GiridihJharkhandMain Slider

ठेकेदार की गाड़ी पर चलते हैं गिरिडीह के मेयर सुनिल पासवान

Giridih : गिरिडीह के मेयर सुनिल पासवान जिस वाहन का उपयोग करते हैं, वह उनके या नगर निगम के नाम पर नहीं, बल्कि एक ठेकेदार के नाम पंजिकृत है. चौंकाने वाली बात यह है कि उक्त वाहन पर मेयर का बोर्ड लगा है और इसका उपयोग मेयर अपने सरकारी कार्यों के लिए करते हैं. फेसबुक में पर्दाफाश नामक ग्रुप चलाने वाले प्रभाकर ने यह खुलासा किया है.इस बात के खुलासे से मेयर और नगर निगम को कोई सफाई देते नहीं बन रहा है. लोगों के मन में यह सवाल आ रहा है कि क्या ठेकेदार ने काम पाने के ऐवज में रिश्वत के तौर पर उक्त वाहन को दिया है. कारण जो भी हो, इस खुलासे से मेयर और गिरिडीह नगर निगम दोनों सवालों के घेरे में आ चुके हैं. गौरतलब है कि गिरिडीह के मेयर सुनिल पासवान और उपमेयर प्रकाश सेठ दोनों भाजपा के हैं.

गिरिडीह मेयर की गाड़ी का विवरण

इसे भी पढ़ें :दुमका : सीनियर छात्र करते थे जूनियर छात्रों से नशे के नाम पर वसूली

ठेकेदार के नाम रजिस्टर्ड है मेयर की गाड़ी

डीटीओ कार्यालय से पता चला है कि गिरिडीह मेयर द्वारा विभागीय तौर पर इस्तमाल की जा रही टोयटा की इनोवा JH11W-7777 नंबर की गाड़ी गिरिडीह के काजल रंजन के नाम रजिस्टर्ड है.काजल रंजन नगर निगम के चेहते ठेकेदार हैं.उन्हें निगम के ओर से करोड़ों का काम मिला हुआ है. हाल ही में नगर क्षेत्र में वाहन पार्किंग शुल्क वसूलने का ठेका भी काजल रंजन को ही मिला है. नगर निगम के चुनाव के एक माह बाद ही लोगों ने मेयर को उक्त गाड़ी का आधिकारिक उपयोग करते देखा.तब सभी को लगा कि यह गाड़ी उन्होंने निजी तौर पर खरीदी होगी या फिर विभाग ने उपलब्ध कराया होगा. मगर अब इस खुलासे से लोग तरह तरह के कयास लगा रहे हैं. लोगों ने कहना शुरू कर दिया है कि अब नगर निगम पूरी तरह से ठेकेदारों की मुट्ठी में हैं.

इसे भी पढ़ें :धनबादः फिल्मों तक ही सीमित गांधीगिरी, रीयल लाइफ में PMCH में हाथापाई

नगर निगम की सफाई

इधर इस मामले में मेयर और नगर निगम आयुक्त ने कोई भी प्रतिक्रिया नहीं दी है, लेकिन अन्य ठेकेदारों के मार्फत सफाई दी जा रही है कि मेयर ने ठेकेदार से भाड़े पर गाड़ी ली है. अगर यह सही भी तो फिर सवाल उठता है कि निगम के ठेकेदार से ही भाड़े पर गाड़ी क्यों ली. नियम के मुताबिक कोई भी निजी गाड़ी मालिक उसका व्यवसायिक लाभ नहीं ले सकता.

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button