न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

गिरिडीहः दो सरकारी कर्मचारी घूस लेते रंगे हाथ गिरफ्तार, आवास से मिले 8 लाख नकद

एंटी करप्शन ब्यूरो धनबाद की टीम ने रंगे हाथों पास्कल को किया गिरफ्तार

176

Giridih: एंटी करप्शन ब्यूरो (एसीबी) की धनबाद टीम ने गुरुवार को गिरिडीह के डुमरी अनुमंडल के फील्ड सुपरवाइजर राकेश कुमार पास्कल को 60 हजार रुपये घूस लेते रंगे हाथों गिरफ्तार किया. वही गिरिडीह के भूमि संरक्षण कार्यालय के हेड क्लर्क को भी एसीबी ने गिरफ्तार किया है. एसीबी की टीम ने दोनों के गिरिडीह आवास से 8 लाख से अधिक नकद बरामद किये हैं.

बताया जा रहा है कि फील्ड सुपरवाइजर राकेश कुमार पास्कल ने लंबित भुगतान को जारी करने के एवज में 60 हजार रुपये की मांग की गई थी. यह राशि गिरिडीह जिले के डुमरी पंचायत में 15.85 लाख रुपये की लागत से बन रहे तालाब के लिए स्वीकृत की गयी थी. पास्कल ने कुल लागत का 19 प्रतिशत घूस पंचायत कमेटी से मांगा था.

निर्माण राशि का 19 फीसदी मांगा घूस

डुमरी के तलखेरा के रहनेवाले अशोक कुमार ने अपनी शिकायत में कहा था कि श्री पास्कल तालाब निर्माण के लिए बेवजह अधिक पैसे की मांग कर रहे हैं. तलखेरा जल पंचायत के अध्यक्ष बनने के बाद श्री कुमार ने तालाब निर्माण से संबंधित राशि जल पंचायत के खाते में मंगायी थी. इसके लिए एक बैंक खाता भी खोला गया था. भूमि संरक्षण पदाधिकारी दिनेश मांझी के निर्देश पर यह खाते खोले गये थे, जिसमें 1.50 लाख रुपये भी जमा हैं.

जून 2018 में तालाब निर्माण का काम भी पूरा हो गया. जल संसाधन विभाग के कनीय अभियंता ने काम पूरा होने की जांच करने के बाद भुगतान की प्रक्रिया बढ़ाने की अनुशंसा भी की थी. इसके बाद 8,80,700 रुपये का आवंटन सरकार की तरफ से किया गया. इस राशि को राकेश कुमार पास्कल ने होल्ड कर दिया. पास्कल ने 19 प्रतिशत घूस की राशि की मांग शुरू कर दी. जल पंचायत के श्री कुमार ने आजीज आकर एसीबी से पूरे मामले की शिकायत कर दी.

SMILE

ऐसे पकड़े गये पास्कल

राकेश कुमार पास्कल के खिलाफ मिली शिकायत पर एसीबी के एसपी सुदर्शन मंडल ने टीम गठित की. टीम गठन के बाद 60 हजार रुपये लेते हुए पास्कल को रंगे हाथों पकड़ा गया. एसीबी की तरफ से धनबाद में प्राथमिकी भी दर्ज करायी गयी है. यह धनबाद में एसीबी की टीम की तरफ से नौवां शिकार है. इससे पहले बोकारो के उपायुक्त के स्टेनोग्राफर को 71 हजार रुपये लेते हुए पकड़ा गया था.

इसे भी पढ़ेंःबिजली वितरण व्यवस्था निजी हाथों में सौंपने की तैयारी, टाटा पावर को मिल सकती है महत्वपूर्ण जिम्मेवारी

इसे भी पढ़ेंः रिम्स में डॉक्टर के चेंबर में मिले खून के धब्बे

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: