाकों के लिए, न कि चैताडीह और कमरसाली के लिए.

इसे भी पढ़ें – अजय कुमार के इस्तीफे से बंटी कांग्रेस, कहीं खुशी तो कहीं है गम

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

dav_add
You might also like
addionm
%d bloggers like this: