न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

कोडरमा सीट बनी प्रतिष्ठा की सीट, सीएम ने कार्यकर्ताओं को अहंकार से बचने की नसीहत दी, चुनाव में जीत के टिप्स दिये

29 अप्रेल को जमुआ के नावाडीह में पीएम नरेन्द्र मोदी की जनसभा,  सीएम दास  ने सभा को सफल बनाने को लेकर कार्यकर्ताओं को मेहनत करने की बात कही.  

99

Giridih :   सीएम रघुवर दास, शिक्षा मंत्री डा नीरा यादव व भाजपा के प्रर्देश संगठन मंत्री धर्मपाल बुधवार को एक बार फिर गिरिडीह पहुंचे. पचंबा स्थित कोडरमा लोस के केन्द्रीय चुनाव कार्यालय का उदृघाटन के बाद सीएम दास ने भाजपा के कार्यकर्ता सम्मेलन के दौरान मौजूद पार्टी कार्यकर्ताओं के बीच चुनाव में जीत के टिप्स दिये. चुनावी माहौल के बीच तीसरी बार गिरिडीह पहुंचे सीएम ने भाजपा विधायकों के साथ पार्टी नेताओं व कार्यकर्ताओं को कड़े शब्दों में अहंकार से बचने की नसीहत भी दी.

सीएम दास ने विधायकों व कार्यकर्ताओं को 35 मिनट के संबोधन के दौरान साफ तौर पर संदेश दिया कि कोई भी यह नहीं समझे कि उनकी  बदौलत ही भाजपा है. हर भाजपा विधायक, नेता व कार्यकर्ता जान लें कि भाजपा है तब रघुवर दास भी सीएम है और हर कोई भाजपा नेता व कार्यकर्ता. बता दें कि प्रतिष्ठा की सीट बन चुके कोडरमा की जीत को लेकर भाजपा की बेचैनी इस बात से साफ झलक रही है कि सूबे के सीएम दास, प्रदेश संगठन मंत्री और शिक्षा मंत्री डॉ नीरा यादव का दौरा चुनाव का समय नजदीक आते के साथ ही  तेज हो गया है.

इधर 35 मिनट के संबोधन के क्रम में सीएम दास ने चुनाव जीत का टिप्स देते हुए कहा कि हर भाजपा कार्यकर्ता अपने उपर गर्व करें, कि एक देशभक्त पीएम को दुबारा चुनाव जि‍ताने के लिए वह मेहनत कर रहा है.  कोडरमा लोस सीट भाजपा के लिए प्रतिष्ठा बन चुकी  है.  यह इसी से साबित होता है कि धर्मशाला परिसर में आयोजित कार्यकर्ता सम्मेलन को सीएम और संगठन मंत्री ने बंद कमरे में संबोधित किय.  पत्रकारों को भी सम्मेलन से दूर रखा गया.  यह माना जा रहा है कोडरमा चुनाव को लेकर भाजपा कोई चूक नहीं चाहती.

इसे भी पढ़ें – मांडू विधायक को जो भी मिला, उनके बाप-दादा की बदौलत, उनकी अपनी कोई योग्यता नहीं: जेएमएम

आदिवासी वोटरों को संथाली भाषा में समझाएं

जानकारी के अनुसार सीएम  ने पार्टी के मौजूद आदिवासी कार्यकर्ताओं को सुझाव देते हुए कहा कि आदिवासी कार्यकर्ता अपने इलाके के आदिवासी वोटरों को संथाली भाषा में समझाएं कि पीएम मोदी और राज्य सरकार ने अब तक क्या काम किया है, क्योंकि विपक्षी दल लगातार आदिवासियों के बीच भाजपा सरकार को लेकर भ्रम फैला रहे है कि भाजपा सरकार आदिवासियों की जमीन छीन लेगी.  यह साफ संकेत है कि प्रतिष्ठा की सीट बन चुका कोडरमा  को लेकर भाजपा कोई रिस्क लेने के मूड में नहीं है.  सीएम दास ने पार्टी के मंडल और पंचायत प्रभारियों को भाजपा की आंख-कान और नाक बताते हुए कहा कि आपसी तालमेल रख कर चुनाव जीतना संभव है.  साथ ही सीएम दास ने कोडरमा लोस के हर विधायकों के साथ मंडल प्रभारियों को हर हाल में 3 मई तक चुनाव कार्यालय खोलने का सुझाव दिया.  मंडल प्रभारियों को भी नसीहत देते हुए कहा कि चुनाव प्रबंधन समिति में सदस्य चेहरा देखकर बनाने के बजाय उनके काम के आधार पर बनाएं.

इसे भी पढ़ें – मानव तस्करी के आरोप में जेल में बंद प्रभा मुनि को हाइकोर्ट ने दी सशर्त जमानत

29 अप्रेल को पीएम जमुआ के नावाडीह पहुंचेगे

सीएम दास ने 29 अप्रेल को जमुआ के नावाडीह में पीएम नरेन्द्र मोदी की जनसभा को सफल बनाने को लेकर कार्यकर्ताओं को मेहनत करने की बात कही.  कहा कि हर बूथ से दो वाहनों में महिलाओं के साथ युवाओं को जनसभा तक पहुंचाने की व्यवस्था में हर नेता व कार्यकर्ता जुट जायें.  29 अप्रेल को पीएम सुबह 10 बजे जमुआ के नावाडीह पहुंचेगे. संगठन मंत्री धर्मपाल ने भी मौजूद कार्यकर्ताओं को संबोधित किया. सम्मेलन में कोडरमा की प्रत्याशी अन्नपूर्णा देवी, मेयर सुनील पासवान, डिप्टी मेयर प्रकाश सेठ, अध्यक्ष सुनील अग्रवाल, जिला महामंत्री देवराज समेत कई भाजपाई मौजूद थे.

इसे भी पढ़ें – वाणिज्य कर विभाग को 16700 करोड़ और उत्पाद को 1800 करोड़ राजस्व वसूली का मिला लक्ष्य

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

hosp22
You might also like
%d bloggers like this: