न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

गिरिडीह  : नगर थाना क्षेत्र के कुरैशी मुहल्ले में दो पक्षों में हुई खूनी झड़प, एक की मौत

  कुरैशी मुहल्ला में कारोबार में वर्चस्व को लेकर कीलखाना संचालक अब्दुल मजीद की हत्या के बाद मामला भड़का,  नर्सिंग होम में भी दो भाईयों की धुनाई

195

Giridih : गिरिडीह नगर थाना क्षेत्र के कुरैशी मुहल्ला में शुक्रवार को आपसी रंजिश को लेकर दो पक्षों में हुई मारपीट में एक पक्ष के 65 वर्षीय अब्दुल मजीद की मौत हो गयी. इस घटना में दोनों पक्ष के कई लोग घायल हो गये.

घटना के बाबत बताया जाता है कि नगर थाना पुलिस शुक्रवार को कुरैशी मुहल्ला के रहने वाले बड़ा किलखाना संचालक आफताब कुरैशी का घर तलाश रही थी. इसी क्रम में कील खाना संचालक अब्दुल मजीद के बेटे किस्मत अली उर्फ राहुल ने पुलिस वालों को आफताब का घर दिखा दिया.

इसी बात से नाराज मो आफताब अपने समर्थक मिट्ठु कुरैशी, शाहिद कुरैशी, मुन्ना कुरैशी सहित आठ दस लोगों को लेकर अब्दुल मजीद के घर पहुंचा और उस पर हमला कर दिया.  इस दौरान आफताब व उसके साथ आये लोगों ने भुजाली से अब्दुल मजीद पर कई वार कर दिये, जिससे वह गंभीर रूप से घायल हो गया.

मुहल्ले वालों व परिवार के अन्य लोगों ने आनन फानन में गंभीर रूप से घायल अब्दुल मजीद व उसके बेटे किस्मत अली को लेकर नवजीवन नर्सिंग होम पहुंचे.  जहां इलाज के दौरान अब्दुल मजीद की मौत हो गयी. घटना के बाद से कुरैशी मुहल्ला में तनाव का माहौल बना हुआ है.

कारोबार में वर्चस्व को लेकर हुई हत्या

कारोबार में वर्चस्व को लेकर  हुई हत्या के बाद लोगों में आक्रोश भड़क उठा.  मामला तब  और भड़क गया, जब  अब्दुल मजीद कुरैशी को देखने हत्या के आरोपी दो भाई मो सलाउद्दीन और मो शाहिद कुरैशी नर्सिंग होम पहुंच गये.   नर्सिंग होम में  मृतक अब्दुल मजीद के बेटे किस्मत अली उर्फ राहुल, जाफर कुरैशी समेत मृतक के अन्य रिश्तेदार दोनों भाई सलाउद्दीन व शाहिद पर टूट पड़े.

दोनों भाईयों को जमकर पीटा गया.  मारपीट के बाद काफी देर तक नर्सिंग होम में अफरी-तफरी का माहौल रहा. कुछ मरीज के परिजनों ने भय के कारण खुद को वार्ड व केबिनों में कैद कर लिया. इस दौरान कर्मियों ने दोनों भाईयों को सुरक्षित करने के लिए नर्सिंग होम के पहले तल्ले के एक केबिन में छिपा दिया.  इसके बाद भी मृतक के बेटों और रिश्तेदारों ने दोनों भाईयों को केबिन से बाहर निकाल कर जमकर पीटा.

इसे भी पढ़ें – कोर्ट ने की डिफेंस लैंड होने की पुष्टि, भू-अर्जन पदाधिकारी ने म्यूटेशन रद्द करने दिया आदेश, लेकिन माफिया लूटते रहे जमीन-2

डीएसपी टू संतोष मिश्रा और एसडीपीओ जीतवाहन उरांव  नर्सिंग होम पहुंचे

घटना की सूचना पाकर नगर थाना के एसआई प्रदीप कुमार पुलिस जवानों के साथ जब नर्सिंग होम पहुंचे, लेकिन  पुलिस के मौजदूगी में भी मृतक के बेटे और रिश्तेदारों में गुस्सा दिखा. इस बीच डीएसपी टू संतोष मिश्रा और एसडीपीओ जीतवाहन उरांव भी पुलिस जवानों के साथ नर्सिंग होम पहुंच गये. इसके बाद मामला शांत हुआ.  इस क्रम में  नगर थाना पुलिस दोनों आरोपी भाईयों सलाउद्दीन और शाहिद को पूछताछ के लिए हिरासत में लेकर नगर थाना ले गयी

पुलिस पदाधिकारियों के मौजदूगी में अब्दुल मजीद कुरैशी के शव को एबुलेंस से पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल पहुंचाया गया.  उधर  झामुमो नेता इरशाद अहमद वारिश और वार्ड पार्षद सैफअली गुड्डु समेत कुरैशी मुहल्ला व लाईन मस्जिद के काफी लोगों की भीड़ जुट गयी.

