GiridihJharkhand

Giridih: एसडीएम और सीओ टफकॉन टीएमटी कंपनी की फैक्ट्री में पहुंचे

  • जमीन कारोबारी सोंथालिया द्वारा बंदोबस्त की गयी जमीन पर कब्जे की शिकायत की भी अधिकारियों ने की जांच

Giridih: सरकारी प्लॉटों पर अवैध कब्जा कर फैक्ट्री चलाने की शिकायत पर मंगलवार को सदर एसडीएम प्रेरणा दीक्षित ने गिरिडीह के टफकॉन टीएमटी फैक्ट्री की कंपनी लंगटा बाबा स्टील का निरीक्षण किया. इस दौरान एसडीएम ने औद्योगिक इलाका राउतगादी के उस सरकारी प्लॉट को देखा जिस पर अवैध कब्जा का प्रयास शहर के रियल स्टेट कारोबारी धु्रव सोंथालिया द्वारा किया जा रहा था.

Jharkhand Rai

इधर एसडीएम प्रेरणा दीक्षित और सीओ रवीन्द्र सिन्हा सबसे पहले टफकॉन टीएमटी की फैक्ट्री पहुंचे. लेकिन एसडीएम का वाहन देखने के बाद फैक्ट्री के प्राइवेट गार्ड ने गेट खोलने से इंकार कर दिया. इस दौरान एसडीएम के बॉडीगार्ड ने जब गार्ड को डांटा तो गेट खुला.

इसके बाद दोनों अधिकारियों ने पूरी फैक्ट्री का निरीक्षण किया. निरीक्षण के क्रम में एसडीएम ने भी देखा कि लंगटा बाबा स्टील फैक्ट्री को लेकर जो शिकायत है वह सही है. 1911 के खातियान के अनुसार लंगटा बाबा स्टील फैक्ट्री जिस प्लॉट पर संचालित है वह एक किस्म का वनभूमि जीएम लैंड पाया गया. उसे समतल कर फैक्ट्री मालिक मोहन साव रैयती प्लॉट का स्वरूप देकर फैक्ट्री का संचालन कर रहे हैं.

इसे भी पढ़ें – पूर्व डीलर का आरोप- ‘बेटी को अधिकारी के पास नहीं भेजा तो लाइसेंस रद्द कर दिया, 1.20 लाख घूस भी लिया’

Samford

जमीन कब्जा कर चलायी जा रही फैक्ट्री

इधर मामले की जानकारी लेने पर सीओ सिन्हा ने बताया कि हरसिंगरायडीह मौजा के थाना नंबर 281 के खाता नंबर 12 और प्लॉट नंबर 1023 में रकबा 30 एकड़ के पांच एकड़ प्लॉट को कब्जा कर लंगटा बाबा स्टील फैक्ट्री का संचालन किया जा रहा है.

इलाके के पार्षद से मिली शिकायत के आधार पर एसडीएम ने सीओ को फैक्ट्री मालिक को नोटिस जारी कर स्पष्टीकरण देने का निर्देश दिया.

इसे भी पढ़ें – झारखंड में पहली बार आपदा प्रबंधन प्राधिकार के गठन को मिली मंजूरी

ग्रामीणों की बंदोबस्त जमीन पर रियल स्टेट कारोबारी का कब्जा

इसके बाद दोनों अधिकारी राउतगादी भी पहुंचे जहां साल 1969 में सरकार द्वारा स्थानीय ग्रामीणों को बंदोबस्त की गयी जमीन पर शहर के रियल स्टेट कारोबारी धु्रव सोंथालिया द्वारा कब्जा किये जाने की बात सामने आयी.

ग्रामीणों से बातचीत कर एसडीएम को जानकारी मिली कि ग्रामीणों को बंदोबस्त सरकार द्वारा किया गया था. वहीं अब इस गांव के बंदोबस्त प्लॉट को भी कब्जे का प्रयास किया जा रहा है. इधर सीओ ने बताया कि बंदोबस्त की गयी जमीन को खरीदने और बेंचने का अधिकार किसी को नहीं है.

लेकिन कारोबारी धु्रव सोंथालिया ने किस आधार पर बंदोबस्त प्लॉट का केवाला खरीदा है यह जांच का विषय है. लिहाजा, सीओ अब कारोबारी सोंथालिया को भी नोटिस जारी की तैयारी में जुट गये हैं.

इसे भी पढ़ें – Ranchi: रिम्स परिसर में ASI से 2 लाख छीनकर भागे अपराधी, बेटी की शादी के लिए निकाले थे रुपये

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: