GiridihJharkhand

जाली शेयर प्रमाण पत्र बनाकर कंपनी हड़पने के आरोप में मोंगिया स्टील के एमडी व उनके भतीजे पर केस

Giridih :  जाली शेयर प्रमाण दाखिल कर एक औद्योगिक ईकाई को हड़पने को लेकर गिरिडीह के दो बड़े उद्यमियों के बीच विवाद बढ़ने के बाद एक लौह उद्यमी ने दूसरे के खिलाफ मुफ्फसिल थाना में धोखाधड़ी का केस दर्ज करा दिया.

शहर के अमित केजरीवाल ने मोंगिया स्टील के प्रबंध निदेशक गुणवंत सिंह सलूजा और उनके भतीजे बलविंदर सिंह सलूजा पर जाली शेयर प्रमाण पत्र के आधार पर औद्योगिक क्षेत्र स्थित स्वाति कॉन फैक्टरी हड़पने का आरोप लगाते हुए केस दर्ज कराया है.

अमित केजरीवाल के दिए आवेदन के आधार पर पुलिस ने मोंगिया स्टील के प्रबंध निदेशक गुणवंत सिंह सलूजा और उनके भतीजे बलविंदर सिंह सलूजा पर धोखाधड़ी का केस दर्ज किया है.

Catalyst IAS
SIP abacus

इसे भी पढ़ेंः वित्त वर्ष 2019-20 में जीडीपी दर पांच प्रतिशत रहने का आकलन

Sanjeevani
MDLM

2011 में बेची थी स्वाति कॉन फैक्टरी

स्वाति कॉन के मालिक अमित केजरीवाल ने मोंगिया स्टील के एमडी गुणवंत सिंह पर आरोप लगाते हुए कहा कि साल 2011 के फरवरी माह में स्वाति कॉन को 40 करोड़ में बेचने का एकरारनामा गुणवंत सिंह सलूजा के बीच किया गया था. जिसमें बैंक को दिए जाने वाली रकम भी शामिल थी.

एकरारनामा तैयार होने के बाद गुणवंत सिंह मोंगिया ने दो सालों तक स्वाति कॉन को चलाया. लेकिन एग्रीमेंट की रकम का भुगतान नहीं किया. रकम भुगतान करने के बजाय गुणवंत सिंह सलूजा ने नगर थाना में अमित और उनके भाई सुमित केजरीवाल के खिलाफ झूठा केस दर्ज करा दिया. जिसे अनुसंधान के दौरान नगर थाना पुलिस ने पूरी तरह से गलत पाया.

इसे भी पढ़ेंः जाधवपुर विश्वविद्यालय के कुलपति ने अपने कर्तव्यों को दरकिनार कर दिया :  राज्यपाल धनखड़

बिना जानकारी दिये बोर्ड की बैठक की

अमित केजरीवाल ने आरोप लगाते हुए कहा कि स्वाति कॉन कंपनी को साजिश कर हड़पने की नीयत से ही गुणवंत सिंह सलूजा ने जानकारी दिये बगैर साल 2012 में निदेशक मंडली की बैठक की. इसमें खुद मोंगिया स्टील के निदेशक गुणवंत सिंह मोंगिया और उनके भतीजे बलविंदर सिंह ही शामिल हुए.

इसके बाद गुणवंत सिंह सलूजा और बलविंदर सिंह सलूजा ने गिरिडीह कोर्ट को भी गुमराह करते हुए एक आपत्ति पत्र के साथ आपराधिक साजिश कर फर्जी शेयर प्रमाण पत्र भी दाखिल किया.

इसे भी पढ़ेंः #Chaibasa:75 हजार वेतन पानेवाला दारोगा 10 हजार रुपये घूस लेते पकड़ाया, केस कमजोर करने के लिए मांगी थी घूस

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button