SMILE

इसे भी पढ़ें – सीएनटी ही नहीं आर्मी की जमीन पर भी माफिया ने कर लिया कब्जा और देखता रहा प्रशासन-1

दोनों पक्षों ने एक-दूसरे पर मारपीट का आरोप लगाया

अब्दुल मजीद के बेटे किस्मत अली उर्फ राहुल, जाफर कुरैशी व मृतक के भाई मिट्ठु कुरैशी पर हमला करने क आरोप राहुल ने मुहल्ले के सन्नाटा उर्फ आफताब कुरैशी, शाहिद कुरैशी, मुन्ना कुरैशी, मो सैफी कुरैशी समेत दर्जन भर लोगों पर लगाया.  जबकि दूसरे पक्ष के सलाउद्दीन और शाहिद ने मृतक के बेटे किस्मतअली, जाफर समेत अन्य लोगों पर आरोप लगाते हुए कहा कि अब्दुल मजीद की हत्या में उनलोगों का कोई हाथ नहीं है.

कहा कि वे लोग अपनी दुकान में थे कि किस्मत अली उर्फ राहुल समेत अन्य लोग आये और मारपीट करना शुरु कर दिया.  आरोप लगाया कि मृतक के बेटों किस्मत अली उर्फ राहुल समेत उनके रिश्तेदारों ने मो फेंकू कुरैशी, मो जाहिद कुरैशी, सन्नाटा उर्फ आफताब पर धारदार हथियार से वार किया. जाहिद और फेंकू को गंभीर चोट लगने के बाद अस्पताल ले जाया गया.

अब्दुल मजीद कुरैशी की पत्नी ने फेंकू कुरैशी समेत पांच पर किया था केस

कुरैशी मुहल्ला में कीलखाना संचालक अब्दुल मजीद कुरैशी की हत्या की वजह तलाशने का हर प्रयास एसडीपीओ जीतवाहन उरांव और नगर थाना प्रभारी आदिकांत महतो घटना के बाद से लगातार कर रहे हैं.   पुलिस का दावा है कि शनिवार तक सब कुछ साफ हो जायेगा.  अब्दुल मजीद की हत्या के कुछ घंटों बाद कई तथ्य निकल कर सामने आये. सामने आया कि  पुलिस मृतक अब्दुल मजीद कुरैशी की पत्नी के द्वारा दायर एक छेड़खानी के केस की जांच करने शुक्रवार को कसाई मुहल्ला गयी थी.  इस दौरान पुलिस को अब्दुल मजीद कुरैशी के बेटे बब्बन कुरैशी ने मुहल्ले के उन आरोपियों का घर दिखाया, जिसके खिलाफ मृतक की पत्नी ने छेड़खानी का केस दर्ज कराया था.

हालांकि घटना के बाद मृतक अब्दुल मजीद कुरैशी और साजिदा के बेटे राहुल उर्फ किस्मतअली द्वारा आरोपियों का घर दिखाने की बात सामने आयी थी. लेकिन कुछ देर बाद पूरा मामला साफ हुआ, जिसमें राहुल के भाई बब्बन कुरैशी द्वारा आरोपियों का घर दिखाने की बात सामने आयी.

थाना के एसआई सह केस के अनुसंधानकर्ता विजय तिर्की पुलिस जवानों के साथ आरोपियों के घर देखने के साथ घटनास्थल का ब्यौरा दर्ज करने गये हुए थे, घटनास्थल का ब्यौरा दर्ज कर केस के आईओ वापस थाना लौट रहे थे, कि दुबारा आईओ तिर्की को मृतक के बेटे बब्बन ने फोन कर जानकारी दी कि आरोपियों ने उसके घर में पथराव करने के साथ तोड़फोड़ करना शुरु कर दी.

अब्दुल मजीद कुरैशी की पत्नी साजिदा खातून के साथ छेड़खानी की घटना साल 2018 की बतायी जा रही है.  घटना के बाद साजिदा ने कोर्ट में परिवाद पत्र दायर कर मुहल्ले के युवकों पर ही आरोप लगाकर केस दर्ज कराया था साजिदा के कोर्ट परिवाद पत्र के आधार पर ही 24 मई को नगर थाना में थाना कांड संख्या 122/19 दर्ज किया गया.

जिसमें साजिदा ने कुरैशी मुहल्ला के फेंकू कुरैशी, मुन्ना कुरैशी, साजिद कुरैशी, बीगू कुरैशी समेत पांच के खिलाफ घर में घुसकर अपने साथ छेड़खानी करने और मारपीट करने का आरोप लगाते हुए केस दर्ज कराय था.  यह वही फेंकू कुरैशी है,  जिसकी पिटाई मृतक के बेटों द्वारा होने के बाद उसके गंभीर स्थिति को देखते हुए रेफर कर दिया गया.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: