GarhwaJharkhand

गढ़वा: यूपी बॉर्डर पर अवैध वसूली में संलिप्त एक ASI  सहित चार पुलिसकर्मियों को SP ने किया सस्पेंड

Garhwa :  उत्तरप्रदेश बॉर्डर पर अवैध वसूली मामले में चार पुलिकर्मियों पर गाज गिरी है. गढ़वा एसपी खोत्रे श्रीकांत सुरेश राव ने मामले में संलिप्त पाए जाने एक सहायक अवर निरीक्षक सहित चार पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर दिया है.

गढ़वा जिले के पुलिस कप्तान खोत्रे श्रीकांत सुरेश राव ने झारखंड-यूपी बॉर्डर पर अवैध वसूली किये जाने के मामले में चार पुलिस कर्मियों को सस्पेंड कर दिया है. वहीं मजिस्ट्रेट जीवनदीप के खिलाफ भी कार्रवाई के लिए विभाग को पत्र लिखा है. एसपी ने यह कार्रवाई श्री बंशीधर नगर के एसडीपीओ अजीत कुमार एवं पुलिस इंस्पेक्टर अशोक कुमार सिंह के जांच प्रतिवेदन के आधार पर की है.

इसे भी पढ़ेंः Corona: संक्रमण के 9 नये केस मिले, झारखंड का आंकड़ा 2348 पहुंचा

SIP abacus

ये लोग हुए सस्पेंड

Sanjeevani
MDLM

जिन चार पुलिसकर्मियों पर गाज गिरी है, उनलोगों में बॉर्डर पर तैनात सअनि अमरेंद्र कुमार, हवलदार कमलेश राम, आरक्षी शैलेंद्र कुमार एवं अनिल कुमार यादव शामिल हैं. सभी सस्पेंड पुलिस कर्मियों को सस्पेंशन अवधि में बिजका पिकेट, हेसातु पिकेट, मदगड़ी ओपी एवं परों पिकेट पर योगदान देने का निर्देश दिया है. एसपी की इस कार्रवाई से पुलिस महकमा में हड़कंप मचा हुआ है.

 

ये है पूरा मामला

बता दें कि झारखंड-यूपी बॉर्डर पर बिलासपुर में डयूटी पर तैनात मजिस्ट्रेट एवं पुलिस कर्मियों पर यूपी से झारखंड में प्रवेश करने वालों से कथित पैसे वसूलने का आरोप लगा था. मुकुंद नामक ट्विटर यूजर से ट्वीट कर यूपी से झारखंड आने के क्रम में विंढमगंज बॉर्डर पर 500 रुपये मांगे जाने की शिकायत की थी.

मुकुंद ने अपने ट्वीट के माध्यम से पीएम नरेंद्र मोदी, सीएम हेमंत सोरेन, झारखंड पुलिस, राज्य के मंत्री मिथिलेश ठाकुर और डीसी गढ़वा को जानकारी देकर शिकायत दर्ज कराई थी. मुकुंद ने ट्वीट किया था कि उत्तरप्रदेश से आने के क्रम में विंढमगंज बॉर्डर के पास झारखंड पुलिस द्वारा उन्हें रोका गया और पैसा मांगा गया. पास नहीं रहने पर 500 रुपये की मांग की गयी थी.

इसे भी पढ़ेंः नस्लवाद के खिलाफ बोले होल्डर : डोपिंग और मैच फिक्सिंग की तरह ही दोषी खिलाड़ियों को सजा दी जाये

वेष बदलकर पहुंचे थाना प्रभारी

ट्वीट के बाद पुलिस प्रशासन हरकत में आ गया. जिला के प्रशासनिक अधिकारी के निर्देश पर थाना प्रभारी पंकज तिवारी दूसरे वाहन से वेष बदलकर मामले की जांच करने बॉर्डर पर पहुंचे. वे सीधे बॉर्डर पार कर यूपी गये और थोड़ी दूर से जब वे लौटकर झारखंड की सीमा में प्रवेश किया तो मजिस्ट्रेट और पुलिसकर्मी उनके वाहन की ओर लपके. इसी बीच किसी पुलिस कर्मी ने थाना प्रभारी को पहचान लिया जिसके बाद बॉर्डर पर तैनात लोगों के होश उड़ गये, और वहां लोगों में खलबली मच गयी.

मामले के बाद थाना प्रभारी पंकज तिवारी ने वहां से एसडीपीओ अजीत कुमार को सूचित किया था. जिसके बाद बॉर्डर पर पहुंचे एसडीपीओ, पुलिस इंस्पेक्टर तथा थाना प्रभारी ने ड्यूटी पर तैनात मजिस्ट्रेट और पुलिसकर्मियों को जमकर फटकार लगाई.

साथ ही मामले को सही पाते हुये जांच रिपोर्ट एसपी को सौंपा था. रिपोर्ट में मजिस्ट्रेट बंशीधर नगर प्रखंड के जेई जीवनदीप को भी अवैध वसूली में दोषी मानते हुये कार्रवाई के लिए संबंधित विभाग को लिखा गया है.

इसे भी पढ़ेंः Bengal: अब विश्वविद्यालयों और कॉलेजों में भी रद्द हो सकती हैं परीक्षाएं

6 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button