GiridihJharkhand

गिरिडीह की शिवम स्टील कंपनी के दो दर्जन ठिकानों पर आयकर का छापा, सौ करोड़ से अधिक के टैक्स की चोरी का हो सकता है खुलासा

विज्ञापन
  • 50 से अधिक अधिकारी छापेमारी में शामिल

Giridih: गिरिडीह की शिवम स्टील कंपनी में 12 साल बाद एक बार फिर आयकर विभाग ने बड़ी कार्रवाई करते हुए कंपनी के दो दर्जन भर से अधिक ठिकानों पर छापेमारी की. छापेमारी की यह कार्रवाई बुधवार की सुबह आठ बजे से तमाम स्थानों में कोलकाता के आयकर उपायुक्त रीतेश कुमार के नेतृत्व में शुरू किया गया. जानकारी के अनुसार शिवम स्टील कंपनी के शिवम रोलिंग मिल, सत्यम, सुंदरम के अलावे कंपनी के गांधी चौक स्थित कंप्लेक्स स्थित कार्यालय, शहर के बड़ा चौक स्थित कार्यालय, बाभनटोली रोड स्थित शिवम कंपनी के दो अपार्टमेंट समेत कोलकाता, रांची के कार्यालय में छापेमारी की जा रही है.

इसे भी पढ़ें – फेसबुक पर आपत्तिजनक टिप्पणी मामले में रांची की अदालत ने बदला आदेश, ऋचा भारती को नहीं बांटना होगा कुरान

देखें वीडियो-

advt

इसे भी पढ़ें – झारखंड पुलिस के अफसर अक्षम हैं या चुप रहने की कीमत वसूल रहे थे टीपीसी से

12 साल पहले भी पड़ चुका है आयकर का छापा

कोलकाता के प्रधान आयकर निदेशक आशीष वर्मा के निर्देश पर शुरू हुई कार्रवाई में अब तक कितना टैक्स चोरी का मामला उजागर हुआ है, यह आंकड़ा सामने नहीं आ पाया है. आयकर सूत्रों की मानें तो टैक्स चोरी का आंकड़ा सौ करोड़ के पार भी जा सकता है. हालांकि इसकी पुष्टि अब तक अधिकारिक तौर पर नहीं हो पायी है. गौरतलब है कि 12 साल पहले ही गिरिडीह के इस शिवम स्टील कंपनी में आयकर विभाग ने छापेमारी की बड़ी कार्रवाई की थी. जिसमें कई करोड़ों के टैक्स चोरी का मामला उजागर हुआ था.

खंगाले जा रहे दस्तावेज

कार्रवाई में लगे आयकर अधिकारियों की मानें तो शिवम समूह के द्वारा टैक्स चोरी का यह मामला कुछ और भी बढ़ सकता है. क्योंकि शिवम स्टील कंपनी समूह द्वारा कई सालों से छड़, इंगोर्ड और फेरो की खरीद-ब्रिकी के दस्तावेज में गड़बड़ी कर कारोबार किये जाने की बात सामने आयी है. छापेमारी में लगे आयकर विभाग के अधिकारी फिलहाल कुछ भी बोलने से इंकार कर रहे हैं. इस दौरान प्रधान निदेशक वर्मा से संपर्क किया गया, तो प्रधान निदेशक का मोबाइल भी नॉट रिचेबल बता रहा था. वहीं छापेमारी की कार्रवाई का नेतृत्व कर रहे आयकर डीसी रीतेश कुमार ने भी कुछ बताने से इंकार करते हुए कहा कि शिवम स्टील कंपनी समूह कितने सालों से करवंचना कर कारोबार कर रही थी, इसका वास्तविक अनुमान लगा पाना फिलहाल संभव नहीं है. लिहाजा, सभी ठिकानों में हर दस्तावेज के साथ कंपनी के हर कंप्यूटर सिस्टम को खंगाला जा रहा है.

आयकर डीसी ने संकेत देते हुए बताया कि कंपनी द्वारा बड़े पैमाने पर टैक्स में घालमेल कर कारोबार किया जा रहा था. लिहाजा, अब तक छापेमारी में जितने दस्तावेज हासिल हुए हैं, उन्हें खंगाला जा रहा है. छापेमारी की यह कार्रवाई गुरुवार तक जारी रहने की बात कही जा रही है. यहां तक कि कंपनी के कई कार्यालय को अगले दो दिनों के लिए सील कर दिया गया है. कंपनी के कर्मियों के प्रवेश पर भी रोक लगा दी गयी है. कार्रवाई इतनी गुप्त रखी गयी थी कि झारखंड के सिर्फ आयकर निरीक्षक स्तर के पदाधिकारियों को छापेमारी में शामिल किया गया है. आयकर डीसी और आयुक्त स्तर के शामिल सभी पदाधिकारी पश्चिम बंगाल के कोलकाता, आसनसोल, दुर्गापुर, रानीगंज के शामिल हैं. गौर करने वाली बात यह भी है कि छापेमारी में शामिल सभी वाहनों पर पश्चिम बंगाल का नंबर है. हर वाहनों में बोल बम का स्टीकर चिपका है.

adv

इसे भी पढ़ें – पाकिस्तानः भारत में 26/11 समेत कई आतंकी हमलों का मास्टर माइंड हाफिज सईद गिरफ्तार

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button