Crime NewsGarhwaJharkhand

गढ़वा: डायन-ओझा बताकर तीन महिलाओं सहित चार को अर्द्धनग्न कर पीटा

  • दो गिरफ्तार, दो दर्जन से अधिक पर प्राथमिकी

Palamu/Garhwa: पलामू प्रमंडल के गढ़वा जिले में अंधविश्वास में पड़कर कर ग्रामीणों की भीड़ ने अमानवीय घटना को अंजाम दिया. डायन और ओझा बताकर तीन महिला सहित चार को अर्द्धनग्न कर पिटायी की. मार डालने की कोशिश की गयी, लेकिन समय पर पुलिस के पहुंच जाने से लोगों की जान बचायी गयी. मामले में पुलिस ने दो लोगों को गिरफ्तार किया है, जबकि दो दर्जन से अधिक लोगों पर प्राथमिकी दर्ज की है.

इसे भी पढ़ें – भीमा कोरेगांव हिंसा मामले में  83 वर्षीय मानवाधिकार कार्यकर्ता फादर स्टेन स्वामी 23 अक्टूबर तक न्यायिक हिरासत में

ram janam hospital
Catalyst IAS

गढ़वा के नारायणपुर गांव में हुई घटना

The Royal’s
Pitambara
Pushpanjali
Sanjeevani

गढ़वा जिले में डायन-ओझा की अफवाह फैलाकर तीन महिला समेत चार लोगों को नंगा कर उन्हें मार डालने की आपराधिक कार्रवाई की जा रही थी, लेकिन पुलिस की सक्रियता से क्रूर समाज के चंगुल में फंसे सभी चार लोगों की जान बच गयी.

डीएसपी बहामन टुटी ने कहा कि त्वरित कार्रवाई करते हुए दो आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है. अन्य आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी की जा रही है.

बताया जाता है कि गढ़वा थाना के नारायणपुर गांव में दो लड़कियां भूत लगने का नाटक करने लगीं और गांव की ही तीन महिलाओं पर डायन होने का आरोप लगाने लगी.

इस मामले को लेकर समुदाय के लोगों ने गांव में पंचायत बुलाई. पंचायत में जो भी आया, सबके मोबाइल जब्त कर लिये गये. उन्हें लाठी-डंडे और अन्य परंपरागत हथियार का भय दिखाकर वहां से वापस लौटने भी नहीं दिया गया.

नशे में धुत्त लोगों ने डायन होने के आरोप में तीन महिलाओं को घसीटते हुए भीड़ के बीच लाया. एक युवक को भी ओझा होने का आरोप लगाकर वहां लाया गया. लोगों ने महिलाओं को नंगा कर नचाने का प्रयास किया.

बात नहीं मानने पर महिलाओं की बेरहमी से पिटाई शुरू कर दी गई. इस दौरान बुजुर्ग महिला की आंख फोड़ने का भी प्रयास किया गया. एक महिला की इतनी पिटाई की गयी कि उसे बेहोशी की हालत गढवा सदर अस्पताल पहुंचाया गया.

इसे भी पढ़ें – हाइकोर्ट ने कहा- जब गुटखा खुलेआम बिक रहा है, तो ऐसे प्रतिबंध का क्या मतलब?

आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी तेज: एसडीपीओ

गढ़वा अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी बहामन टुटी ने कहा कि उन्हें सूचना मिली थी कि 300 लोग मिलकर नारायणपुर गांव में डायन बताकर महिलाओं की पिटाई कर रहे हैं. अविलम्ब वहां पुलिस बल को भेजा गया.

घटना स्थल पर 70-80 लोग थे, जो पुलिस को देखते ही फरार हो गये. रात में ही इस घटना को अंजाम देने वाले आरोपियों के खिलाफ छापेमारी शुरू कर दी गयी थी. दो लोगों को गिरफ्तार किया गया है. शेष की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी की जा रही है.

इसे भी पढ़ें – हाइकोर्ट ने पूछा, एक ही दिन में पांच लाख बच्चों को टी-शर्ट और टॉफी कैसे बांटी?

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button