GiridihJharkhand

#Giridih : मेयर सुनील पासवान का गिरफ्तारी वांरट जारी, पुलिस कर रही छापामारी

  • नोटिस के बाद भी पेश नहीं हुए आरोपी मेयर
  • पुलिस ने मेयर समेत कई करीबियों के मोबाइल नंबर को डाला सर्विलांस पर
  • जमानत याचिका खारिज होने के बाद से फरार हैं मेयर
  • मेयर के अधिवक्ता ने किया दावा दो दिनों में हाइकोर्ट में दायर करेंगे जमानत याचिका
  • गुरुवार को नोटिस देने के साथ घर पर पुलिस ने की थी छापेमारी

Giridih : फर्जी दस्तावेज के आधार पर जाति प्रमाण पत्र बना कर चुनाव लड़ने के मामले में गिरिडीह नगर निगम के मेयर सुनील पासवान की गिरफ्तारी का वारंट जारी हुआ है. पुलिल उन्हें कभी भी गिरफ्तार कर सकती है. हालांकि गिरफ्तारी वारंट निर्गत होने के साथ ही मेयर फरार चल रहे हैं.

मेयर सुनील पासवान के मामले में खुद मुफ्फसिल थाना प्रभारी रत्नमोहन ठाकुर अनुसंधानकर्ता बनाये गये हैं. गुरुवार को शीतलपुर स्थित मेयर के घर पहुंच कर जहां मेयर के भतीजे संजीव पासवान को 41ए का नोटिस थमा कर आरोपी मेयर को कोर्ट में या पुलिस के समक्ष मौजूद हो कर पक्ष रखने का निर्देश दिया.

इसे भी पढ़ें – #Corona : हजारीबाग में कोरोना के दो नये पॉजिटिव मरीज मिले, झारखंड का आंकड़ा पहुंचा 205

मेयर के घर छापामारी

इस दौरान पुलिस ने मेयर के घर पर छापेमारी भी की, लेकिन वह घर पर नहीं मिले. मुफ्फसिल थाना पुलिस मेयर तक पहुंचने के सारे प्रयास दबे पांव कर रही है, क्योंकि मामला नगर निगम के मेयर की गिरफ्तारी का है.

पुलिस सूत्रों की मानें तो मेयर सुनील पासवान को गिरफ्तार करने को लेकर पुलिस ने मेयर के दो नंबर समेत उनके कई करीबियों के मोबाइल नंबर को सर्विलांस पर डाल रखा है.

इसे भी पढ़ें – #Covid-19 वाली इस नई दुनिया में स्थानीय महामारी विज्ञान के अनुसार उपाय करने चाहिए: WHO

हाइकोर्ट में दायर करेंगे जमानत याचिका

अधिवक्ता चुन्नूकांत ने कहा कि फिलहाल उन्हें भी जानकारी नहीं है कि मेयर कहां हैं, लेकिन वह दो दिनों के भीतर हाइकोर्ट में मेयर की अग्रिम जमानत याचिका दायर करेंगे. इसकी प्रकिया शुरू कर दी गयी है. अधिवक्ता चुन्नूकांत की मानें तो मेयर पर जिन आरोपों के तहत जिन धाराओं में केस दर्ज हुआ है. उसमें हर धारा में सात-सात साल की सजा का प्रावधान है. बतातें चले कि 11 मई को पंचम जिला जज ने मेयर के अधिवक्ता की सारे दलीलों को सुनने के बाद जमानत याचिका खारिज कर दी थी.

इसे भी पढ़ें – पीयूष गोयल को है जानकारी का अभाव, 110 ट्रेनों के लिए दी है NOC, कहें तो भेज दें पूरी लिस्ट: हेमंत सोरेन

Telegram
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
Close