GiridihMain Slider

सीएम के कार्यक्रम में स्कूली बच्चों को भाजपा की टोपी और अंगवस्त्र पहनाने के खिलाफ अज्ञात पर केस दर्ज

Giridih: याद ही होगा आपको. सूबे के सीएम रघुवर दास का गिरिडीह शहर में तामझाम के साथ किया गया रोड शो. और रोड शो के दौरान सीएम पर पुष्पवर्षा और स्वागत के लिए लाईन लगी स्कूली बच्चों की भीड़. जिनके गले में भाजपा का पट्टा और सिर पर टोपी तक पहना दिया गया था.

इसके खिलाफ बाल कल्याण समिति, गिरिडीह के आवेदन पर अज्ञात लोगों पर केस दर्ज हुआ है. हालांकि करीब एक सप्ताह की जांच के बाद भी बाल कल्याण समिति मामले के आरोपियों की पहचान नहीं कर पायी.

इसे भी पढ़ेंः #BJP विधायक दल के नेता चुने गये #Fadnavis, कहा, जनादेश भाजपा-शिवसेना गठबंधन के लिए, जल्द सरकार बनायेंगे  

बाल समिति के अध्यक्ष सवालों के घेरे में

Sanjeevani

पचंबा थाना में दर्ज थाना कांड संख्या 147/19 में बाल कल्याण समिति अध्यक्ष ने अज्ञात लोगों पर केस दर्ज कराया. बता दें कि मामले में डीसी राहुल सिन्हा ने समिति के अध्यक्ष को पत्राचार कर आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की बात कही थी.

गोपनीय शाखा से जारी पंत्राक संख्या 1196 में डीसी ने साफ तौर पर भाजपा जिलाध्यक्ष सुनील अग्रवाल का जिक्र करते हुए कहा कि भाजपा अध्यक्ष को किये गये शो कॉज के आधार पर समिति के अध्यक्ष को केस दर्ज कराने का निर्देश दिया था. अभी यह तय नहीं है कि उन स्कूल प्रबंधकों के खिलाफ कार्रवाई होगी या नहीं, जिनके बच्चों को टोपी और अंगवस्त्र पहनाकर रोड शो में खड़ा किया गया था.

यह भी कहा जा रहा है कि अध्यक्ष बिमल यादव ने अज्ञात लोगों पर केस दर्ज कराकर खानापूर्ति की है. अज्ञात लोगों पर केस दर्ज कराकर अब बाल कल्याण समिति खुद घिरती नजर आ रही है.

इसे भी पढ़ेंः 16 वर्षीय #GretaThunberg का पर्यावरण पुरस्कार लेने से इनकार, कहा, सत्ता में बैठे लोग  #Science का अनुसरण करें

क्या कहना है बाल समिति के अध्यक्ष का

इस मामले में जब बिमल यादव से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि डीसी के निर्देश पर जांच टीम बनी. जिसमें बाल कल्याण समिति से चार सदस्यों के अलावे बाल संरक्षण इकाई के दो सदस्य शामिल थे.

एक सप्ताह तक चली जांच के दौरान और डीसी द्वारा जिन स्कूल प्रबंधन को शो कॉज किया गया था, उसमें कार्मेल स्कूल हिंदी मीडियम के साथ सर जेसी बोस गल्र्स हाई स्कूल और आरके महिला कॉलेज के नाम हैं. जिनके छात्रों के सीएम के कार्यक्रम शामिल होने की बात कही जा रही है.

इसे भी पढ़ेंः #UN ने कहा, #Kashmir के हालात पर दायर याचिकाओं पर  #SC में सुनवाई की गति धीमी

Related Articles

Back to top button