GiridihJharkhand

गिरिडीह : पांच घरों को हाथियों ने पहुंचाया नुकसान, अनाज भी खा गये

Giridih : गिरिडीह के डुमरी प्रखंड के दक्षिणाचंल के गांवों में दो जंगली हाथियों ने जमकर उत्पात मचाया. दोनों हाथियों ने कई घरों को क्षतिग्रस्त किया. और कई ग्रामीणों के घर पर रखे सैकड़ो क्विंटल अनाज को नुकसान पहुंचाने के साथ अनाज भी खा गए. वहीं जब दिन चढ़ा तो जानकारी मिलने के बाद वन विभाग के पदाधिकारी के साथ कई समाजसेवी प्रभावित गांवों में पहुंचने के साथ ग्रामीणों से मुलाकात की. राहत के लिए तुंरत 50 किलो अनाज उपलब्ध कराया.

जानकारी के अनुसार सोमवार की सुबह करीब एक बजे दोनों हाथी पहले चंदनकुरवा गांव में पहुंचे दोनों हाथियों ने इस दौरान कोई नुकसान तो नहीं किया. लेकिन जब दोनों हाथी टेंगरकला के गोरमारा पहुंचे, तो यहां दो घरों को नुकसान पहुंचाया.

ram janam hospital
Catalyst IAS

इसके बाद दोनों हाथी झरना गांव पहुंचे, जहां दोनों हाथियों ने नुनिया देवी के घर को नुकसान पहुंचाने के साथ घर में रखे 400 किलो धान के साथ 100 किलो बाजरा, 3 तीन क्विंटल चावल और 50 किलो आलू खा गए.

The Royal’s
Sanjeevani

इसे भी पढे़ें:लालू की सजा पर भड़के तेजस्वी, केंद्रीय जांच एजेंसियों पर जम कर बोला हमला

वहीं इसी गांव के चुडकी देवी के झोपड़ीनुमा घर पर रखे आठ सौ किलो चावल के साथ 100 किलो मकई चट करने के साथ घर के दरवाजे और खिड़की को क्षतिग्रस्त कर दिया.

जबकि इसी गांव के पूरन मांझी और रधिया देवी के घर को तो नुकसान पहुंचाया ही साथ ही आठ किलो क्विंटल चावल और 50 किलो मूंगफली खा कर खत्म कर दिया.

इसे भी पढे़ें:मनरेगा: गड़बड़ियों के मामलों पर अब तक 919 अधिकारियों-कर्मियों पर कार्रवाई, लगाया गया जुर्माना

करीब दो घंटे तक दोनों हाथियों का समूह कहर बरपाते हुए सिमराडीह गांव पहुंचा. जहां तेजलाल महतो के खेत में लगे फसल को नुकसान पहुंचाने के बाद सिमराडीह गांव के ही रामचन्द्र महतो के खेत में घुसते ही चना, लहसुन और प्याज के फसल को पूरी तरह से नुकसान पहुंचाया.

जानकारी मिलने के बाद प्रभावित गांव पहुंचे राजीव रंजन ने जानकारी देते हुए कहा कि दोनों हाथी दक्षिणाचंल क्षेत्र के गांव होते हुए चीनो जंगल में घुस चुके है. लिहाजा, अब वन विभाग दोनों हाथियों को उनके दल से मिलाने के प्रयास में जुट चुका है.

इसे भी पढे़ें:चिंताजनकः महिलाओं के खिलाफ हिंसा में टॉप 3 राज्यों में झारखंड

Related Articles

Back to top button