GiridihJharkhand

#Giridih: 16 मौतों के बाद पीएमसीएच से चिकित्सकों की टीम प्रभावित गांवों में पहुंची, स्वास्थ्य जांच की

Giridih: सरिया और देवरी में सात दिनों में 16 मौतों के बाद सोमवार को राज्य सरकार के निर्देश पर धनबाद पीएमसीएच के दो चिकित्सकों की टीम गिरिडीह पहुंची.

टीम में शामिल पीएमसीएच के चिकित्सक डॉ रविरंजन और डॉ एजे अंसारी ने सदर अस्पताल पहुंच कर सिविल सर्जन डॉ अवधेश सिन्हा से मुलाकात की, उसके बाद उनके निर्देश पर जिला आरसीएच पदाधिकारी डॉ सिद्धार्थ सन्याल टीम ने दोनों चिकित्सकों के साथ सरिया के फकीरापहरी और देवरी के गादीकला गांव का दौरा किया.

दोनों चिकित्सक और आरसीएच पदाधिकारी पहले सरिया के फकीरापहरी गांव पहुंचे और मेडिकल कैंप लगाया. मेडिकल कैंप में टीम के चिकित्सकों ने पूरे गांव वालों के ब्लड सैंपल इकट्ठे किये. साथ ही ग्रामीणों के स्वास्थ्य की जांच की.

एक गांव में कुछ ही लोग बीमार मिले

हालांकि, स्वास्थ्य जांच के दौरान फकीरापहरी गांव के कुछ ग्रामीणों को छोड़कर कोई और बीमारी से ग्रसित नहीं मिला.  इसके बाद चिकित्सकों ने ऐसे मरीजों को एहतियातन शराब से दूर रहने का सुझाव देते हुए कुछ दवाइयां दीं.

इसके बाद दोनों चिकित्सकों के साथ आरसीएच पदाधिकारी देवरी के गादीकला गांव भी पहुंचे और गांव में मेडिकल कैंप लगाकर सबसे पहले सभी ग्रामीणों की जांच की.

दोनों चिकित्सकों ने ग्रामीणों के ब्लड सैंपल लेने के बाद हर ग्रामीण की जांच की जिसमें कुछ ग्रामीणों को छोड़कर अधिकतर ग्रामीण पेट दर्द और बुखार से ग्रसित मिले.

पीएमसीएच के चिकित्सकों ने वैसे हर मरीज को तत्काल दवा दी जिनके भीतर जानलेवा लक्षण नजर आये. इधर स्वास्थ्य जांच और ब्लड सैंपल लेने के बाद दोनों चिकित्सकों ने पत्रकारों से बातचीत के क्रम में मौत की वजह जहरीला शराब को ही बताया.

इधर रविवार की रात सदर अस्पताल में भर्ती सरिया के एक और व्यक्ति के मौत होने की बात कही गयी. इन दोनों गांवों में तेजी से होती मौतों के बाद अब डीसी राहुल सिन्हा के निर्देश पर ग्रामीण क्षेत्रों में वाद्य यंत्रो से नशे के सेवन से बचने के लिए जागरुकता अभियान भी चलाया जा रहा है.

इसे भी पढ़ें : बाबूलाल मरांडी के बीजेपी में शामिल होने के बाद…

डीसी और एसपी ने कहा- मौत का कारण बना अत्यधिक शराब का सेवन

गिरिडीह में 16 लोगों की मौत अत्यधिक शराब के सेवन से हुई है. यह बात डीसी राहुल सिन्हा और एसपी सुरेन्द्र झा ने सोमवार को प्रेसवार्ता कर कही.

हालांकि दोनों अधिकारियों ने प्रेसवार्ता के क्रम में यह भी कहा कि 16 मौतों के दौरान दो लोगों का ही पोस्टमॉर्टम कराया गया.

साथ ही पीएमसीएच धनबाद के दो चिकित्सकों की टीम ने दोनों गांवों के ग्रामीणों का ब्लड सैंपल लिया है. लिहाजा, अब रिपोर्ट आने के बाद ही सही बताया जा सकता है कि किस प्रकार के शराब सेवन से इतनी मौते हुईं. जिला प्रशासन अब ब्लड सैंपल और पोस्टमार्टम रिपोर्ट का ही इंतजार कर रही है.

एक की मौत कैंसर से

वैसे प्रेसवार्ता के क्रम में डीसी ने यह भी कहा कि जिले के दोनों गांवो में मौत की वजह सिर्फ अत्यधिक शराब ही नहीं है, बल्कि जांच के क्रम में यह भी सामने आया है कि एक की मौत का कारण कैंसर की बीमारी रही.

उन्होंने कहा कि दुर्भाग्य से कैंसर से ग्रसित व्यक्ति की मौत इन घटनाओं के बीच ही हुई.

डीसी ने यह भी कहा कि जितने लोगों की मौत हुई है उसमें दो लोग कोडरमा के थे. दोनों केस कोडरमा रेफर कर दिये गये हैं ताकि दोनों मृतकों के आश्रितों को पारिवारिक लाभ से सहयोग दिलाया जा सके.

वैसे गिरिडीह के जितने केस है उनलोगों को पारिवारिक लाभ की प्रकिया शुरू कर दिया गया है.

जिले में लगातार हुई मौत पर दोनों अधिकारियों ने अफसोस जाहिर करते हुए कहा कि राज्य स्तर पर छापेमारी की कार्रवाई शुरू हो चुका है. अब तक कई लोगों को गिरफ्तार किया गया, तो बड़े पैमाने पर जावा महुआ भी नष्ट किये गये.

यही नहीं, सरकार के निर्देश पर लगातार प्रभावित गांवो में मेडिकल कैंप लगाकर ग्रामीणों के स्वास्थ की जांच भी की जा रही है. साथ ही प्रभावित गांवों में जागरुकता अभियान तेज कर दिया गया है कि लोग खुद भी शराब से दूर रहें और दुसरों को भी दूर रहने का सुझाव दें.

इधर एसपी सुरेन्द्र झा ने कहा कि चुनाव के समय से ही शराब के अवैध कारोबार के खिलाफ कार्रवाई शुरू हो गयी थी.

इसे भी पढ़ें : कांग्रेस में शामिल हुए प्रदीप और बंधु, आरपीएन ने कहा- जेवीएम के 3 में 2 विधायक कांग्रेस के साथ

एसआइटी गठित

इन दर्दनाक घटनाओं के बाद पूरे जिले में दो एसआइटी का गठन किया गया है. जो अब उत्पाद विभाग के सहयोग से जिले में छापेमारी अभियान चलायेगी.

वैसे देवरी और सरिया में अवैध शराब के खिलाफ दो केस दर्ज किये जा चुके हैं और कार्रवाई भी शुरू हो गयी है. एसपी ने भी प्रेसवार्ता के क्रम में कहा कि मौत की वजह अत्यधिक शराब का सेवन करना ही रहा है.

इसलिए एसआइटी की कार्रवाई नक्सल इलाकों के साथ और दूसरों इलाकों में शुरू हो चुकी है. किसी सूरत में जहरीली शराब का कारोबार करने नहीं दिया जायेगा.

प्रेसवार्ता में उत्पाद अधीक्षक अवधेश सिंह के अलावे जिला आरसीएच पदाधिकारी डॉ सिद्धार्थ सन्याल और डीपीआरओ रश्मि सिन्हा भी मौजूद थे.

इसे भी पढ़ें : बिजली चोरी मामले में ACB ने 2014 में मांगी थी स्वीकृति, सरकार बदलने के बाद हुई कार्रवाई

Telegram
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
Close