GarhwaJharkhand

गढ़वा: तंत्र मंत्र के चक्कर में सगी बहन की दे दी बलि, पांच हिरासत में

महिला की जीभ काटी, गर्भाशय और निकाली अंतड़ी

Garhwa: जिले के (नगर उंटारी) श्री बंशीधर नगर शहर के वार्ड नंबर 6 में मानवता को शर्मसार कर देनी वाली घटना सामने आयी है. यहां के उरांव टोला में तंत्र-मंत्र के चक्कर में विवाहिता गुड़िया देवी (26) को उसकी सगी बहन ललिता देवी और बहनोई दिनेश उरांव ने उसके पति मुन्ना उरांव के सामने ही बलि दे दी. पांच दिन बाद मामला सामने आने पर पुलिस ने कार्रवाई करते हुए पांच लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही हैं.

बताया जाता है कि तंत्र मंत्र के दौरान गुड़िया देवी का पहले जीभ काटा गया. प्राइवेट पार्ट के जरिये उसके यूटेरस और अंतड़ी को भी बाहर निकाल लिया गया, जिससे तड़प तड़प कर उसकी मौत हो गयी. घटना विगत मंगलवार की है. मृतका गुड़िया देवी की बहन ललिता देवी और बहनोई दिनेश उरांव दोनों मेराल थानांतर्गत दिलेली गांव के रहने वाले हैं.

इसे भी पढ़ें: चक्रधरपुर: आदर्श क्‍लब कुसुमगंज ने कल‍िंगा क्‍लब बाराखोली को दी मात

Catalyst IAS
ram janam hospital

पड़ोसी के घर तंत्र मंत्र करते हुए हुई पूजा

The Royal’s
Pitambara
Pushpanjali
Sanjeevani

घटना के विषय में मुन्ना उरांव ने बताया कि उसके पड़ोसी रामशरण उरांव उर्फ गोटा के घर पर एक सप्ताह पूर्व दिलेली निवासी उसके साढ़ू दिनेश उरांव और उसकी पत्नी ललिता देवी दोनों आये थे. इसी दौरान तंत्र मंत्र के लिए ललिता ने अपनी बहन गुड़िया देवी और बहनोई मुन्ना उरांव को सपरिवार रामशरण उरांव उर्फ गोटा के घर पर बुलाया.

जीभ काटी, गर्भाशय और अंतड़ी बाहर निकाला

तीन-चार दिन लगातार तंत्र मंत्र करने के बाद विगत मंगलवार की सुबह सास, पति, देवर और देवरानी के आंखों के सामने बहन और बहनोई आदि ने मिलकर गुड़िया देवी की जीभ काट दी. जब इतने से भी मन नहीं भरा तो उसके प्राइवेट पार्ट के जरिये यूटेरस और अंतड़ी को भी बाहर निकाल दिया, जिसके उसकी दर्दनाक मौत हो गई. मौत के बाद आनन-फानन में बहन बहनोई व अन्य उसके शव को लेकर मायके रंका चले गये और वहां शव को जला दिया.

इसे भी पढ़ें: Blood Donation in Chakradharpur : मारवाड़ी युवा मंच ने क‍िया रक्‍तदान श‍िव‍िर का आयोजन, व‍िधायक सुखराम ने बढ़ाया रक्‍तदाताओं का हौसला

जेठानी के मर्डर का विरोध करने पर देवरानी की पिटाई

तंत्र मंत्र के चक्कर में अपनी सगी बहन की बलि देने वाली ललिता देवी ने घटना का विरोध करने पर बहन की देवरानी उषा देवी पर भी हमला किया. मृतका की देवरानी के सामने सब कुछ घटित हुआ है. वह काफी डरी और सहमी हुई है.

काफी कुरेदने पर उषा देवी ने बताया कि सब कुछ उसकी आँखों के सामने हुआ. उसने बताया कि वह रामशरण उरांव के घर नहीं जा रही थी, लेकिन उसकी जेठानी गुड़िया देवी उसे जबरन उसे और उसके पति शंभू उरांव को भी ले गयी. वहां जाने पर उसकी जेठानी खेलने लगी और उस पर भी खेलने का दबाव बनाया गया.

