GarhwaJharkhandLead News

गढ़वा : नगर उंटारी एसडीओ ने बालू लदे 23 ट्रक पकड़े, रेत माफिया ने की कुचलने की कोशिश

Garhwa : जिले के नगर उंटारी अनुमंडल पदाधिकारी आलोक कुमार ने बालू माफिया पर बड़ी कार्रवाई की है. एसडीओ ने नगर उंटारी-यूपी बॉर्डर के बीच से दो दर्जन बालू लदे ट्रक को पकड़ा है. सभी की जांच के लिए खनन पदाधिकारी को पत्र लिखा है. हालांकि इस कार्रवाई से बौखलाए बालू माफिया ने एसडीओ को कुचलने की कोशिश की, लेकिन इसमें वे बाल बाल बच गए. फोन पर हुई बातचीत में इसकी पुष्टि एसडीओ आलोक कुमार ने की है. हालांकि इस संबंध में अभी तक कोई प्राथमिकी दर्ज नहीं करायी गयी है. गढ़वा के डीसी राजेश पाठक ने कहा कि एसडीओ ने अधिकारिक तौर पर इस संबंध में कोई जानकारी नहीं दी है, लेकिन अगर ऐसी बात है तो इसकी जांच करायी जाएगी. एसडीओ से भी बात की जाएगी. किसी कीमत पर बालू माफिया को उनके मंसूबे में कामयाब नहीं होने दिया जाएगा.

एसडीओ आलोक कुमार ने एनएच 75 पर महदेईया से लेकर बिलासपुर यूपी बॉर्डर तक छापेमारी की. इस अभियान में उन्होंने अवैध बालू लदे 23 ट्रक को पकड़ कर पुलिस को सौंप दिया है. साथ ही डीएमओ को सूचित कर पकड़े गये सभी ट्रकों के विरुद्ध अग्रेत्तर कार्रवाई करने को कहा है.

इसे भी पढ़ें : वीर कुंवर सिंह यूनिवर्सिटी में पीएचडी प्रवेश परीक्षा 16 जनवरी को

अवैध बालू लदे पकड़े गये सभी ट्रक झारखंड के विभिन्न घाटों से बालू लेकर यूपी जा रहे थे. एसडीओ के द्वारा पकड़े गये सभी ट्रकों का माप और कागजात की जांच डीएमओ के द्वारा की जा रही है.

इस संबंध में एसडीओ आलोक कुमार ने बताया कि जिले के विभिन्न घाटों से अवैध रूप से और बिना चालान के बालू यूपी भेजे जाने की सूचना मिली थी, जिसके आलोक में उन्होंने एनएच 75 पर महदेईया एवं यूपी बॉर्डर पर वाहन चेकिंग अभियान चलाया गया. चेकिंग में अवैध बालू लदे 23 ट्रक को पकड़ा गया. उन्होंने बताया कि डीएमओ चालान व ओवरलोड की जांच करेंगे. अगर गलत पाया जाता है तो कार्रवाई की जायेगी. उन्होंने बताया कि इस तरह का अभियान अनुमंडल क्षेत्र में लगातार जारी रहेगा.

उधर, डीएमओ नंददेव बैठा ने बताया कि सभी गाड़ियों की माप तौल की जा रही है. चालान का मिलान किया जा रहा है. जांच के बाद आगे की कार्रवाई की जायेगी. हालांकि कई ट्रकों के चालक फरार हैं. समाचार लिखे जाने तक कानूनी कार्रवाई नहीं हुई है.

इसे भी पढ़ें : सड़क निर्माण के लिए राशि की मांग एवं भुगतान के काम में बरती जा रही कोताही, काम धीमा

Related Articles

Back to top button