GiridihJharkhand Politics

गिरिडीह:  पूर्व सांसद के बेटे धनंजय सिंह को मिली जिला कांग्रेस की कमान 

मुस्लिम-यादव को तरजीह नहीं मिलने और अगड़ी व ओबीसी को नेतृत्व मिलने से कई कांग्रेसियों में नाराजगी

Manoj Kumar Pintu
Giridih: दो साल बाद आखिरकार गिरिडीह कांग्रेस को नया जिलाध्यक्ष मिल ही गया. जिला कांग्रेस के अध्यक्ष की कमान पूर्व सांसद तिलकधारी सिंह के छोटे बेटे धनंजय सिंह को मिली है. रविवार को केंद्रीय नेतृत्व की ओर से जारी गई झारखंड के विभिन्न जिलों के नए अध्यक्षों की सूची में गिरिडीह में धनंजय सिंह को जिलाध्यक्ष बनाया गया है. धनंजय सिंह के नाम के एलान होने के साथ ही पिछले दो साल से जिलाध्यक्ष के दावेदारों में रहे कई दिग्गज नेताओं को मुंह की खानी पड़ी है. कई दिग्गज चेहरे जिला कांग्रेस अध्यक्ष बनने से चूक गए हालांकि इस दौरान इन दिग्गजों नेताओ ने जिला अध्यक्ष की कुर्सी पाने के लिए न जाने कितने बड़े नेताओं की गणेश परिक्रमा तक की लेकिन रविवार की देर शाम पूर्व सांसद तिलकधारी सिंह के छोटे बेटे धनंजय को इस कुर्सी को पाने में सफलता मिली.
इसे भी पढ़ें: गिरिडीह: छात्र का दावा- अवैध कोयला तस्करों की दी सूचना तो पुलिस ने उल्टे उसी पर कर दी एफआईआर

पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव केसी वेणुगोपाल की ओर से जारी गिरिडीह समेत राज्य के सभी 24 जिलाध्यक्षों के नामों की सूची में  एक भी मुस्लिम नेता को जिला अध्यक्ष नही बनाए जाने को लेकर गिरिडीह कांग्रेस के नेताओं समेत कांग्रेस के मुस्लिम समर्थक वोट बैंक में भी नाराजगी दिख रही है. पार्टी सूत्रों की माने तो प्रदेश नेतृत्व ने गिरिडीह में एक अगड़ी जाति के नेता को जिला अध्यक्ष बनाकर भले ही यादव और मुस्लिम समर्थकों से दूरी बनाई हो, लेकिन अगड़ी जाति के हाथ में कमान सौंप कर अगड़ी और ओबीसी वोटरों को आने वाले लोकसभा और विधानसभा चुनाव के मद्देनजर गोलबंद करने की भी कोशिश की है.  गिरिडीह में अगड़ी जाति और कोडरमा में ओबीसी चेहरा को मौका देने को लेकर राजनीतिक विश्लेषकों ने अंदेशा जताया है कि आने वाले दिनों में इन दोनो लोकसभा सीटों में मुस्लिम और यादव वोटरों की नाराजगी पार्टी को उठानी पड़ सकती है. फिलहाल सोशल मीडिया में जरूर यह मुद्दा गर्माता जा रहा है.

कौन हैं धनंजय सिंह
कोडरमा से दो बार सांसद रहे तिलकधारी सिंह के छोटे बेटे धनंजय सिंह इससे पहले साल 2009 से 2012 तक जिला कांग्रेस में मंत्री का दायित्व संभाल चुके हैं तो वहीं 2012 से 2017 तक कोडरमा लोकसभा युवा कांग्रेस के अध्यक्ष की जिम्मेदारी भी निभा चुके हैं. माना जा रहा है कि कांग्रेस के टिकट से दो बार सांसद और गिरिडीह के धनवार से एक बार विधायक रह चुके तिलकधारी सिंह के कांग्रेस के प्रति समर्पण ने उन्हें जिलाध्यक्ष की कुर्सी दिलाने में अहम भूमिका निभाई है. नए जिला अध्यक्ष के रूप में  धनंजय सिंह के नाम का एलान होने के बाद गिरिडीह कांग्रेस के कई नेताओं ने उन्हें बधाई दी है. बधाई देने वालों में प्रदेश प्रतिनिधि सतीश केडिया, पूर्व जिला अध्यक्ष नरेश वर्मा, इंटक के ऋषिकेश मिश्रा, मुकेश साहा, महमूद अली खान लड्डू और अजय सिन्हा मंटू समेत कई नेता शामिल हैं.

Related Articles

Back to top button