न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#Giridih: बनखंजो पहाड़ के पास मिले छात्र के शव पर पचंबा पुलिस कैसे कह रही मामूली सड़क हादसा?

782

Giridih: गिरिडीह के बनखंजो पहाड़ के समीप दो सप्ताह में संदेहास्पद स्थिति में मौतों के अलग-अलग मामलों को लेकर पचंबा पुलिस का सिर घूम गया है.

पचंबा के अमन हत्याकांड का खुलासा पुलिस कर नहीं पायी थी, तब तक बुधवार सुबह इसी पहाड़ के समीप 16 वर्षीय छात्र रीतेश कुमार चौधरी का शव संदेहास्पद स्थिति में मिला.

Aqua Spa Salon 5/02/2020

रीतेश देवरी थाना क्षेत्र के चतरो के नावाडीह गांव निवासी विजय चौथरी का बेटा था और शहर के सरस्वती शिशु विद्या मंदिर स्कूल में 10वीं कक्षा का छात्र था. वह जिला मुख्यालय के सिहोडीह पटेल नगर स्थित एक मकान में अपनी मां के साथ किराये पर रहता था.

इसे भी पढ़ें : #RIMS में डॉक्टरों की समस्या दूर करने के लिए प्रबंधन के निशाने पर निदेशक

अब शुरू की हत्या के एंगल से जांच

बनखंजो पहाड़ के पीछे रेलवे लाइन के समीप शव मिलने के बाद पचंबा थाना पुलिस और डीएसपी टू संतोष मिश्रा मामले को मामूली सड़क हादसे के रूप में लेकर जांच में जुटी थी.

मृतक के पिता विजय चौधरी व परिजनों द्वारा हत्या का आरोप लगाने के बाद अब पचंबा पुलिस और डीएसपी ने मामले की जांच हत्या के बिंदु से करना शुरू कर दिया है.

वैसे पचंबा थाना प्रभारी शर्मानंद सिंह ने साफ तौर पर कहा कि शव देखकर लग रहा है कि मामला सड़क हादसे का है.

इन तथ्यों पर गौर करने की जरूरत

लेकिन बनखंजो पहाड़ के समीप जिस स्थल पर मृतक छात्र का शव मिला. उससे कुछ दूरी तक खून के छींटे जमीन पर कुछ उचांई तक पड़े थे.

छात्र के चेहरे पर चोट के निशान भी हत्या का संदेह पैदा कर रहे हैं. छात्र के एक पांव में जूता था, जबकि दूसरा जूता कुछ दूरी पर मिला.

पुलिस के अनुसार छात्र का शव अहले सुबह करीब सात बजे घटनास्थल पर देखा गया, जबकि दो घंटे बाद घटनास्थल से करीब आधा किमी दूर एक लावारिस बाइक मिली.

बाइक के नंबर प्लेट पर पुलिस का स्टिकर लगा था और नंबर प्लेट में छोटू लिखा हुआ था. बाइक का नंबर जेएच-11क्यू-6802 अंकित था.

इन तथ्यों के सामने आने के बाद भी छात्र के मौत के मामले को पचंबा पुलिस द्वारा सिर्फ सड़क हादसा बताना पुलिस को भी सवालों के घेरे में खड़ा कर रहा है.

इसे भी पढ़ें : #VBU नियमों को ताक पर रख बीएड कॉलेजों से वसूल रहा एफलिशिएशन फी

शुरू में हुई थी गलत पहचान

छात्र के शव के पास से बरामद स्कूली बैग से नोटबुक मिलने के कारण पहले छात्र की पहचान गिरिडीह कॉलेज के सेमेस्टर एक के छात्र नीतेश कुमार के रूप में की गयी थी.

इस दौरान जानकारी मिलने के बाद डीएसपी संतोष मिश्रा और पचंबा थाना प्रभारी शर्मानंद सिंह पुलिस जवानों के साथ घटनास्थल पर पहुंचे, और जांच शुरू की, तो जानकारी मिली कि  बैग से मिला नोटबुक वाला युवक नीतेश गांडेय के फूलची गांव का रहने वाला है.

इस बीच जानकारी हासिल करने के बाद मृतक छात्र की पहचान देवरी के नवाडीह गांव निवासी विजय चौधरी के बेटे रीतेश कुमार के रूप में की गयी.

ट्यूशन जाने की बात कह निकला था

मृतक के पिता की मानें तो रीतेश मंगलवार शाम छह बजे अपनी मां से यह कहकर निकला कि वह ट्यूशन पढ़ने जा रहा है. इस दौरान उसने अपना मोबाइल भी मां के पास ही छोड़ दिया.

रात आठ बजे छात्र ने किसी दूसरे अंजान नंबर से फोन कर अपनी मां सुमति देवी को जानकारी दी कि वह घर लौट रहा है. इसके बाद वह घर नहीं लौटा.

दूसरे दिन बुधवार सुबह उसका शव बनखंजो पहाड़ के समीप मिला. वैसे इस बात का खुलासा नहीं हो पाया कि जिस अंजान नंबर से मृतक छात्र ने मां को फोन किया था, वह किसका है.

इसे भी पढ़ें : अधिकारियों की मनमानीः चतरा में 8-12 जनवरी तक संविदा कर्मी को दिया गया #DDC और #DRDA का प्रभार

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like