GiridihJharkhand

गिरिडीहः 40 किलो की आईडी के साथ हार्डकोर नक्सली जयराम बेसरा गिरफ्तार

Giridih: नक्सली संगठन भाकपा माओवादी के खिलाफ गिरिडीह पुलिस को बड़ी सफलता मिली है. एसपी अमित रेणु के नेतृत्व में शुक्रवार को गुप्त सूचना के आधार पर डुमरी थाना क्षेत्र के राजाराम भिट्ठा और जरीडीह इलाके के बीच सर्च ऑपरेशन चलाकर एक हार्डकोर माओवादी जयराम बेसरा को 40 किलो के आईडी विस्फोटक के साथ दबोचा गया.

जानकारी के अनुसार पुलिस को यह सफलता अपर पुलिस अधीक्षक गुलशन तिर्की को मिली गुप्त सूचना के आधार पर मिली है. सूचना मिलने पर एसपी के नेतृत्व में दो टीम गठित किए गए. जिसमें एक टीम में एसपी अमित रेणु और एएसपी गुलशन तिर्की शामिल थे.

वहीं दुसरे टीम में सीआरपीएफ की सांतवी बटालियन के कमांडेंट, सहायक कमांडेंट के साथ पुलिस बल के जवान थे. दोनों टीम ने ज्वाइंट रूप से जसीडीह और राजा राम भिट्ठा इलाके की घेराबंदी की जिसके बाद हार्डकोर माओवादी जयराम बेसरा को विष्फोटक के साथ दबोचा. जानकारी के अनुसार जयराम बेसरा इसी इलाके में इस आईडी को प्लांट कर सुरक्षाबलों को नुकसान पहुंचाने के प्रयास में था.

ram janam hospital
Catalyst IAS

इसे भी पढ़ें : संताली के लिए रूपचंद हांसदा को मिला साहित्य अकादमी पुरस्कार, बांग्ला के लिए मणिशंकर मुखोपाध्याय

The Royal’s
Pushpanjali
Pitambara
Sanjeevani

गिरफ्तारी के बाद जयराम बेसरा ने कई बड़े नक्सली कांडो में अपनी संलिप्ता स्वीकारा की है. जिसमें तीन माह पहले डुमरी के एक निर्माणाधीन कॉलेज में लेवी नहीं मिलने से जेसीबी मशीन को जलाने के साथ बाईक में आगजनी और मजदूरों की पीटाई की थी.

जबकि बिरनी में एक पुल निर्माण कंपनी द्वारा लेवी नहीं देने के बाद मशीनों को आग के हवाले करने समेत अन्य नक्सली कांड शामिल है. फिलहाल पुलिस जयराम बेसरा से पूछताछ कर रही है. पूछताछ में हार्डकोर माओवादी द्वारा कई और बड़े नक्सली कांड में शामिल होने की बात सामने आ सकती है.

कुख्यात इनामी माओवादी अजय महतो के पीरटांड छोड़ने के बाद इस पूरे इलाके की जिम्मेवारी कृष्णा दा को ही मिला हुआ है. जबकि कृष्णा दा ने अपने दस्ते में खुद के करीबी जयराम बेसरा को पीरटांड और डुमरी में योजना का काम कर रहे ठेकेदारों से लेवी वसूलने का जिम्मा दे रखा था. लिहाजा, जयराम बेसरा की गिरफ्तारी को पुलिस बड़ी उपलब्धि मानकर चल रही है.

इसे भी पढ़ें : गर्भवती दुष्कर्म पीड़िता को कानूनी अधिकारों के बारे में जानकारी दी जानी चाहिए: सुप्रीम कोर्ट

Related Articles

Back to top button