Crime NewsGiridihJharkhand

गिरिडीह : कर्ज का पैसा नहीं चुकाने पर पिलर से बांधकर की गयी व्यक्ति की पिटाई, लोग बनाते रहे वीडियो

Giridih : गिरिडीह जिले से इंसानियत को तार-तार करने वाली तस्वीर सामने आई है. जहां कर्जदार विनोद नायक को उसके घर के पिलर में करीब दो घंटे तक बांध कर रखा गया. वहीं भाई, बेटे ब्रहमदेव साव और दिवाकर साव ने भी कर्जदार के साथ मारपीट की है. कर्जदार की पत्नी के साथ भी मारपीट की गयी है. जानकारी के अनुसार इंदिरा देवी को पेट पर लात मारा गया है. घटना में दोनों पति-पत्नी को गंभीर चोट आई है.

जानकारी के अनुसार विनोद अपनी बाइक से पूजा कर वापस घर लौट रहा था. इसी दौरान आरोपी ने विनोद व उसकी पत्नी के साथ मारपीट की और उनकी बाइक भी रख ली. स्थानीय लोग घटना की वीडियो बनाते रहे लेकिन किसी ने उन्हें बचाने की पहल नहीं की.

advt

इसे भी पढ़ें: हैवियस कॉर्पस मामलाः हाइकोर्ट ने किया फैसला- कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालय में पढ़ेगी नाबालिग

भाजपा नेता ने घटना की जानकारी पुलिस को दी. जिसके बाद जानकारी मिलने के बाद धनवार थाना पुलिस मौके पर पहुंची. जिसके बाद पीड़ित को बचाया जा सका. आकोपी उमेश नायक को भी पुलिस ने हिरासत में ले लिया है.

घटना को लेकर धनवार थाना प्रभारी नवीन सिंह ने मामले की पुष्टि करते हुए कहा कि दोनों पक्ष से पूछताछ की जा रही है.

मामला गंभीर है तो वरीय अधिकारियों से विचार कर आरोपी सूदखोर कारोबारी उमेश नायक के खिलाफ अवैध तरीके से सूद पर पैसे देने और मारपीट कर जबरन पैसे वसूली के आरोप में केस दर्ज किया जा सकता है.

इसे भी पढ़ें:निगम के तेवर तल्खः 15 दिन में आवास का काम पूरा करें, नहीं तो 1840 लोगों पर की जायेगी एफआइआर

आरोपी सूदखोर उमेश और कर्जदार विनोद दोनों धनवार के एक ही गांव नावागढ़चट्टी के रहने वाले हैं. सूदखोर उमेश सूद-ब्याज में गांव के लोगों को पैसे देने का काम करता है. इतना ही नहीं उमेश कर्जदारों से सादे कागज में साईन कराने के बाद ब्याज के रुप में मोटी रकम की वसूली करता है.

जानकारी के अनुसार विनोद ने गांव के जमीन पर मकान बनाने के लिए उमेश नायक से साल 2016 में 50 हजार का रकम तीन प्रतिशत ब्याज पर ली थी.

इसे भी पढ़ें:OBC आरक्षण पर रोक बरकरार, हाईकोर्ट ने अर्जी खारिज कर पलटा MP सरकार का फैसला

कर्जदार ने पैसे लेने के दौरान एक साल में पैसे चुकाने का भरोषा भी दिलाया. जिसमें दो सालों बाद साल 2018 में भुक्तभोगी विनोद नायक ने उमेश को 33 हजार दिये.

कर्ज के बदले 33 हजार के भुगतान के दौरान उमेश ने एक कागजात में साईन किया, लेकिन कुछ दिनों बाद उमेश ने भुक्तभोगी से डेढ़ लाख की मांग की. पैसे वसूली को लेकर कर्जदार को नोटीस भी दिया गया था. जिसके बाद आरोपी ने कर्जदार की पिटाई की.

इसे भी पढ़ें: पलामू : क्या है यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया के लॉकर पर रहस्य ? तीन और ग्राहकों की संपत्ति हुई गायब !

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: