न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

गिरिडीह  :  शिवम स्टील कंपनी समूह में आयकर विभाग की छापेमारी खत्म,  निदेशक भाईयों ने 150 करोड़ की  टैक्स चोरी को स्वीकारा!

डेढ़ करोड़ नकद के साथ एक करोड़ के जेवरात आयकर विभाग ने किये सील, दर्जन भर से अधिक बैंक पासबुक, आउटसेल बुक रजिस्टरों के साथ कई दस्तावेज जब्त

215

Giridih : गिरिडीह के शिवम स्टील कंपनी समूह के कोलकाता, दुर्गापुर, रानीगंज के 30 ठिकानों में तीन दिनों से चल रही कोलकाता आयकर विभाग की छापेमारी शुक्रवार देर शाम खत्म हुई.  जबकि कोलकाता और रानीगंज के कार्यालय व कारखानों में शुक्रवार शाम तक छापेमारी जारी रहने की बात कही जा रही है. तीसरे दिन शुक्रवार को ही शिवम स्टील कंपनी के एक बड़े ट्रैडर्स के यहां भी कोलकाता आयकर विभाग के अधिकारियों ने छापेमारी की और  ट्रैडर्स के  दस्तावेजों को खंगाला गया.  तीन दिनों की  छापेमारी की कार्रवाई में दो सौ करोड़ से अधिक की बेनामी संपति का खुलासा होने की बात सामने आयी है.

खबर है कि 150 करोड़ की टैक्स चोरी की बात खुद कंपनी के निदेशक भाईयों विनोद अग्रवाल और प्रमोद अग्रवाल ने स्वीकारी है. तीन दिनों की कार्रवाई के दौरान आयकर विभाग केअधिकारी डेढ़ करोड़  नकद और एक करोड़ के जेवरात सील कर कोलकाता साथ ले गये.  पूर्व में  450 करोड़ की टैक्स चोरी की बात सामने आयी थी.  आज कार्रवाई के दौरान कंपनी के कारखानों समेत गिरिडीह, कोलकाता और रानीगंज स्थित कार्यालयों से तमाम दस्तावेजों को भी जब्त किया गया है. साथ ही कंपनी के कार्यालय और आवास से दर्जन भर से अधिक पासबुक जब्त किये जाने की बात कही जा रही है.

इसे भी पढ़ें : सीएनटी एक्ट का उल्लंघन कर ब्रदर ने खरीदी 4.23 एकड़ जमीन, खरीदी 2.6 लाख में, बेची 4.72 करोड़ में

 शिवम स्टील ने 12 सालों में अकूत बेनामी संपति खड़ा कर रखी है

अंतिम दिन छापामारी के क्रम में  विभागीय अधिकारियों ने शिवम स्टील कंपनी के घालमेल और टैक्स चोरी का पर्दाफाश किया, उससे  यह सामने आया कि गिरिडीह की कंपनी  शिवम स्टील ने 12 सालों में अकूत बेनामी संपति खड़ा कर रखी है.  अब आयकर विभाग एक साथ सात सालों की फाईलों को खंगालने की तैयारी में जुट चुका है.  इसकी पुष्टि भी कोलकाता आयकर विभाग के एक बड़े अधिकारी ने की है.  छापेमारी में जो तथ्य निकल कर सामने आये हैं. उसके अनुसार  शिवम स्टील कंपनी द्वारा सप्लायरों से  रॉ मैटेरियल की खरीदारी   कैश और कच्चे कागजों पर की जाती थी.  इसी बड़ी गड़बड़ी के कारण आयकर अधिकारियों ने अंतिम दिन कंपनी के गिरिडीह स्थित एक बड़े ट्रैडर्स के यहां भी छापेमारी की.

SMILE

फर्जी कंपनियों ने लेनेदेन का आंकड़ा कई सौ करोड़

छापेमारी के क्रम में  अधिकारी  ने कार्यालय से कई दस्तावेज जब्त कर साथ ले गये.  सप्लायरों से कैश और कच्चे कागजों पर रॉ  मैटेरियल की खरीदारी करने के साथ उससे   तैयार स्टाक को शिवम कंपनी आउटसेल बुक अपडेट किये बगैर बेचा करती थी. जिसमें टीएमटी सरिया छड़, इंगोर्ड, सील्कोमैगनीज, आयरनओर शामिल है.कंपनी के कई आउटसेल बुक रजिस्टर को भी सील किया गया है. हालांकि सील की गयी आउटसेल बुक के आंकड़े बताने से   कोलकाता आयकर डीसी गीतेश कुमार और सब्या कुमारी ने इनकार कर दिया.

सूत्रों  के अनुसार  कोलकाता की जिन फर्जी कंपनियों से शिवम स्टील कंपनी ने कर्ज लेकर कारोबार किया है।, उसकी संख्या  सामने नहीं आयी है,  लेकिन ऐसी फर्जी कंपनियों ने लेनेदेन का आंकड़ा कई सौ करोड़ बताया जा रहा है.  तीसरे दिन  कंपनी के बड़ा चौक स्थित प्रमुख कार्यालय के अलावा ताह कंपलेक्स और शहर के बाभनटोली रोड स्थित दो बड़े आलीशान भवनों में छापेमारी की कार्रवाई दोपहर बाद खत्म हुई. उसके बाद अधिकारियों के वाहन एक-एक कर बाहर निकलते देखे गये.

इसे भी पढ़ें : पलामू : पुल उड़ाने आये नक्सलियों से पुलिस-CRPF की मुठभेड़, चार गिरफ्तार, तीन बाइक बरामद

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: