न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

गयाः मोदी की रैली में हंगामा, लोगों ने एक-दूसरे पर फेंकी कुर्सियां-लाठीचार्ज

2,353

Gaya: लोकसभा चुनाव सिर पर है. ऐसे में राजनेताओं की धुआंधार रैलियों का दौर जारी है. मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बिहार में दो रैलियां की. जमुई और गया में रैली हुई.

लेकिन गया में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली स्थल पर जमकर हंगामा हो गया. लोगों ने एक-दूसरे पर कुर्सियां फेंकी और आपस में ही भिड़ गये.

इसे भी पढ़ेंःझारखंड कांग्रेस : रांची से सुबोधकांत, सिंहभूम से गीता कोड़ा और लोहरदगा से सुखदेव भगत लड़ेंगे चुनाव

बेकाबू हुई भीड़

बताया जा रहा है कि रैली स्थल पर उम्मीद से ज्यादा लोग जमा हो गये थे. जिसके कारण अव्यवस्था देखने को मिली. इस दौरान रैली में दो गुटों के बीच झगड़ा हो गया, जिससे स्थिति और भी खराब हो गई.

लोगों ने कुर्सियां उठाकर एक दूसरे पर और कुछ लोगों ने जमीन पर पटकना शुरु कर दिया. और एक-दूसरे पर कुर्सियां फेंक रहे दो समूहों को शांत करने के लिए पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा. वहीं कुछ लोग इस दौरान अपने आप को बचाते हुए भागते भी दिखाई दिए.

मोदी के पहुंचने से पहले हंगामा

पुलिस ने कहा कि घटना के संबंध में किसी को भी गिरफ्तार नहीं किया गया है. यह घटना मोदी के रैली स्थल पर पहुंचने से पहले हुई. हालांकि, उस वक्त बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी और केंद्रीय मंत्री राम विलास पासवान मंच पर मौजूद थे.

Related Posts

मुंगेर में हाइ प्रोफाइल डबल मर्डरः #RJDMLA की भतीजी का बॉयफ्रेंड के साथ मिला शव

पहली नजर में पुलिस मान रही आत्महत्या, प्यार में असफल होने पर जाने देने की आशंका

इसे भी पढ़ेंःअटल वेंडर मार्केट में गलत तरीके से दुकान पाए दुकानदार होंगे बाहर : नगर आयुक्त

सूत्रों ने बताया कि दोनों पक्ष राजग के समर्थक लग रहे थे क्योंकि वे प्रधानमंत्री के पक्ष में नारे लगा रहे थे.

मंच से हुई शांति की अपील

बताया जा रहा है कि जब सीएम नीतीश कुमार मंच पर पहुंचे तो एक बार फिर स्थिति बेकाबू होती दिखाई दी. इस दौरान मंच से कई बार शांति बनाये रखने की अपील की गई.

इसके बावजूद जब स्थिति नहीं संभली तो नेताओं ने देशभक्ति नारे लगवाने शुरु किए. इसका असर भी देखने को मिला और लोगों ने कुर्सियां फेंकना छोड़कर नारे लगाने शुरु कर दिए. जिसके बाद स्थिति काबू में आ सकी.

इसे भी पढ़ेंःपानी की समस्‍या से जुझ रहे झरियावासियों ने कहा : पानी नहीं, तो वोट नहीं

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
क्या आपको लगता है हम स्वतंत्र और निष्पक्ष पत्रकारिता कर रहे हैं. अगर हां, तो इसे बचाने के लिए हमें आर्थिक मदद करें.
आप अखबारों को हर दिन 5 रूपये देते हैं. टीवी न्यूज के पैसे देते हैं. हमें हर दिन 1 रूपये और महीने में 30 रूपये देकर हमारी मदद करें.
मदद करने के लिए यहां क्लिक करें.-

you're currently offline

%d bloggers like this: