Crime NewsGiridihJharkhand

Giridih: पुलिस अधिकारी व जवान हत्याकांड में फरार चला नक्सली किशोर बरनवाल गिरफ्तार

Giridih: गिरिडीह के भेलवाघाटी थाना पुलिस ने 12 सालों से फरार चल रहे हार्डकोर माओवादी किशोर बरनवाल को भेलवाघाटी सीआरपीएफ के ज्वांईट ऑपरेशन के दौरान दबोचने में सफलता पायी है. भेलवाघाटी थाना पुलिस को यह सफलता शनिवार की सुबह उस वक्त मिली जब फरार माओवादी किशोर बरनवाल भेलवाघाटी थाना इलाके सलैयाटांड गांव में अपने किसी खास परिचित से मिलने पहुंचा था.

इसी दौरान भेलवाघाटी थाना पुलिस को किशोर बरनवाल की गुप्त सूचना मिलने के बाद भेलवाघाटी थाना प्रभारी प्रशांत कुमार ने सलैयाटांड के उस इलाके की जबरदस्त घेराबंदी की और माओवादी को दबोचने में सफल रहे.

हालांकि पुलिस को देखते हुए माओवादी ने भागने का प्रयास किया. लेकिन पुलिस की घेराबंदी काफी तगड़ी रही, जिसके कारण माओवादी किशोर भाग नहीं पाया. अहले सुबह दबोचने के बाद भेलवाघाटी थाना पुलिस ने माओवादी किशोर बरनवाल को जमुई जिले के सोनो थाना पुलिस के हवाले कर दिया.

Catalyst IAS
ram janam hospital

इसे भी पढ़ें :BIG NEWS : स्टार जैवलिन थ्रोअर नीरज चोपड़ा ने दिखाया दम, भारत को दिलाया पहला GOLD

The Royal’s
Sanjeevani

जानकारी के अनुसार किशोर बरनवाल की गिरफ्तारी को दोनों जिलों की पुलिस बड़ी सफलता मान रही है. हार्डकोर माओवादी किशोर जमुई जिले के सोनो थाना क्षेत्र का रहने वाला है. वैसे इस हार्डकोर माओवादी के खिलाफ गिरिडीह-जमुई में कोई इनाम तो घोषित नहीं है और ना ही गिरिडीह में इसके खिलाफ कोई नक्सली केस ही दर्ज है.

लेकिन साल 2009 में इस माओवादी ने सोनो थाना में पदस्थापित एक एसआई और सैट के एक जवान का अपहरण कर दोनों की हत्या कर दी थी. इसके बाद से यह फरार चल रहा था. जबकि इस घटना को लेकर सोनो थाना में थाना कांड संख्या 120/2009 दर्ज किया गया था.

इस फरार माओवादी को गिरफ्तार किए जाने को लेकर कई बार जमुई और गिरिडीह के भेलवाघाटी, सोनो, चकाई के सीमावर्ती इलाकों में सर्च ऑपरेशन तक चलाया गया. लेकिन पुलिस को कोई सफलता नहीं मिली. इसी क्रम में शनिवार की अहले सुबह सलैयाटांड गांव में भेलवाघाटी थाना पुलिस ने इस माओवादी को दबोचा.

इसे भी पढ़ें :धनबाद में छात्रों पर लाठीचार्जः गरमायी सियासत, इरफान अंसारी ने भाजपा विधायकों को ठहराया जिम्मेदार

पुलिस सूत्रों की मानें तो माओवादी किशोर बरनवाल पहले जमुई और गिरिडीह के मारे गए जोनल कमांडर चिराग दा के दस्ते से जुड़ा हुआ था. लेकिन सुरक्षा बलों के साथ हुए मुठभेड़ में चिराग की मौत के बाद संगठन के शीर्ष नेताओं के निर्देश पर किशोर बरनवाल को बालेशवर कोड़ा के दस्ते में शामिल कर दिया गया.

जानकारी के अनुसार बालेशवर कोड़ा बिहार के मुंगेर और जमुई के सीमांत जोन का माओवादी संगठन रिजनल जोनल कमेटी का सदस्य है.

इसे भी पढ़ें :गढ़वा में वज्रपात ने दो बच्चों समेत पांच की जान ली

Related Articles

Back to top button