Crime NewsGiridihJharkhand

Giridih: झामुमो नेता के बेटे पर जानेलवा हमले के मामले में आजसू नेता समेत चार हिरासत में

इलाजरत प्रवीण से दुर्गापुर पहुंच कर गिरिडीह पुलिस ने लिया फर्द बयान, केस दर्ज

Giridih: झारखंड कोलियरी मजदूर संगठन के नेता तेजलाल मंडल के बेटे प्रवीण मंडल पर जानलेवा हमला करने वालों की पहचान गिरिडीह पुलिस ने कर ली है. घटना के दूसरे दिन रविवार देर शाम मुफ्फसिल थाना में जख्मी प्रवीण मंडल के फर्द बयान पर केस दर्ज किया गया है.

Advt

रविवार सुबह दुर्गापुर पहुंच कर जख्मी प्रवीण मंडल का फर्द बयान मुफ्फसिल थाना ने दर्ज किया और जांच में जुट गई है. युवक प्रवीण की हालत फिलहाल खतरे से बाहर बतायी जा रही है. इसकी पुष्टि इलाजरत प्रवीण के पिता सह झामुमो नेता तेजलाल मंडल ने की.

इसे भी पढ़ें :  झारखंड अलग राज्य के आंदोलन में निर्मल महतो की अग्रणी भूमिका थीः मुख्यमंत्री

वैसे दर्ज केस में पुलिस ने किन-किन लोगों को आरोपी बनाया है, इसका खुलासा करने से पुलिस तो फिलहाल इंकार कर रही है, लेकिन घटना के दूसरे दिन रविवार की सुबह सदर एसडीपीओ अनिल सिंह और विनय राम के नेत्तृत्व में खोजी कुत्ता भी घटनास्थल गपैय गांव पहुंचा.

गपैय स्थित प्रवीण मंडल के पैतृक घर के समीप ही घात लगाए चार हमलावरों ने प्रवीण के सिर पर चाकू और अस्तूरा से सिर पर वार किया था. रविवार की सुबह खोजी कुत्ते ने उसके घर के आसपास को खंगाला, तो उन सभी स्थानों पर कुत्ता पहुंचा, जहां हमलावरों के हमले से बचने के लिए पीड़ित भागा था.

इसे भी पढ़ें :  यहां मरीजों और शव को चारपाई पर चार किमी टांग कर अस्पताल ले जाते हैं ग्रामीण

रविवार सुबह खून के छीटें भी उसके घर के बाहर गेट और उसके दादा नेहाल मंडल के घर के बाहर लगे हुए थे.
जानकारी के अनुसार, अब तक चार हमलावरों द्वारा इस घटना को अंजाम दिए जाने की बात सामने आ रही है. जिनकी पहचान का दावा पुलिस भी कर रही है.

दूसरे दिन में अब तक हुई जांच के आधार पर पूछताछ के लिए चार संदिग्ध आरोपियों को हिरासत में लेने की बात पुलिस सूत्रों के अनुसार सामने आ रही है. पुलिस सूत्रों की मानें तो पूछताछ के लिए जिन चार लोगों को हिरासत में लिया गया है, उनमें आजसू के दो कद्दावार नेता सह स्थानीय सांसद के बेहद करीबी संजय साहु, महेशलुंडी के ही दुसरे आजसू नेता मनोज साव, नरेश साव और तेजलाल मंडल शामिल हैं.

जबकि घटना के बाद जख्मी हालात में प्रवीण मंडल ने पुलिस को पांचवें नाम के रूप में राजकिशोर मंडल का भी नाम बताया था. इन पांचों का नाम हमलावरों के रूप में सामने के बाद पुलिस ने रविवार की अहले सुबह चारों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया.

इसे भी पढ़ें :  अपनी ही पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष को तेजप्रताप यादव ने कहा ‘हिटलर’

लेकिन पुलिस सूत्रों की मानें तो राजकिशोर मंडल अब भी फरार है. वैसे शनिवार की देर रात घटना के दौरान अपने बचाव के लिए घर से रिश्तेदार के घर की तरफ जख्मी हालात में दौड़े प्रवीण ने रिश्तेदारों को भी बताया कि मुंह पर नकाब पहने चार लोगों ने उस पर अस्तूरा और चाकू से वार किया है. लेकिन किसी को पहचानने की बात से इंकार करते हुए प्रवीण अपने रिश्तेदार के घर ही बेहोश हो गया था.

वैसे झामुमो नेता के बेटे प्रवीण पर हुए हमले का कारण दूसरे दिन स्पष्ट नहीं हो पाया है. लिहाजा, चर्चा घटना के बाद गपैय से लेकर बदडीहा तक कई बातों पर है, जिसमें एक जमीन विवाद का मुद्दा भी शामिल है. लेकिन पुलिस सूत्रों की मानें तो प्रवीण पर हुए जानलेवा हमला सिर्फ जमीन विवाद तक सीमित नहीं है. पुलिस भी यही मानकर चल रही है कि मामला इसे भी बढ़कर है. लिहाजा, सोमवार तक पुलिस पूरे मामले का खुलासा कर सकती है.

इसे भी पढ़ें :  लातेहार : टीपीसी के एरिया कमांडर ने डीआईजी के समक्ष किया सरेंडर, संग़ठन को बताया सिद्धांतविहीन

बताते चलें कि प्रवीण मंडल पर शनिवार की देर रात उस वक्त चार हमलावरों ने धारदार हथियार से वार किया था, जब प्रवीण अपने बदडीहा गांव स्थित घर से खाना खा कर सोने के लिए अकेले गपैय स्थित घर पहुंचा.

Advt

Related Articles

Back to top button