Garhwa

गढ़वा: सेफ्टी टैंक की शटरिंग खोलने के दौरान दम घुटने से पिता-पुत्र समेत तीन मजदूरों की मौत, एक गंभीर

Garhwa: पलामू प्रमंडल के गढ़वा जिला मुख्यालय में मंगलवार को तीन मजदूरों की मौत हो गयी. एक नवनिर्मित सेफ्टी टैंक की शटरिंग खोलने के दौरान दम घुटने से तीन मजदूरों की मौत हो गयी. जबकि एक मजदूर की हालत गंभीर है.

मरने वाले मजदूरों में पिता-पुत्र भी शामिल हैं. जख्मी मजदूर को बेहतर इलाज के लिए गढ़वा सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया है. इधर घटना के बाद स्थानीय लोग उग्र हो गए हैं और सदर अस्पताल के सामने एनएच 39 को मुआवजा और नौकरी की मांग को लेकर जाम कर दिया है.

इसे भी पढ़ेंःकेजरीवाल कैबिनेट का फैसला: घर-घर राशन पहुंचाने की योजना को मंजूरी

शटरिंग खोलने के दौरान हादसा

बताया जाता है कि गढ़वा के कचहरी रोड स्थित अमोद तिवारी के नवनिर्मित भवन में सेफ्टी टैंक की दो माह पूर्व ढलाई की गयी थी. गढ़वा के कल्याणपुर के मजदूर यहां काम कर रहे थे. चार मजदूर शटरिंग खोलने के लिए सेफ्टी टैंक में उतरे थे. इसी दौरान दम घुटने से एक-एक करके चार मजदूर अचेत पड़ गए.

आनन-फानन में सभी को बाहर निकाला गया और इलाज के लिए गढ़वा सदर अस्पताल में ले जाया गया, जहां तीन मजदूरों को मौके पर मौजूद डाक्टरों ने मृत घोषित कर दिया, जबकि एक को इलाज के लिए भर्ती किया. डाक्टरों का कहना है कि मजदूर जब अस्पताल लाये गये तो उनकी मौत हो चुकी थी. उनकी मौत के कारण पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद ही स्पष्ट हो पाएगी.

जख्मी एवं साथ में काम कर रहे मजदूरों का आरोप है कि सेफ्टी टैंक में उतरने पर उसे जोरदार करंट लगा. जो नीचे थे उनकी मौत हो गयी, जबकि टैंक के ऊपर खड़े लोग बाल-बाल बच गए.

इसे भी पढ़ेंःCoronaUpdate: जमशेदपुर में 10 साल के बच्चे समेत दो की मौत, राज्य में अबतक 62 लोगों की गयी जान

मजदूरों और परिजनों का प्रदर्शन

घटना के बाद मजदूर और उनके परिजन उग्र हो गए हैं. सदर अस्पताल के सामने एनएच-39 गढ़वा नगर उंटारी मार्ग को जाम कर दिया. प्रदर्शनकारी 5-5 लाख मुआवजा और सरकारी नौकरी की मांग कर रहे हैं. सूचना मिलने पर पुलिस के बड़े अधिकारी मजदूर और उनके परिजनों को मनाने में लगे हैं. कोरोना के बढ़ते संक्रमण के बीच सड़क जाम से हड़कंप मचा है.

मरने वाले मजदूर गढ़वा के कल्याणपुर के रहने वाले हैं. इनमें ईमामुद्दीन अंसारी और उसका पुत्र गुलाम रब्बानी व अमरेन्द्र विश्वकर्मा हैं. जख्मी मजदूर की पहचान कमेश्वर प्रजापति के रूप में हुई है. घटना के बाद गढ़वा के पुलिस अधीक्षक श्रीकांत एस खोटरे ने घटनास्थल और सदर अस्पताल का जायजा लिया. उन्होंने शहर थाना पुलिस को उचित कार्रवाई करने का निर्देश दिया है.

इसे भी पढ़ेंः24 घंटे निर्बाध बिजली के लिए जरूरत है 72 एक्स्ट्रा ग्रिड सब स्टेशनों की, सूबे में हैं महज 43

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: