GarhwaJharkhand

गढ़वा: एसपी और पुलिस एसोसिएशन के बीच चल रहा विवाद 15 दिन बाद सुलझा

  • डीआइजी ने बैठक कर मामले को सलटाया

Garhwa: गढ़वा जिले में एसपी और पुलिस एसोसिएशन के पदाधिकारियों बीच चल रहा विवाद सुलझा लिया गया है. डीजीपी एमवी राव के निर्देश पर पलामू रेंज के डीआइजी राजकुमार लकड़ा ने मामले में बैठक की और विवाद को समाप्त कराया. इस तरह पिछले 15 दिनों से एसपी और एसोसिएशन के बीच बनी तनातनी की स्थिति दूर हो गयी.

Jharkhand Rai

विवाद की शिकायत के बाद एसोसिएशन की केंद्रीय टीम गढ़वा आयी. यहां पलामू के डीआइजी, एसपी श्रीकांत एस खोटरे के साथ बैठक कर विवाद को सुलझाया. केंद्रीय टीम ने दोनों के बीच कम्युनिकेशन गैप को विवाद का कारण बताया.

इसे भी पढ़ें – रामविलास पासवान के निधन के बाद गोयल को उपभोक्ता मामले, खाद्य व सार्वजनिक वितरण मंत्रालय का अतिरिक्त प्रभार

क्या है मामला?

गढ़वा के एसपी श्रीकांत एस खोटरे की कनीय पुलिस पदाधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई को चुनौती देते हुए पुलिस एसोसिएशन के पदाधिकारियों ने प्रताड़ित करने का आरोप लगाया था. साथ ही केंद्रीय टीम को पत्र लिखकर इस संबंध में कार्रवाई करने की मांग की थी. पत्र में एसपी के खिलाफ कई आरोपों का जिक्र किया गया था.

Samford

इसके बाद एसोसिएशन की केंद्रीय कमेटी की एक जांच टीम गढ़वा आयी. जांच टीम ने केंद्रीय कमेटी को सौंपी रिपोर्ट में एसपी को दोषी ठहरा दिया. उसके बाद केंद्रीय कमेटी ने डीजीपी से मिलकर एसपी पर लगाये गये आरोपों की जांच कराने और उचित कार्रवाई करने की मांग की.

इसे भी पढ़ें – पीएम मोदी समेत कई नेताओं ने रामविलास पासवान को श्रद्धांजलि दी, बिहार में होगा अंतिम संस्कार

डीआइजी ने की थी जांच

डीजीपी ने पलामू के डीआइजी को इसकी जांच कर रिपोर्ट सौंपने के निर्देश दिये थे. गुरुवार को एसोसिएशन के केंद्रीय कमेटी के अध्यक्ष योगेंद्र सिंह, महामंत्री अक्षय कुमार पासवान, उपाध्यक्ष अखिलेश्वर पांडेय, पलामू प्रक्षेत्र के क्षेत्रीय मंत्री उपेंद्र कुमार सिंह, रांची प्रक्षेत्र के क्षेत्रीय मंत्री धर्मेंद्र कुमार सिंह गढ़वा पहुंचे.

एसोसिएशन के केंद्रीय अध्यक्ष योगेंद्र सिंह और महामंत्री अक्षय कुमार पासवान ने कहा कि कम्युनिकेशन गैप के कारण एसपी और पुलिस पदाधिकारियों के बीच गलतफहमी और विवाद जन्म ले लिया था. अब सारे विवाद खत्म हो गए हैं. पुलिस पदाधिकारी अपनी समस्या से एसपी को अवगत कराएंगे. एसपी उसका समाधान निकालेंगे. अब सारे विवाद खत्म हो चुके हैं. पुलिस पदाधिकारी पूर्व की तरह वातावरण में अपना काम शुरू करेंगे.

इसे भी पढ़ें – संस्मरण : “मुझे 1969 से लेकर 17 अप्रैल 1999 तक वाले रामविलास जी बहुत अजीज रहे”

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: