न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

आम चुनाव 2019 : चुनाव आयाेग ने तैयारी शुरू की, अधिकारियों को दिये  दिशा-निर्देश  

आयोग ने राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों के मुख्य चुनाव अधिकारियों की दिल्ली में दो दिन तक बैठक की.

40

NewDelhi : 2019 के आम चुनाव को लेकर निर्वाचन आयोग तैयारियों में जुट गया है. बता दें कि निर्वाचन आयोग ने राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों के मुख्य चुनाव अधिकारियों की दिल्ली में दो दिन तक बैठक की. बताया गया कि  बैठक में वीवीपैट तथा ईवीएम को चुनाव के दौरान दुरूस्त रखने पर जोर दिया गया. मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने चुनाव अधिकारियों से कहा कि अपने राज़्यों में चुनाव के लिए ईवीएम की जरूरतों के बारे में जानकारी दें. ईवीएम पर ज्यादा से ज्यादा अभ्यास करें ताकि मतदान के समय किसी भी तरह की तकनीकी परेशानी न आये. जानकारी के अनुसार लोकसभा चुनाव मई में होने की संभावना है.

mi banner add

बता दें कि  2014 में हुए आम चुनावों में 9,30,000 मतदान केंद्र बनाये गये थे. चुनाव में 10.40 लाख ईवीएम इस्तेमाल की गयी थीं.  इस बार इतनी ही वीवीपैट इस्तेमाल होंगी क्योंकि लोकसभा चुनावों में पूरी तरह से वीवीपैट मशीनों का इस्तेमाल किया जाना है.

पिछले साल चुनावों में ईवीएम से जुड़ी तकनीकी खामियां सामने आयी थी

Related Posts

इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस ने पाकिस्तान के जेल में बंद कुलभूषण जाधव की फांसी पर रोक लगायी

अदालत के प्रमुख न्यायाधीश अब्दुलकावी अहमद यूसुफ मे फैसला पढ़कर सुनाया. 16 में से 15 जज, भारत के हक में थे.

पिछले साल तीन राज्यों में हुए विधानसभा चुनावों में ईवीएम से जुड़ी तकनीकी खामियां सामने आयी थी. आयोग ने कहा था कि एक से दो पर्सेंट खामियां रिपोर्ट हुई है जो बहुत कम है. इनसे चुनाव पर असर नहीं पड़ा है; गत वर्ष आयोग में इसको लेकर चर्चा हुई थी कि एक सीट की पांच फीसदी वोटिंग मशीनों का मिलान वीवीपैट से होना चाहिए; लेकिन इस बारे में कोई फैसला नहीं हो पाया. सुप्रीम कोर्ट में हाल ही में दायर एक याचिका में कहा गया कि वीवीपैट व ईवीएम में पड़े वोटों का मिलान करने का प्रतिशत 30% बढ़ाया जाये. इस मामले में कोर्ट ने आयोग को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है. याचिका में कहा गया है कि आयोग चुनाव के बाद हर सीट पर तीन से चार मशीनों की पर्ची का मिलान ईवीएम से करता है. यह बहुत कम है.

इसे भी पढ़ें : अखिलेश के चाचा शिवपाल सिंह बोले, सीबीआई के डर ने बना दी सपा-बसपा की जोड़ी

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: