GiridihJharkhand

गिरिडीह: अलग-अलग हादसों में पांच की मौत

Giridih: गिरिडीह जिले में रविवार को हुए अलग-अलग हादसों में 5 लोगों की मौत हो गयी. इनमें सदर प्रखंड के मटरुखा गांव में 85 वर्षीय वृद्ध वासुदेव राय को जंगली हाथियों के झुंड ने कुचल कर मार डाला.

पत्नी पचनी देवी के अनुसार वृद्ध वासुदेव राय सुबह उठकर जंगल घूमने गये हुए थे. इसी दौरान जंगल में हाथियों के झुंड ने उन्हें चारों तरफ से घेर लिया और वही कुचल कर मार दिया.

इसे भी पढ़ें – राम मंदिर निर्माण की बधाई देने पर हसीन जहां को मिली रेप और जान से मारने की धमकी

advt

सड़क हादसे में तीन तीन की मौत

दूसरी ओर देवरी प्रखंड में तीन लोगों की मौत सड़क हादसे में हो गयी. जानकारी के अनुसार देवरी-खिजुरी रोड के बेलाटांड मिशन के समीप हुआ जिसमें भेलवाघाटी थाना क्षेत्र के पदनाडीह गांव निवासी 55 वर्षीय जीतन ठाकुर और उसके साला तिसरी थाना क्षेत्र के दुलियाकण गांव निवासी 50 वर्षीय गुलाब ठाकुर की मौत तेज रफ्तार से आ रही बाइक की चपेट में आने से हो गयी. वहीं मौके पर 30 वर्षीय बाइक सवार मोहम्मद अंसारी की भी मौत पेड़ में बाइक के टकराने से हो गयी.

प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार जीतन ठाकुर अपने साला गुलाब ठाकुर के साथ बैलाटांड मिशन के समीप एक पेड़ के नीचे खड़ा था. इसी दौरान मोहम्मद अंसारी तेज रफ्तार से बाइक चलाते हुए उधर से गुजर रहा था कि अचानक बाइक का संतुलन बिगड़ा.

बाइक से संतुलन खोते ही मोहम्मद बाइक के साथ दोनों साला-बहनोई से टकरा गया. दोनों से टक्कर होने के बाद मोहम्मद अंसारी की बाइक पेड़ से टकरा गयी. साला-बहनोई की मौत इलाके के स्वास्थ्य केन्द्र ले जाने के क्रम में हुई. वहीं बाईक सवार मोहम्मद अंसारी की मौत पेड़ से टकराते ही हो गयी थी.

जानकारी के अनुसार जीतन ठाकुर की बेटी का इलाज बैलाटांड के हॉस्पिटल में चल रहा है. दोनों उसे ही देखकर निकले थे और गाड़ी की प्रतीक्षा में पेड़ के नीचे खड़े थे. तभी घटना हुई.

adv

इसे भी पढ़ें – 9 अगस्त को 512 नये कोरोना संक्रमित मिले, 9 की मौत, झारखंड में हुए 18084 केस

नदी में डूबने से बच्चे की मौत

तीसरी घटना देवरी के ही चिरूडीह गांव में हुई जहां चिरूडीह गांव निवासी घनश्याम यादव का आठ वर्षीय बेटा चिंटू यादव अपने चार दोस्तों के साथ घर के समीप बड़नेर नदी में नहाने गया था. नदी में तेज बहाव था जिसे मृतक चिंटू व उसके चारों दोस्त नहीं देख पाये.

इसके बाद पांचो दोस्तों ने नदी में छलांग लगा दी. इसी दौरान चिंटू तेज बहाव के साथ बहते हुए एक गड्डे में जा फंसा. काफी प्रयास के बाद भी चिंटू नदी के गड्डे से बाहर नहीं निकल पाया. इस बीच मामले की जानकारी परिजनों को मिली. परिजन समेत ग्रामीण वहां पहुंचे और चिंटू को निकालने में जुट गये. काफी प्रयास के बाद उसके शव को ही ग्रामीण बाहर निकाल पाये.

इसे भी पढ़ें – टीएसपी की राशि को गलत ढंग से खर्च किया जाना ही आदिवासी समुदाय के समग्र विकास में सबसे बड़ी बाधा

advt
Advertisement

5 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button