न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

PM मोदी पर गहलोत का निशाना, कहा- CAA को लेकर सफाई देने की नौबत क्यों आयी

611

Jodhpur: राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा है. गहलोत ने कहा कि मोदी को संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) एनपीआर व एनआरसी को लेकर के सफाई देनी पड़ रही है और उन्हें यह बताना चाहिए कि ऐसी नौबत क्यों आयी.

इसे भी पढ़ें- जाने कैसे हुआ रघुवर सरकार में कंबल घोटाला

Aqua Spa Salon 5/02/2020

क्या कहा गहलोत ने

अपने गृह क्षेत्र जोधपुर में केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह की सीएए के समर्थन में जनजागरण रैली की ओर इशारा करते हुए गहलोत ने कहा कि गृहमंत्री अमित शाह आ रहे हैं मेरे जिले में, उनका हार्दिक स्वागत है.

प्रधानमंत्री मन की बात कहते थे और लोग सुनते थे. आज ऐसी क्या स्थिति बन गयी कि अब उनको संशोधित नागरिकता कानून, एनपीआर, एनआरसी को लेकर के सफाई देनी पड़ रही है, पूरे मुल्क में लोगों को भेज रहे हैं, नेताओं को, जाकर के जनता को समझाओ. ये नौबत क्यों आयी है मैं पूछना चाहता हूं.

गहलोत ने आगे कहा कि स्थिति इतनी गंभीर है, पूरे देश के लोग सड़कों पर हैं. पार्टी से हटकर सड़कों पर आ गये हैं, नई पीढ़ी सड़कों पर आ गयी है, अपने भविष्य को लेकर के देश का युवा चिंतित है, ये नौबत क्यों आयी है.

Related Posts

एआईएमआईएम के राष्‍ट्रीय प्रवक्‍ता #WarisPathan का बयान, 15 करोड़ भारी हैं 100 करोड़ पर, राजनीति गरमायी

वीएचपी ने वारिस पठान के इस बयान की आलोचना की है. उधर, मुस्लिम मौलवियों ने वारिस पठान के इस बयान की आलोचना की है. उन्‍होंने कहा कि इस तरह के बयान घृणा को जन्‍म देते हैं.

इसे भी पढ़ें- #Air_India पर 80 हजार करोड़ का कर्ज, निजीकरण के अलावा कोई विकल्प नहीं : सरकार

केंद्र सरकार को घमंड छोड़कर पुनर्विचार करना चाहिए: गहलोत

उन्होंने कहा कि जिन हालात में एनआरसी, संशोधित नागरिकता कानून पारित किया गया उसकी जरूरत नहीं थी. अटल बिहारी वाजपेयी के वक्त में पहली बार नागरिकता कानून में संशोधन हुआ था. तब कोई हल्ला ही नहीं हुआ था, एनआरसी का प्रावधान भी उसमें किया गया था, एनपीआर का किया गया था, कोई हल्ला हुआ ही नहीं था. क्या कारण है कि इस बार हल्ला हुआ है, ये समझने की बात है.

Gupta Jewellers 20-02 to 25-02

गहलोत ने कहा कि आज देश में ध्रुवीकरण करने का कोई तुक नहीं है. ये देश टूट जायेगा, कमजोर हो जायेगा. मुख्यमंत्री ने कहा कि हिंदू राष्ट्र की बात करना आसान है, एजेंडे को आगे बढ़ाना आसान है. केंद्र सरकार से पूछो, जब ये हो जायेगा उसके बाद में इस देश के कितने टुकड़े होंगे कोई सोच सकता है क्या. उसका जवाब मोदी के पास में, अमित शाह के पास में है क्या. ये जवाब मैं पूछना चाहता हूं उनसे.

गहलोत ने कहा कि नौ राज्य कह चुके हैं कि वे सीएए को लागू नहीं करेंगे तो केंद्र सरकार घमंड में क्यों चल रही है. जब पूरा देश विरोध कर रहा है तो केंद्र सरकार को अहं और घमंड छोड़कर पुनर्विचार करना चाहिए.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like