जब उसने कहा कि उसे कोई भूत प्रेत नहीं लगा है तो उसे उसकी जेठानी ने बांस के डंडे से मारा. जिससे वह बेहोश हो गयी. थोड़ी देर बाद जब होश में आई तो देखा कि उसकी जेठानी के मुहं में हाथ डालकर उसकी बहन ने जीभ को खींचकर बाहर निकाला और काट दिया. अंतड़ी और यूटेरस भी बाहर निकाल लिया.

इसे भी पढ़ें: चक्रधरपुर: आदर्श क्‍लब कुसुमगंज ने कल‍िंगा क्‍लब बाराखोली को दी मात

इसके बाद जेठानी की मौत हो गई. बहन बहनोई व अन्य लोग उसे इलाज के बहाने रंका ले गए और वहीं जला दिया. उषा देवी ने बताया कि जब उसने इसका विरोध किया तो उसे बुरी तरह मारा पीटा गया. भक्तिन ललिता देवी पटककर उसके सीने पर चढ़ गयी और गला दबाने लगी. उसने किसी तरह अपनी जान बचाई.

पुलिस ने पांच को लिया हिरासत में

तंत्र मंत्र के चक्कर महिला की बलि देने की सूचना मिलने पर थाना प्रभारी योगेन्द्र कुमार ने रविवार को उरांव टोला पहुंचे और मामले की छानबीन की.
घटनास्थल का जायजा लेने के बाद थाना प्रभारी योगेंद्र कुमार ने मृतका के पति मुन्ना उरांव व रामशरण उरांव उर्फ गोटा के दो पुत्र व दो पुत्रवधू समेत पांच लोगों को हिरासत में ले लिया है. पुलिस सभी लोगों से पूछताछ कर रही है.

मर्डर का मामला प्रकाश में आया है: एसडीपीओ

एसडीपीओ प्रमोद केसरी ने कहा कि उरांव टोला निवासी मुन्ना उरांव की पत्नी गुड़िया देवी के मर्डर का मामला प्रकाश में आया है. कुछ लोगों को पूछताछ के लिए लाया गया है.अनुसंधान जारी है.

इसे भी पढ़ें: मांडर उपचुनावः शिल्पी के माथे मांडर का ताज, गंगोत्री को मिली निराशा

अवैध शराब कारोबारी राम शरण की भूमिका संदिग्ध, फरार

तंत्र मंत्र के चक्कर में हुई हत्या मामले में रामशरण उरांव उर्फ गोटा की भूमिका संदिग्ध बताई जा रही है. बताया जा रहा कि रामशरण के यहां ही महिला के साथ चल तंत्र-मंत्र के चक्कर में बलि दी गयी है. घटना के बाद से ही रामशरण फरार बताया जा रहा है.

पंचायती में मामले को दबाने की कोशिश

तंत्र मंत्र के चक्कर महिला की हत्या के बाद उरांव टोले में ग्रामीणों ने आपस में बैठक की. उक्त बैठक में मामले को दबा देने को कहा गया. बताया जाता है उक्त मीटिंग में उपस्थित वार्ड पार्षद के पति योगेश उरांव ने कथित तौर पर मामले को दबा देने की हिदायत दी थी.

हालांकि मामला प्रकाश में आने के बाद योगेश इससे इंकार कर रहे हैं. योगेश ने कहा कि घटना के बाद परिवार में आपस में झंझट होने लगा तो पंचायती के लिए बैठक हुई थी.उक्त बैठक में मृतका गुड़िया देवी के पति मुन्ना उरांव ने श्राद्ध के बाद सब कुछ बताने और मामले को आगे बढ़ाने को कहा था.

यह पूछे जाने पर कि वे एक जिम्मेदार व्यक्ति हैं उन्होंने इतनी बड़ी घटना की सूचना पुलिस को क्यों नहीं दी? इसके जवाब में उन्होंने कहा कि मृतका के पति मुन्ना ने जब आगे कदम नहीं बढ़ाया और श्राद्ध के बाद सब कुछ बताने के लिए कहा तो वे इसकी सूचना पुलिस को क्यों देते?

इसे भी पढ़ें: जनजातीय मंत्रालय के कार्यक्रम का झारखंड सरकार ने किया बहिष्कार, बताया सीएम हेमंत का अपमान

Related Articles

Back to top button