Corona_UpdatesGiridihJharkhand

14 मई से होनेवाली 18+ के टीकाकरण के लिए गिरिडीह प्रशासन तैयार, डीसी ने बताया रोडमैप

Giridih : 14 मई से 18 से 44 साल तक की उम्र के लोगों के टीकाकरण की तैयारी गिरिडीह प्रशासन ने पूरी कर ली है. शुक्रवार से 18 साल से अधिक उम्र के लाभार्थियों के वैक्सीनेशन का रोडमैप डीसी राहुल सिन्हा और प्रभारी सिविल सर्जन डॉ सिद्धार्थ सन्याल ने गुरुवार को प्रेसवार्ता के दौरान रखा. प्रेसवार्ता में डीडीसी शशिभूषण मेहरा और जिला जन संपर्क पदाधिकारी रश्मि सिन्हा भी मौजूद थीं.

प्रेसवार्ता के दौरान डीसी ने बताया कि 18 साल से अधिक उम्र वालों की संख्या जिले में एक अनुमान के मुताबिक 11 लाख के करीब है. इतनी बड़ी जनसंख्या को वैक्सीनेशन के लिए कवर कर पाना काफी चुनौतीपूर्ण है.

advt

क्योंकि जिले को कोविशील्ड और को-वैक्सीन के फिलहाल 10 हजार डोज ही उपलब्ध कराये गये हैं. दोनों वैक्सीन पांच-पांच हजार डोज हैं. जिन लाभार्थियों ने पहले निबंधन करा लिया है. उन्हें सुविधानुसार वैक्सीन लगायी जायेगी.

इसे भी पढें :कोविशील्ड की दो डोज के बीच बढ़ा अंतराल, अब 12-16 सप्ताह के बीच लगेगा

डीसी ने यह भी बताया कि शुक्रवार से शहरी क्षेत्र में पांच केन्द्रों में इस बड़ी आबादी का टीकाकरण किया जायेगा. जिसमें शहर के नया सर्किट हाउस के समीप जिला जन संपर्क कार्यालय, झंडा मैदान के समीप विवाह भवन, अरगाघाट स्थित श्रम कल्याण केन्द्र और बाभनटोली रोड स्थित श्रीराम भवन में टीकाकरण केन्द्र बनाया गया है. जबकि ग्रामीण क्षेत्रों में सामुदायिक स्वास्थ केन्द्रों में टीकाकरण किया जायेगा.

प्रेसवार्ता के दौरान डीसी ने स्पष्ट किया कि वैसे लाभार्थी जो कोरोना पॉजिटीव हैं, या कुछ दिनों पहले तक संक्रमित थे, और अब उनकी रिपोर्ट निगेटीव आ चुकी है, उनका टीकाकरण नहीं होगा.

हालांकि डीसी ने यह भी अपील की कि बगैर निबंधन और बगैर स्लॉट के कोई लाभार्थी टीकाकरण केन्द्र नहीं पहुंचे. क्योंकि टीकाकरण गाइडलाइन के अनुसार निबंधन कराने के बाद ही होना है.

वैसे प्रेसवार्ता के क्रम में डीसी व सिविल सर्जन ने स्पस्ट किया कि टीकाकरण के लिए रजिस्ट्रेशन की प्रकिया बेहद आसान है. कोरोना वैक्सीन की वेबसाईट को खोलना है. जिसमें लाभार्थी के मोबाइल नंबर समेत अन्य विकल्प मांगे जाते हैं.

इसे भी पढें :WHO ने कहा- भारत में धार्मिक और राजनीतिक आयोजनों की वजह से भी फैला संक्रमण

विकल्प के स्थान को भरने के बाद एक ओटीपी लाभार्थी के मोबाइल नंबर आने के बाद निबंधन किया जाता है. उन्होंने कहा कि जो लाभार्थी कोविशील्ड ले चुके हैं, उन लाभार्थियों को फिर दूसरी कंपनी का वैक्सीन नहीं लेना है.

एक सवाल के जवाब में डीसी ने कहा कि 18 साल से अधिक उम्र वाले लाभार्थी टीकाकरण के लिए आते हैं, तो केन्द्र में रैपिड एंटीजैन टेस्ट की व्यवस्था भी रहेगी. जिन लाभार्थियों में कोरोना के हल्के लक्ष्ण भी दिखेंगे, उनका सैंपल उसी केन्द्र में लिया जायेगा.

लेकिन इस दौरान वैसे लोगों का वैक्सीनेशन नहीं होगा. एक सवाल के जवाब में डीसी ने कहा कि अब सरकार की गाइडलाइन के अनुसार सैंपल देने के बाद किसी को रिपोर्ट लेने के लिए अस्पताल पहुंचने की जरूरत नहीं है.

क्योंकि एनआइसी का वेबसाईट खोल कर सैंपल देनेवाले अपनी रिपोर्ट ले सकते हैं. फिलहाल एंटीजन टेस्ट में कोई देरी नहीं हो रही है. देर सिर्फ आरटीपीसीआर रिपोर्ट में हो रही है.

इसे भी पढें :पप्पू यादव को पटना हाईकोर्ट से नहीं मिली राहत, जेल से अस्पताल भेजे जायेंगे

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: