न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

गिरिडीह : 52 हजार के जाली नोटों के साथ चार गिरफ्तार

150
  • राज्य के तीन  जिलों में जाली नोट खपानेवाले गिरोह के सदस्य हैं चारों
  • लोकसभा चुनाव में जाली नोट खपाने की थी योजना
  • बांग्लादेश से जुड़ा है गिरोह का तार, मुर्शिदाबाद का है गिरोह का सरगना

Giridih : तीन जिलों में जाली नोट खपानेवाले गिरोह के चार सदस्यों को दबोचने में गिरिडीह की ताराटांड़ पुलिस ने सफलता हासिल की है. पुलिस ने इनके पास से 52 हजार रुपये के जाली नोट भी बरामद किये हैं. लोकसभा चुनाव से पहले इन अपराधियों की गिरफ्तारी से पूरे गिरोह को झटका लगा है, क्योंकि गिरोह की योजना चुनाव में ही सबसे अधिक जाली नोट खपाने की थी. इससे पहले ही एसपी सुरेंद्र झा ने गुप्त सूचना के आधार पर एसडीपीओ को निर्देश देकर ताराटांड थाना क्षेत्र में वाहन जांच अभियान चलाने का निर्देश दिया. वैसे गिरोह के जिन चार अपराधियों की गिरफ्तारी हुई है, वे ग्रामीण क्षेत्र में लगनेवाले मेलों में जाली नोट को खपाते थे. इसके लिए गिरोह से कमीशन के रूप में दोगुनी रकम मिला करती थी. गिरोह का सरगना इन अपराधियों को एक-एक बार में 15 से 20 हजार रुपये दिया करता था. गिरोह का सरगना पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद जिला के फरक्का थाना क्षेत्र के सुजापुर गांव का जहीर उर्फ जहीरउद्दीन शेख बताया जा रहा है. इन अपराधियों के निशानदेही पर गांडेय सर्किल निरीक्षक और ताराटांड़ थाना प्रभारी अहमद ने जहीर के घर पर भी छापामारी की, लेकिन जहीर फरार बताया गया. पुलिस के अनुसार फरक्का से बांग्लादेश की सीमा करीब छह किलोमीटर है. बांग्लादेश के एक गिरोह से जहीर के संपर्क होने की बात कही जा रही है.

ये हुए गिरफ्तार

ताराटांड़ पुलिस ने जिन अपराधियों को जाली नोट के साथ दबोचा है, उनमें देवघर के मरगोमुंडा थाना क्षेत्र के बाघमारा गांव निवासी रूपलाल हांसदा, सुनील टोप्पो, गांडेय थाना के भलुआ गांव निवासी मसीह बास्के और धनबाद के गोविंदपुर थाना क्षेत्र के बड़ा नावाटांड़ गांव निवासी श्रीकांत उर्फ शंकर महतो शामिल हैं. गिरोह के तीन अपराधियों को ताराटांड़ पुलिस ने बीते रविवार को वाहन जांच के दौरान दबोचा. वहीं, चौथे अपराधी श्रीकांत को पुलिस ने दूसरे दिन सोमवार को नवाटांड़ गांव से गिरफ्तार किया.

गिरिडीह, बोकारो और धनबाद में खपाया जाता था जाली नोट

इधर, बुधवार को पुलिस लाइन में प्रेसवार्ता कर एसडीपीओ जीतवाहन उरांव, गांडेय के सर्किल निरीक्षक आरके राणा और ताराटांड़ थाना प्रभारी फैज अहमद ने बताया कि वाहन जांच अभियान के दौरान संदेह होने पर रूपलाल हांसदा, सुनील टोप्पो और मसीह बास्के की जेब की तलाशी ली गयी, जिसमें तीनों के पास से दो हजार के 11 पीस जाली नोट मिले. वहीं, इन अपराधियों की निशानदेही पर ही श्रीकांत के घर पर छापामारी कर पुलिस ने दो हजार के आठ नोटों के साथ 500 के 24 नोट बरामद किये. गिरफ्तारी के बाद चारों अपराधियों ने कबूला कि जहीर से जाली नोट मिलने के बाद गिरिडीह, धनबाद और बोकारो में इन जाली नोटों को खपाया जाता था. पुलिस ने चारों अपराधियों के पास जितने जाली नोट बरामद किये हैं, वे रिजर्व बैंक के मूल नोट से काफी मिलते-जुलते हैं, जिसमें अंग्रेजी के सारे अक्षर मूल नोट में अंकित अक्षर के समान हैं. हालांकि, मूल नोट के कागज और जाली नोट की छपाई में काफी अंतर पाया गया.

इसे भी पढ़ें- औरंगाबाद की ज्वेलरी दुकान में हुए लूटकांड में शामिल आरोपी रूपेश रांची से गिरफ्तार

hotlips top

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

o1
You might also like