Ranchi

लॉकडाउन के कारण बंद पड़ी गिरिडीह-मधुपूर सवारी ट्रेन अभी चालू नहीं होगी

Giridih :  पूर्व रेलवे आसनसोल रेल डिवीजन के मंडल रेल प्रबंधक सौमित्र सरकार सोमवार की देर शाम गिरिडीह स्टेशन पहुंचे. डीआरएम सरकार के साथ सीनियर डीओएम शांतनु चक्रवती, डीईएन-2 नीरज कुमार और गिरिडीह स्टेशन प्रबंधक मनोज बरनवाल और जाकिर हुसैन भी मौजूद थे. आसनसोल डीआरएम देर शाम अपने विशेष सैलून से स्टेशन पहुंचे थे. इस दौरान पत्रकारों से बातचीत के क्रम में डीआरएम सरकार ने कहा कि गिरिडीह स्टेशन में विद्युतीकरण का कार्य पूरा हो चुका है.

इसे भी पढ़ेंः गढ़वा: दो युवती सहित 21 गिरफ्तार, डायन-ओझा बताकर व निवस्त्र कर दो महिला सहित तीन की कर दी थी पिटायी

अगले तीन दिनों के भीतर इस रेलखंड इलेक्ट्रिक इंजिन के साथ ट्रेन का ट्रायल किया जायेगा. वैसे वे खुद भी इलेक्ट्रिक इंजिन से लगे सैलून से ही यहां पहुंचे हैं. इलेक्ट्रिकरण के कार्य को सफल बताते हुए डीआरएम ने कहा कि पूरे स्टेशन में जिस प्रकार का प्लानिंग था,  वह करीब-करीब पूरा हो चुका है. जो बचे हुए कार्य हैं, उन्हें भी जल्द ही पूरा कर लिया जायेगा. एक सवाल के जवाब में डीआरएम ने स्पस्ट शब्दों में कहा कि फिलहाल गिरिडीह स्टेशन से कोई नयी ट्रेन सेवा शुरू नहीं की जा रही है.

कोरोना के कारण गिरिडीह-मधुपूर रेलखंड में बंद पड़ी पैसेंजर ट्रेन ही शुरू हो जाये, इसके बाद किसी नए प्रस्ताव पर विचार किया जायेगा. लिहाजा, अभी तक कोरोना के कारण मधुपूर में भी रेल सेवा शुरू नहीं हो पायी है. ऐस में गिरिडीह स्टेशन में रेल सेवा कब शुरू होगी, इसका निर्देश भी नहीं मिला है. कई ट्रेने रद्द की जा चुकी हैं.

इसे भी पढ़ेंः उग्रवादी बोयदा पाहन ने तीन साथियों के साथ किया आत्मसमर्पण

बातचीत के क्रम में डीआरएम ने यह भी बताया कि कोलकाता से गिरिडीह रेल सेवा के लिए कोलकाता मुख्यालय को प्रस्ताव भेजा चुका है. अब कोरोना महामारी पर कंट्रोल होने के बाद ही कोई निर्णय लिया जाना है. एक सवाल के जवाब में डीआरएम ने बताया कि झरियागादी में ओवरब्रिज निर्माण की स्वीकृति मिल चुकी है.

इसके लिए स्थानीय विधायक ने भी आसनसोल पहुंच कर वार्ता की थी. रेलवे को आधी राशि और शेष राज्य सरकार को देना है. फंड की स्वीकृति राज्य सरकार से मिलने के बाद ब्रिज निर्माण के प्रस्ताव को रेलवे बोर्ड को भेजा जायेगा.

इस बीच डीआरएम से मिलने झामुमो के अध्यक्ष संजय सिंह, चैम्बर के निर्मल झुनझूनवाला, सोमनाथ मुखर्जी और झामुमो नेता सईद अख्तर समेत काफी संख्या में शहर के लोग पहुंचे थे. चैम्बर के सचिव ने डीआरएम से गिरिडीह से कोलकाता, पटना और रांची रुट के लिए नए ट्रेन को चालू करने का मांग की. साथ ही महेशमुंडा और गिरिडीह स्टेशन के बीच रैक प्वांईट के निर्माण का सुझाव दिया.

इसे भी पढ़ेंः अर्थशास्त्र का नोबेल पुरस्कार अमेरिका के पॉल आर मिल्ग्रॉम और रॉबर्ट बी विल्सन के नाम

Advt

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button